फीफा विश्व कप: उलटफेर का सिलसिला जारी, पेनाल्टी में मेजबान रूस के हाथों शिकस्त के बाद स्पेन बाहर  

फीफा विश्व कप में उलटफेर का सिलसिला रविवार को भी जारी रहा। मेजबान रूस ने लुज्निकी स्टेडियम में पेनाल्टी शूटआउट तक गए रोमांचक प्री-क्वार्टर फाइनल मुकाबले में स्पेन को 4-3 (1-1) से हराकर टूर्नामेंट से बाहर कर दिया।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

सोवियत संघ के बिखरने के बाद पहली बार रूस विश्व कप के क्वार्टर फाइनल में पहुंचने में कामयाब हुआ है। मेजबान टीम के लिए पेनाल्टी शूटआउट में चारों खिलाड़ियों ने गोल दागे जबकि स्पेन के दो खिलाड़ी गोल करने से चूक गए।

स्पने ने मैच की सधी हुई शुरुआत की और पहले मिनट से ही गेंद पर नियंत्रण बनाते हुए अपना स्वाभाविक खेल खेला जिसका लाभ उन्हें जल्द ही मिला। मैच के 12वें मिनट में बॉक्स के बाईं ओर मिली फ्री-किक पर मिडफील्डर इस्को ने शानदार क्रॉस दिया और गेंद मेजबान टीम के डिफेंडर सर्गेई इग्नाशेविक के पांव से लगकर गोल में चली गई। इसके साथ ही इग्नाशेविक विश्व कप में आत्मघाती गोल दागने वाले सबसे अधिक उम्र (38 साल 352 दिन) के खिलाड़ी बन गए।

एक गोल की बढ़त बनाने के बाद भी स्पने ने रूस के डिफेंस का भेदने की कोशिशें जारी रखी जिससे मेजबान टीम को काउंटर अटैक करने के मौके मिले। 41वें मिनट में रूस को कॉर्नर मिला और क्रॉस के दौरान गेंद एफ सी बार्सिलोना से खेलने वाले डिफेंडर जेरार्ड पीके के हाथ से जा टकराई जिसके कारण मेजबान टीम को पेनाल्टी मिली। स्ट्राइकर अर्टयोम डज्युबा ने पेनाल्टी पर गोल दागकर अपनी टीम को 1-1 की बराबरी दिला दी।

दूसरे हाफ की शुरुआत में भी स्पेन ने गेंद पर नियंत्रण बनाने पर विश्वास दिखाया। 51वें मिनट में मिडफील्डर कोके ने बॉक्स में मौजूद स्ट्राइकर डिएगो कोस्टा को पास दिया जिन्होंने हेडर से गोल करने का प्रयास किया, लेकिन वह गेंद को गोलपोस्ट के ऊपर से मार बैठे। कोस्टा की कोशिश के बाद स्पेन ने अपने खेल में आक्रामकता दिखाई और बॉक्स के पास रूस के डिफेंस के मुश्किल में डाले रखा। अंतिम 10 मिनटों में दोनों टीमों के बीच दूसरा गोल दागने की जद्दोजहद तेज हो गई।

मेजबान टीम को 87वें मिनट में काउंटर अटैक पर गोल करने का शानदार मौका मिला लेकिन स्पेन के बॉक्स में एलेक्जेंडर गोलोविन गलती कर बैठे और मैच अतिरिक्त समय में चला गया।

अतिरिक्त समय में भी स्पेन का दबदबा देखने का मिला लेकिन वे गोल करने में कामयाब नहीं हो पाए जिस कारण मैच पेनाल्टी शूटआट में गया।

मेजबान टीम के लिए पेनाल्टी शूटआउट में फेडर स्मोलोव, इग्नाशेविक, गोलोविन और डेनिस चेरीशेव ने गोल किए। स्पेन के लिए आंद्रेस इनिएस्ता, जेरार्ड पीके और सर्गियो रामोस गोल करने में कामयाब रहे लेकिन कोके और इयागो आसपास गोल दागने से चूक गए।

लोकप्रिय