खेल

कोच रमेश पवार ने कहा, सिर्फ अपने लिए खेलती हैं मिताली, मिताली ने बताया इसे ‘काला दिन’

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की खिलाड़ी मिताली राज ने ट्विटर के जरिए कोच की सफाई पर निराशा जताते हुए लिखा कि मेरे ऊपर जो आरोप लगे हैं मैं उनसे बहुत दुखी और निनराश हूं। 

फोटो: सोशल मीडिया 

नवजीवन डेस्क

महिला टी-20 विश्व कप के सेमीफाइनल के दौरान टीम से बाहर किए जाने पर मिताली राज के सवालों पर टीम कोच रमेश पवार ने सफाई दी है। लेकिन, इस सफाई में उन्होंने नए सिरे से मिताली राज पर आरोप लगाए हैं। पवार के आरोपों को मिताली राज ने उनके खेल के प्रति समर्पण पर उंगली उठाना करार देते हुए इसे अपने ‘काला दिन’ की संज्ञा दी है। उन्होंने एक ट्वीट में कहा कि, “मैं इससे बेहद दुखी हूं कि मेरे खेल समर्पण पर उंगलियां उठाई गई हैं। 20 वर्षों तक देश के लिए खून-पसीना बहाने का यही नतीजा मिलना था।”

दरअसल मिताली राज ने पिछले दिनों बीसीसीआई को लिखे एक पत्र में कोच रमेश पवार पर भेदभाव के आरोप लगाए थे। इसके जवाब में पवार ने बीसीसीआई को अपनी रिपोर्ट दी है। इस रिपोर्ट में मिताली पर संन्यास लेने की धमकी देने और ब्लैकमेल करने के आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि मिताली टीम में अपनी भूमिका समझ नहीं पाईं और उससे तालमेल नहीं बिठा पाईं, अपने खुद के रिकॉर्ड के लिए खेलती रहीं। उन्होंने लिखा कि मिताली टीम मीटिंग में बहुत कम बोलती थीं।

पवार ने आगे कहा, “प्रैक्टिस मैचों में मिताली तेजी से रन बनाने के लिए जूझ रही थीं, क्योंकि विकेट धीमी और कम उछाल भरी थी। उनकी तत्परता गायब थी और वह अपनी सीमित योग्यता और फिटनेस की वजह से झुककर अपने शॉट भी नहीं खेल पा रही थीं। उन्हें तर्कपूर्ण ढंग से बात कही गई थी कि वह मिडिल ऑर्डर में खेलेंगी (न्यूजीलैंड के मैच से पहले) और वह इससे सहमत भी थीं।”

उन्होंने आगे कहा कि पाकिस्तान के खिलाफ मैच से पहले मिताली राज ने पूछा कि वह ओपनिंग क्यों नहीं कर रही हैं और उस दौरे के चयनकर्ता से कहा, “वह या तो ओपनिंग करेंगी या टीम में नहीं रहेंगी।' पवार ने ये भी आरोप लगाया है कि मिताली ने ओपनिंग न मिलने पर रिटायरमेंट लेने तक की धमकी दी थी।”

गौरतलब है कि महिला टी-20 विश्व कप के सेमीफाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए मैच में मिताली राज को प्लेइंग इलेविन में शामिल नहीं किया गया था और इस मैच में भारतीय टीम को हार का सामना करना पड़ा था। इसके बाद ही टीम में मिताली को शामिल न करने पर सवाल खड़े होने लगे थे। इस विवाद ने धीरे-धीरे बड़ा रूप लेना शुरू कर दिया और इस दौरान आरोप-प्रत्यारोपों का सिलसिला भी शुरू हो गया। मिताली ने मंगलवार को टीम के कोच रमेश पोवार और प्रशासकों की समिति (सीओए) की अध्यक्ष डायना इडुल्जी को भी आड़े हाथों लिया है। उन्होंने दोनों पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं।

Published: 29 Nov 2018, 5:53 PM
लोकप्रिय