खेल: इंदौर टेस्ट में भारत की हार के बाद सुनील गावस्कर का बड़ा बयान और केएस भरत के खराब फॉर्म पर फूटा फैंस का गुस्सा

इंदौर टेस्ट में भारत की हार के बाद सुनील गावस्कर ने कहा है कि भारतीय बल्लेबाजों में पिच का खौफ था, वहीं टीम इंडिया की बल्लेबाजी फ्लॉप रही साथ ही विकेटकीपर बल्लेबाज केएस भरत की टीम में मौजूदगी पर फैंस ने सवाल उठाए हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

इंदौर टेस्ट में भारत की हार के बाद सुनील गावस्कर बोले, भारतीय बल्लेबाजों में पिच का था खौफ

बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी के तीसरे टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया से भारत की शर्मनाक नौ विकेट की हार के बाद महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर ने कहा कि मेजबान टीम को पर्याप्त रन नहीं मिले, उनके मन में पिच को लेकर काफी सारी बातें घूम रही थी। चार मैचों की श्रृंखला में पिच की स्थिति ने सुर्खियां बटोरी है। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) से औसत रेटिंग हासिल करने वाले नागपुर और दिल्ली टेस्ट के लिए पिच पर काफी कमेंट्स हुए। ऑस्ट्रेलिया को पहले टेस्ट में एक पारी और 132 रन से हराया था और दूसरा मैच तीन दिन के अंदर 6 विकेट से हार गया था। हालांकि, भारत ने इंदौर में तीसरे टेस्ट में स्पिन आक्रमण के खिलाफ निराशाजनक बल्लेबाजी प्रदर्शन के बाद ऑस्ट्रेलिया को 4 मैचों की श्रृंखला में वापसी करने और इसे 1-2 करने की अनुमति दी। गावस्कर ने स्टार से कहा, पहले दो मैचों में उन्होंने रन नहीं बनाए। नागपुर में रोहित शर्मा के अलावा उन्हें पर्याप्त रन नहीं मिले। जब आप मैच में पर्याप्त रन नहीं बनाते हैं, तो उनकी बल्लेबाजी में थोड़ी अस्थिरता होती है।

उन्होंने आगे कहा, भारतीय बल्लेबाजों ने पर्याप्त रन नहीं बनाए। वे पिच से तालमेल नहीं बैठा सके। उन्होंने पिच को खुद पर हावी होने दिया। यह वह पिच थी जो उनके दिमाग से खेल रही थी, दूसरी पारी में तो और भी ज्यादा पिच का खौफ था। तीसरे टेस्ट के पहले दिन बल्लेबाजी करने का फैसला करने के बाद भारत को सिर्फ 109 रन पर समेट दिया गया, जहां ऑस्ट्रेलिया के स्पिनर मैथ्यू कुहनमैन ने अपना पहला पांच विकेट हासिल किया। दूसरी पारी में ऑफ स्पिनर नाथन लियोन ने टेस्ट क्रिकेट में अपना दूसरा आठ विकेट लेने का कारनामा पूरा किया और भारत को 169 रनों पर ऑलआउट कर 76 रनों का लक्ष्य रखा। ऑस्ट्रेलिया को तीसरे टेस्ट में जीत की कगार पर खड़ा कर दिया। ट्रेविस हेड और मार्नस लाबुशेन ने शुक्रवार को होल्कर स्टेडियम में तीसरे टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया को भारत पर नौ विकेट से जीत दिलाने के लिए क्रमश: नाबाद 49 और 28 रनों की पारी खेली। अपनी पसंदीदा टीम की हार देखने के बाद, प्रशंसकों ने रोहित शर्मा की टीम की भी खिंचाई की, जबकि कई लोगों ने महसूस किया कि ऋषभ पंत की मौजूदगी भारत को मैच बचाने में मदद कर सकती थी।

खेल: इंदौर टेस्ट में भारत की हार के बाद सुनील गावस्कर का बड़ा बयान और केएस भरत के खराब फॉर्म पर फूटा फैंस का गुस्सा

हॉकी इंडिया ने क्रेग फुल्टन को राष्ट्रीय टीम का नया मुख्य कोच नियुक्त किया

हॉकी इंडिया ने 10 मार्च से शुरू हो रही एफआईएच हॉकी प्रो लीग में अपने घरेलू मैचों से पहले शुक्रवार को भारतीय पुरुष हॉकी टीम के नए मुख्य कोच के रूप में क्रेग फुल्टन की नियुक्ति की घोषणा की। हॉकी इंडिया ने कहा कि लगभग 25 साल के कोचिंग अनुभव के साथ 48 वर्षीय दक्षिण अफ्रीकी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद जल्द से जल्द टीम से जुड़ेंगे। फुल्टन ने अपनी पिछली भूमिकाओं में अनुकरणीय परिणाम दिखाए हैं। 2014 से 2018 के बीच मुख्य कोच के रूप में आयरिश पुरुष टीम के साथ उनकी प्रसिद्धि में वृद्धि शुरू हुई, जब टीम ने रियो ओलंपिक खेलों 2016 के लिए क्वालीफाई किया, जो 100 वर्षों में उनकी पहली ओलंपिक क्वालीफाई थी। इस ऐतिहासिक उपलब्धि ने उन्हें 2015 में एफआईएच कोच ऑफ द ईयर का भी सम्मान दिलाया था। उन्होंने मौजूदा ओलंपिक चैंपियन बेल्जियम के साथ सहायक कोच के रूप में काम किया, जहां टीम ने टोक्यो में स्वर्ण पदक जीता था। वह बेल्जियम के कोचिंग स्टाफ का भी हिस्सा थे, जब टीम ने भुवनेश्वर में 2018 में विश्व कप जीता था।

बेल्जियम लीग जीतने वाले बेल्जियम क्लब को कोचिंग देने के बाद 48 वर्षीय फुल्टन को बेल्जियम कोच ऑफ द ईयर 2023 नामित किया गया था। वह विश्व हॉकी में बेल्जियम की राष्ट्रीय टीम के उदय का भी हिस्सा रहे हैं। टीम को 2018 में विश्व नंबर 5 से 2023 में वल्र्ड नंबर 3 पर ले गए। दक्षिण अफ्रीकी टीम के साथ एक हॉकी खिलाड़ी के रूप में अपने शानदार करियर में, फुल्टन ने 10 वर्षों में 195 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले हैं। उन्होंने 1996 में अटलांटा ओलंपिक और 2004 में एथेंस ओलंपिक में अपनी घरेलू टीम दक्षिण अफ्रीका के लिए खेला था। उन्होंने विश्व कप और राष्ट्रमंडल खेलों में भी शिरकत की है। मुख्य कोच की भूमिका के रूप में फुल्टन की नियुक्ति पर बोलते हुए, हॉकी इंडिया के अध्यक्ष डॉ. दिलीप टिर्की ने कहा, मुझे यह बताते हुए बहुत खुशी हो रही है कि हॉकी इंडिया ने भारतीय पुरुष हॉकी टीम के साथ मुख्य कोच की भूमिका के लिए क्रेग फुल्टन के नाम को अंतिम रूप दिया है। उन्होंने कहा, मैं पुरुषों की हॉकी टीम के लिए इस नए चरण में उनके साथ मिलकर काम करने के लिए उत्सुक हूं। वह कोचिंग में जबरदस्त अनुभव रखते हैं और उनकी कार्य नीति दुनिया में टीम के प्रदर्शन को बढ़ाने में आत्मविश्वास पैदा करती है। मैं क्रेग का भारत में स्वागत करता हूं और उन्हें शुभकामनाएं देता हूं। इससे पहले, एफआईएच ओडिशा हॉकी मेन्स विश्व कप 2023 के समापन के बाद, जहां टीम इंडिया ने निराशाजनक संयुक्त-9वां स्थान हासिल किया। इस प्रदर्शन के बाद ग्राहम रीड ने अपने मुख्य कोच पद से इस्तीफा दे दिया था।

खेल: इंदौर टेस्ट में भारत की हार के बाद सुनील गावस्कर का बड़ा बयान और केएस भरत के खराब फॉर्म पर फूटा फैंस का गुस्सा

टेस्ट क्रिकेट में कोहली की फॉर्म पर हेडन ने कहा, तकनीक में कुछ भी गलत नहीं

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व बल्लेबाज मैथ्यू हेडन ने कहा है कि विराट कोहली की तकनीक में कुछ भी गलत नहीं है। उन्होंने कहा कि खिलाड़ी एक ऐसे दौर से गुजरते हैं जहां वे रन नहीं बना पाते हैं, लेकिन क्रीज पर अधिक समय तक कैसे टिके रहें, बल्लेबाज को इस पर काम करने की जरूरत है। वह हाल के दिनों में टेस्ट क्रिकेट में बड़ा स्कोर हासिल करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, क्योंकि यह स्टार बल्लेबाज अपनी पिछली 15 पारियों में सबसे लंबे प्रारूप में 50 के पार नहीं जा पाए हैं। मौजूदा बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में, कोहली 5 पारियों में सिर्फ 111 रन ही बना पाए हैं।

हेडन ने स्टार स्पोर्ट्स को बताया, "ऐसा लगता है कि तकनीकी दृष्टिकोण से कुछ भी गलत नहीं है। जब आप करियर के उस पड़ाव पर पहुंच जाते हैं, जहां विराट ने हासिल किया है, तो कभी-कभी फोकस करने में समस्या आ जाती है। उन्होंने कहा, हम सभी जानते हैं कि विराट ने क्या हासिल किया है। उनके पास काफी अच्छी ऊर्जा है। आप टीम में उनके लिए मौजूद प्रशंसा को देख सकते हैं।" हेडन ने यह भी कहा कि उनके करियर के दूसरे भाग में एकाग्रता कारक बल्लेबाजों के लिए एक मुद्दा बन जाता है और यह कोहली के मामले में हो सकता है। हेडन ने कहा, सवाल बहुत है लेकिन विराट को खुद इस खराब दौर से निकलने का रास्ता खोजना होगा। खिलाड़ी खराब दौर से गुजरते हैं। तीसरे टेस्ट में भारत पर नौ विकेट की शानदार जीत के बाद ऑस्ट्रेलिया ने आईसीसी विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप फाइनल में जगह बनाने में मदद की है। जबकि 9 मार्च से अहमदाबाद में शुरू होने वाले चौथे टेस्ट में जीत भारत की डब्ल्यूटीसी फाइनल में जगह पक्की कर देगी।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

केएस भरत के खराब फॉर्म पर फूटा फैंस का गुस्सा

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी का तीसरा टेस्ट मेहमान टीम ने जीत लिया। इंदौर के होलकर स्टेडियम में खेले गए इस मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को करारी शिकस्त दी। इस मैच में टीम इंडिया की बल्लेबाजी पूरी तरह से फ्लॉप रही साथ ही विकेटकीपर बल्लेबाज केएस भरत की टीम में मौजूदगी पर फैंस ने सवाल उठाए हैं।

दरअसल, इंदौर में भारत की हार के बाद से फैंस ने केएल राहुल से हटकर सोचना शुरु कर दिया। इसके बाद अब केएस भरत फैंस के निशाने पर हैं। फैंस के मुताबिक उन्हें मिले मौके का फायदा उठाने में भरत नाकामयाब रहे हैं। मौजूदा सीरीज की पांच पारियों में भरत ने 14 की औसत से महज 57 रन बनाए हैं। ऋषभ पंत की गैरमोजूदगी में उन्हें टीम में अपनी स्थिति पक्की करनी थी लेकिन इसमें उन्होंने निराश किया। फैंस तो यहां तक कहने लगे हैं कि भरत की जगह ईशान किशन या फिर संजू सैमसन को मौका दिया जाना चाहिए।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


/* */