खेल की 5 बड़ी खबरें: न्यूजीलैंड के इस खिलाड़ी ने टेस्ट क्रिकेट में रचा इतिहास और मेलबर्न में होंगे BBL के बचे मैच!

न्यूजीलैंड के बल्लेबाज डेवोन कॉनवे ने शनिवार को टेस्ट क्रिकेट में इतिहास रच दिया है, वो ऐसा करने वाले न्यूजीलैंड के पहले बल्लेबाज बने और कोरोना के कारण बिग बैश लीग (बीबीएल) के बाकी बचे मैचों को मेलबर्न में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) कराने पर विचार कर सकता है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

NZ vs BAN: डेवॉन कॉनवे ने टेस्ट क्रिकेट में रचा इतिहास

नए साल के आगाज के साथ ही न्यूजीलैंड और बांग्लादेश के बीच 2 टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मैच भी शुरू हो गया है। दोनों टीमों के बीच दो मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मैच माउंट मॉन्गनुई में खेला जा रहा है। मैच का आज यानि के शनिवार को पहला दिन है। बांग्लादेश ने इस मुकाबले में टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया है। मेजबान न्यूजीलैंड के बल्लेबाज डेवॉन कॉनवे ने शानदार शतक के साथ साल 2022 के पहले दिन की शुरुआत की है। उन्होंने 186 गेंदों में 14 चौके और एक छक्के की मदद से अपनी सेंचुरी पूरी की। कॉनवे साल 2022 में इंटरनेशनल शतक जमाने वाले पहले क्रिकेटर बन गए हैं। बाएं हाथ के बल्लेबाज का टेस्ट करियर में यह दूसरा शतक है।

कॉनवे ने 227 गेंदों पर 16 चौके और एक छक्के की मदद से 122 रन बनाए। कॉनवे पिछले साल जून महीने में इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स के मैदान पर डेब्यू किया था, जहां उन्होंने शानदार दोहरा शतक जड़ा था और फिर अगले दो मैचों में दो अर्धशतक बनाए थे। इनमें भारत के खिलाफ विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल भी शामिल है। चोटिल होने की वजह से वह भारत के दौरे पर नहीं आ सके थे। वह न्यूजीलैंड के पहले ऐसे बल्लेबाज बन गए हैं, जिन्होंने पहले 7 टेस्ट मैचों में चार बार फिफ्टी या उससे ज्यादा का स्कोर किया है। कॉनवे ने 101 गेंदों पर अपना अर्धशतक पूरा किया। उन्होंने हसन के ओवर में दो चौके और एक छक्का लगाया। कॉनवे ने न्यूजीलैंड के लिए अबतक तीन वनडे और 20 टी20 इंटरनेशनल मैच भी खेले हैं।

मेलबर्न करेगा बीबीएल के बाकी बचे मैचों की मेजबानी!

कोरोना के कारण बिग बैश लीग (बीबीएल) के बाकी बचे मैचों को मेलबर्न में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) कराने पर विचार कर सकता है। एक मीडिया रिपोर्ट में इस बात की जानकारी दी गई है, क्योंकि मेलबर्न में शेष लीग के बचे मैचों को पूरा करने के लिए कई क्रिकेट मैदान हैं। फॉक्स क्रिकेट की रिपोर्ट में कहा गया, "बिग बैश लीग के आठवें सीजन में बाकी बचे मैचों को मेलबर्न में स्थानांतरित करने पर सीए विचार कर रहा है। विक्टोरिया में कोरोना के मामले बढ़ने के कारण बीबीएल को मेलबर्न में कराने का फैसला लिया जा सकता है।" मेलबर्न को मेजबानी देने का मुख्य कारणों में से एक यह है कि एडिलेड और ब्रिस्बेन दोनों के पास इतने सारे स्टेडियम नहीं हैं। वहीं, एशेज का चौथे एशेज टेस्ट सिडनी में किया जा रहा है, जिसे देखते हुए यहां किसी प्रकार से जोखिम नहीं लिया जा सकता है और पांचवां एशेज टेस्ट होबार्ट में होना है। शनिवार को बीबीएल मैचों की शुरुआत से ठीक पहले, ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर माइकल हसी ने फॉक्स क्रिकेट पर कहा कि मेलबर्न में बाकी बचे मैचों को स्थानांतरित कर देना चाहिए।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

आईएसएल: ईस्ट बंगाल एससी ने मारियो रिवेरा को मुख्य कोच किया नियुक्त

ईस्ट बंगाल एससी ने शनिवार को मारियो रिवेरा को शेष 2021/22 इंडियन सुपर लीग (आईसीएल) सीजन के लिए अपना मुख्य कोच नियुक्त किया। 44 वर्षीय रिवेरा, जोस मैनुअल डियाज की जगह लेंगे, जिनके साथ पिछले महीने क्लब अलग हो गया था और भारत के पूर्व अंतर्राष्ट्रीय रेनेडी सिंह को अंतरिम कोच के रूप में प्रभार दिया गया था। स्पैनियार्ड रिवेरा ने पूर्वी बंगाल को दो सीजन पहले आई-लीग में दूसरे स्थान पर रहने के लिए निर्देशित किया था। उन्होंने ईस्ट बंगाल के पूर्व कोच एलेजांद्रो मेनेंडेज के साथ 2018/19 सीजन में 32 खेलों के लिए डिप्टी के रूप में काम किया था। ईस्ट बंगाल एससी के सीईओ कर्नल शिवाजी समद्दर ने कहा, "हमें उन्हें अपना मुख्य कोच नियुक्त करते हुए खुशी हो रही है। मारियो पहले ईस्ट बंगाल का हिस्सा रहे हैं और भारतीय फुटबॉल में उनका अनुभव बाकी सीजन के लिए फायदेमंद होगा।" रिवेरा, आईएसएल नियमों के अनुसार कोरोना प्रोटोकॉल को देखते हुए कुछ दिन क्वारंटीन में बिताएंगे और उसके बाद टीम का कार्यभार संभालेंगे। ईस्ट बंगाल एससी, जो आठ मैचों में सिर्फ चार अंकों के साथ तालिका में सबसे नीचे है। वह मंगलवार को बम्बोलिम के एथलेटिक स्टेडियम में बेंगलुरु एफसी से भिड़ेगा।

खेल की 5 बड़ी खबरें: न्यूजीलैंड के इस खिलाड़ी ने टेस्ट क्रिकेट में रचा इतिहास और मेलबर्न में होंगे BBL के बचे मैच!

घर में शतक लगाना एक खास एहसास : कॉनवे

न्यूजीलैंड के बल्लेबाज डेवोन कॉनवे ने शनिवार को कहा कि घर पर अपना पहला टेस्ट शतक बनाना एक बेहद खास एहसास है। साथ ही उन्होंने अनुभवी बल्लेबाज रॉस टेलर की प्रशंसा भी की। 2022 में कॉनवे ने शानदार शुरुआत की है। उन्होंने 122 रन बनाकर न्यूजीलैंड के स्कोर को पहले दिन का खेल खत्म होने तक बांग्लादेश के खिलाफ 258/5 पर पहुंच दिया। कॉनवे घरेलू और विदेशी मैचों में पहली पारी में शतक बनाने वाले छठे टेस्ट बल्लेबाज भी बने। कॉनवे ने कहा, "यह एक बहुत ही खास एहसास है। मुझे लगता है कि आज, न्यूजीलैंड के लिए घर में टेस्ट मैच में खेलना बहुत खास था और फिर व्यक्तिगत रूप से रॉस टेलर के साथ विकेट पर रन बनाना बहुत अच्छा लगा। जब मैंने वह मुकाम हासिल किया, तो उन्होंने मुझे बधाई दी। मैं इसे कभी भूल नहीं पाऊंगा।" 30 वर्षीय खिलाड़ी ने इंग्लैंड के खिलाफ टी20 विश्व कप में चोट से उभरने के बाद वापसी की थी। इस चोट के कारण वह भारत के खिलाफ टेस्ट सीरीज भी नहीं खेल पाए थे। इसके बाद, यहां बांग्लादेश की टीम के खिलाफ अभ्यास मैच में कॉनवे शून्य पर आउट हो गए थे। कॉनवे ने कहा, "मैंने पिछले आठ हफ्तों में क्रिकेट नहीं खेला, इसलिए यह शतक लगाकर टीम में योगदान करना अच्छा था। शायद इससे पहले अभ्यास मैच में मेरे चार से पांच कठिन सत्र थे। यह थोड़ा निराशाजनक था कि मैं उस अभ्यास मैच में ज्यादा देर के लिए नहीं खेल सका, लेकिन इसके बावजूद टीम प्रबंधन ने मुझ पर भरोसा जताया और मुझे पहले टेस्ट में मौका दिया।" कॉनवे ने 122 रन बनाने के अलावा, सलामी बल्लेबाज विल यंग के साथ दूसरे विकेट के लिए 138 रनों साझेदारी भी की, जिन्होंने 52 रन बनाए।

खेल की 5 बड़ी खबरें: न्यूजीलैंड के इस खिलाड़ी ने टेस्ट क्रिकेट में रचा इतिहास और मेलबर्न में होंगे BBL के बचे मैच!

दक्षिण अफ्रीका के ये पूर्व क्रिकेटर के शतक न लगाने से चिंतित

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व क्रिकेटर अल्विरो पीटरसन खिलाड़ियों के लगातार टेस्ट शतक न लगाने से चिंतित हैं। उन्होंने आगे कहा कि दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाजों को अपनी मानसिकता बदलने के साथ बड़े शतकों को लक्ष्य के रूप में रखना चाहिए। दक्षिण अफ्रीका सेंचुरियन में भारत से पहला टेस्ट 113 रनों से हार गया और सोमवार से शुरू होने वाले वांडर्स में दूसरे मैच से पहले सीरीज में 1-0 से पीछे है। पीटरसन ने टाइम्स लाइव के हवाले से कहा, "यदि आप इस समय दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाजी क्रम को देखते हैं, तो मैं हमेशा शतक लगाने वाले खिलाड़ियों को देखता हूं। मैं घरेलू क्रिकेट को देखते हुए पूछता हूं कि वे कितनी बार शतक बनाए हैं, क्योंकि यही मापदंड है जब टेस्ट क्रिकेट की बात आती है। आपको लंबे समय तक अच्छी बल्लेबाजी करने वाले खिलाड़ियों की जरूरत होती है।" सुपरस्पोर्ट पार्क में सीरीज के पहले मैच में भारत के पास केएल राहुल के रूप में एक खिलाड़ी शतक बनाने वाला था, जिन्होंने पहली पारी में 123 रन बनाए। दूसरी ओर, दक्षिण अफ्रीका के पास शतक बनाने वाला कोई बल्लेबाज नहीं था। 2021 के बाद से दक्षिण अफ्रीका के आखिरी तीन शतक एडेन मार्करम (पाकिस्तान के खिलाफ 108), डीन एल्गर (श्रीलंका के खिलाफ 127) और हाल ही में संन्यास ले चुके क्विंटन डी कॉक (वेस्टइंडीज के खिलाफ नाबाद 141) रहे हैं।

36 टेस्ट में पांच शतकों सहित 2,093 रन बनाने वाले पिटरसन ने कहा, "यदि आप पिछले वर्षों को देखें तो ऐसे खिलाड़ी थे, जिनके पास प्रथम श्रेणी में बहुत सारे शतक थे, लेकिन इस समय आप राष्ट्रीय टीम में ऐसा नहीं देखते हैं।" 41 वर्षीय पूर्व खिलाड़ी ने इस बात का उदाहरण दिया कि कैसे राहुल के शतक से पहले टेस्ट में दोनों टीमों के बीच का अंतर था। जो चीज आपको 150 और 200 जैसे बड़े स्कोर से जीत दिलाएगी, वह छोटे स्कोर से नहीं। भारत के खिलाफ बॉक्सिंग डे टेस्ट में केएल राहुल ने 123 रन बनाकर अपनी टीम को पहली पारी में एक ठोस बढ़त दिलाने के लिए शानदार प्रदर्शन किया।"

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia