पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने टेस्ट क्रिकेट में की असीमित बाउंसरों की मांग, जानें क्या कहा?

टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज गेंद फेंकने वाले अख्तर ने कहा कि आधुनिक समय के क्रिकेटर नरम होते हैं और वह अपने खेल के दिनों में बल्लेबाजों को चोट पहुंचाना चाहते थे।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने टेस्ट क्रिकेट में वापसी के लिए बोडीलाइन गेंदबाजी का आह्वान किया है और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) से पाकिस्तान में चल रहे ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन मैचों की श्रृंखला में बाउंसरों की संख्या पर प्रतिबंध हटाने को कहा है। टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज गेंद फेंकने वाले अख्तर ने कहा कि आधुनिक समय के क्रिकेटर नरम होते हैं और वह अपने खेल के दिनों में बल्लेबाजों को चोट पहुंचाना चाहते थे।

अख्तर ने शनिवार को डेली मेल के हवाले से कहा, "आजकल, वे (आधुनिक क्रिकेट खिलाड़ी) बहुत नरम हैं। मुझे नहीं लगता कि आक्रामकता अब उतनी है। मुझे नहीं पता क्यों। मुझे असीमित बाउंसर चाहिए। बॉडीलाइन गेंदबाजी अनुमति दी जानी चाहिए।"

बॉडीलाइन गेंदबाजी को लगभग 90 वर्षों के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया है और टेस्ट क्रिकेट में गेंदबाज 1994 से प्रति ओवर दो बाउंसर तक सीमित हैं। बॉडीलाइन जिसे फास्ट लेग थ्योरी बॉलिंग भी कहा जाता है। उसको 1932-33 एशेज के दौरान अंग्रेजी टीम द्वारा नियोजित किया गया था।

रणनीति में बल्लेबाज के शरीर पर गेंद को फेंकना शामिल था, उसके पास बल्लेबाजों के शरीर पर गेंद मारने का विकल्प था, लेकिन यह उनके लिए जोखिम भरा हो सकता था। इसलिए, इसे जल्द ही गैरकानूनी घोषित कर दिया गया था।

लेकिन, उपमहाद्वीप, वेस्टइंडीज और यहां तक कि ऑस्ट्रेलिया में सपाट पिचों की पेशकश के साथ, अख्तर ने टेस्ट क्रिकेट के लिए बॉडीलाइन की वापसी का आह्वान किया।

ऑस्ट्रेलिया में कुख्यात 2004/05 टेस्ट श्रृंखला को याद करते हुए जिसमें उन्होंने मैथ्यू हेडन, जस्टिन लैंगर और रिकी पोंटिंग को परेशान करने की कोशिश की, अख्तर ने कहा, "मैंने उन्हें बॉडीलाइन गेंदबाजी करके परेशान किया था। 2005 की श्रृंखला में, मेरी और ऑस्ट्रेलियाई खिलाई से कहासुनी हुई थी, क्योंकि मैं उस समय अपनी प्रतिभा प्रदर्शित करना चाहता था (और दिखाना) कि मैं तुमसे बेहतर हूं।"


अख्तर ने कहा, "अगर यह रिकी पोंटिंग नहीं होते तो मैं उनका (बल्लेबाज का) उन्हें गंभीर चोट दे सकता था, क्योंकि मैं तेज गेंदबाजी करता था।"

अख्तर ने यह भी कहा कि उन्हें उम्मीद है कि कोई तेज गेंदबाज एक दिन 161.3 किमी/घंटा का रिकॉर्ड तोड़ देगा।

अख्तर ने कहा, "मैं वास्तव में विश्वास करना चाहता हूं कि कोई ऐसा गेंदबाज होना चाहिए जो मेरा रिकॉर्ड तोड़ने के लिए तैयार हो। मैं उन्हें गले लगाने वाला पहला व्यक्ति बनूंगा।"

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia