जोहांसबर्ग टेस्टः फिर लड़खड़ाई भारतीय टीम, 54 गेंदें खेलकर पुजारा बना पाए पहला रन

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच में भारतीय पारी को संभालने के लिए पुजारा ने विकेट तो बचाया, लेकिन अपना खाता खोलने में 54 गेंद लगा दिए। इसको लेकर ट्वीटर पर लोगों ने जमकर उनका मजाक उड़ाया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्‍ट सीरीज पहले ही गंवा चुकी टीम इंडिया के सामने अब अपनी प्रतिष्‍ठा बचाने की चुनौती है। सीरीज का तीसरा और अंतिम टेस्‍ट मैच वांडरर्स मैदान में हो रहा है। मैच में टॉस जीतने के बाद पहले बैटिंग करते हुए टीम इंडिया 73वें ओवर में 9 विकेट खोर 166 रन पर खेल रही है। आउट होने वाले बल्‍लेबाजों में केएल राहुल (0), मुरली विजय (8), विराट कोहली (54), अजिंक्‍य रहाणे (9), चेतेश्वर पुजारा (179), विराट कोहली (54), पार्थिव पटेल (2) हार्दिक पंड्या (0), मोहम्मद शमी (8) और इशांत शर्मा (0) हैं। इस समय आखिरी विकेट बचाने के लिए भुवनेश्वर कुमार (14) और जसप्रीत बुमराह मैदान पर संघर्ष कर रहे हैं।

आज के मैच की सबसे खास बात रही भारतीय बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा की बेहदी धीमी पारी। दरअसल कप्तान विराट कोहली का पहले बल्लेबादी करने का फैसला अफ्रीकी गेंदबाजों के सामने गलत साबित हुआ। शुरुआती दो झटकों के बाद टीम इंडिया को उबारने की जिम्मेदारी कप्तान कोहली और चेतेश्वर पुजारा पर आ गई। पुजारा का साथ देने आए कोहली ने सामान्य गति से रन जोड़ने शुरू कर दिए, लेकिन पुजारा ने कुछ ज्यादा ही सावधानी भरे खेल का प्रदर्शन किया और अपने नाम एक अनचाहा रिकॉर्ड बना बैठे।

बेहद संभलकर खेल रहे पुजारा ने अपना खाता खोलने के लिए 54 गेंदों का इंतजार किया। अपनी पारी की 54वीं गेंद पर उन्होंने 1 रन लेकर अपना खाता खोला। इस पर पूरी टीम ने खड़े होकर तालियां के साथ उनको शाबाशी दी। पुजारा ने 90 मिनट से भी ज्यादा बल्लेबाजी करने के बाद अपना खाता खोला। पुजारा पहला विकेट गिरने के बाद ही बल्लेबाजी के लिए मैदान पर उतरे थे। खाता खोलने से पहले पुजारा हर गेंद को बड़े धीमे अंदाज में खेलते हुए 10-15 यार्ड के दायरे में लुढकाते रहे। अंत में जब उन्होंने 54वीं गेंद पर जब पहला रन बनाया तो पूरे टीम इंडिया के ड्रेसिंग रूम के साथ ही पूरे स्टेडियम में तालियां बज उठीं। इस पर पुजारा भी हल्का शर्माते हुए मुस्कुराने लगे।

पुजारा अपनी इस पारी के लिए ट्विटर पर भी ट्रोल हो गए। मैच के दौरान बिना रन बनाए खेल रहे पुजारा के हर गेंद खेलने के बाद ट्विटर पर लोग उनका मजाक उड़ाते रहे। कई क्रिकेट फैंस ने उनकी धीमी पारी को लेकर ट्विटर पर जमकर मजाक उड़ाया।

पुजारा की पारी टेस्ट क्रिकेट के इतिहास की बेहद धीमी पारी जरुर थी,लेकिन इस मामले में पुजारा से आगे और भी कई दिग्गज खिलाड़ी हैं। सबसे धीमी गति से अपना खाता खोलने वालों में इंग्लैंड के जॉन मर्रे सबसे ऊपर हैं। उन्होंने 1962-63 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 79 गेंदों पर अपना खाता खोला था। भारतीय खलाड़ियों की बात करें तो टीम इंडिया के वर्तमान मुख्य कोच रवि शास्त्री भी इस फेहरिस्त में पुजारा से काफी आगे हैं। शास्त्री ने 1992-93 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ही खेलते हुए 68वीं गेंद पर अपना खाता खोला था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia