जन्मदिन विशेष: 47 साल के हुए क्रिकेट के ‘दादा’, जानें गांगुली के रिकॉर्ड के बारे में

भारतीय क्रिकेट को नई दिशा दिखाने वाले पूर्व कप्‍तान सौरव गांगुली को उनके 47वें जन्‍मदिन की बधाई देने के लिए सोशल मीडिया पर फैंस उन्‍हें तरह तरह से याद कर रहे हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

सौरव गांगुली यानी दादा आज अपना 47वां जन्मदिन मना रहे हैं। सौरव गांगुली का नाम भारतीय क्रिकेट टीम के सफल कप्तानों में लिया जाता है। भारतीय क्रिकेट को एक मुकाम पर लाने में सौरव गांगुली का बड़ा योगदान रहा है। टीम इंडिया के इस दादा ने वर्ल्ड क्रिकेट में कई बार अपनी दादागीरी दिखाई कर विरोधियों को पस्त भी किया है। ऐसा ही वाक्या लॉर्डस के मैदान पर ही हुआ था जब गांगुली द्वारा लॉर्ड्स की बालकनी से अपनी टी-शर्ट उतारकर एंड्र्यू फ्लिंटॉफ को जवाब दिया था। यह एक ऐसा वाक्या था कि जो शायद ही कोई क्रिकेट प्रेमी भूला होगा।

दरअसल गांगुली ने बताया था कि जब 2002 में इंग्लैंड की टीम भारत आई थी, तो एंड्र्यू फ्लिंटॉफ ने मुंबई के वानखेड़े में सीरीज जीतने के बाद अपनी टी शर्ट उतारकर मैदान का चक्कर लगाया था। इसके बाद लॉर्ड्स में फाइनल मुकाबला जीतने के बाद मैंने भी कुछ ऐसा ही किया।

विस्फोटक बल्लेबाज रहे वीरेंद्र सहवाग ने एक ट्वीट के जरिए दादा को अपने ही अंदाज में जन्मदिन की शुभकामनाएं दी। वीरेंद्र सहवाग ने सौरव गांगुली को लेकर दिल को छू जाने वाला ट्वीट किया। सहवाग ने टवीट में लिखा, ‘हैप्पी बर्थडे दादा, हमारे 56 इंची कप्तान, 56 इंच का सीना, 7वें महीने को 8 तारीख से गुणा करने पर भी 56 होता है और वर्ल्ड कप एवरेज भी दादा का 56 ही रहा है।”

क्रिकेट की अंतरराष्‍ट्रीय संस्‍था आईसीसी ने भी अपने ट्विटर हैंडल से पोस्‍ट शेयर कर दादा को जन्‍मदिन की बधाई दी है। आईसीसी ने इस पोस्‍ट में बताया है कि सौरव गांगुली ने वर्ल्‍ड कप करियर में 21 मैच में 1006 रन बनाए हैं। इसके अलावा वह अब तक हाईएस्‍ट स्‍कोर 183 करने के मामले में इकलौते भारतीय हैं। सौरव ने 1999 के वर्ल्‍ड कप में सर्वाधिक व्‍यक्तिगत स्‍कोर बनाया था। इसके अलावा एक 2003 के वर्ल्‍ड कप में तीन शतक लगाने वाले वह बल्‍लेबाज हैं।

अब बात करते है कि सौरव गांगुली के रिकॉर्ड की। सौरव गांगुली ने इंटरनेशनल क्रिकेट में अपना डेब्यू 11 जनवरी 1992 को महज 19 साल की उम्र में वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे मैच से किया था। इसके बाद सौरव गांगुली को दोबारा टीम इंडिया में आने के लिए 4 साल का लंबा इंतजार करना पड़ा था। इसके अलावा गांगुली ने जून 1996 में इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स में टेस्ट डेब्यू किया था। जिसमें उन्होंने शानदार शतक लगाते हुए 131 रन बनाए थे। अपनी डेब्यू सीरीज़ में मैन ऑफ़ द सीरीज़ का पुरस्कार अपने नाम किया था। गांगुली ने अपने करियर में 113 टेस्ट मैचों में 42.14 की औसत से 7213 रन बनाए, जिनमें 16 शतक और 35 अर्धशतक शामिल हैं। सौरव गांगुली की कप्तानी में भारतीय टीम ने विदेशी धरती पर 28 में से 11 टेस्ट में जीत दर्ज की थी। इस मामले में वह विराट कोहली के बाद दूसरे नंबर पर हैं।

वनडे क्रिकेट की बात करे तो सबसे ज्यादा रन बनाने के मामलें में सौरव गांगुली 8वें स्थान पर है। उन्होंने 311 वनडे मैचों में 41.02 की औसत से 11363 रन बनाए, जिनमें 22 शतक और 72 अर्धशतक शामिल हैं। सौरव गांगुली ने 1999 के वर्ल्ड कप में श्रीलंका के खिलाफ 183 रन की धमाकेदार पारी खेली थी। ये उनके वनडे करियर की सर्वश्रेष्ठ पारी है। यही नहीं वर्ल्ड कप में किसी भी भारतीय खिलाड़ी का ये सर्वश्रेष्ठ निजी स्कोर है।

वनडे में सबसे ज्यादा मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड जीतने वाले सौरव गांगुली तीसरे भारतीय है। उनसे आगे सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली ये कारनामा किया है। इसके अलावा सौरव गांगुली ने 31 बार मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड अपने नाम किया था।

लोकप्रिय