खेल की 5 बड़ी खबरें: भुवनेश्वर-चहल की T20 रैंकिंग में बल्ले-बल्ले! और ओलिंपिक में भारत 2 और मेडल जीतने के करीब

भुवनेश्वर आईसीसी की टी20 रैंकिंग्स में भारत की ओर से सबसे ऊंची रैंक वाले गेंदबाज हैं। वह फिलहाल 16वें स्थान पर पहुंच गए हैं और टोक्यो ओलंपिक का छठा दिन भारत के लिए अच्छा रहा। बैडमिंटन, तीरंदाजी और बॉक्सिंग से देश के लिए अच्छी खबर सामने आई है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

ICC टी-20 रैंकिंग में भुवनेश्वर कुमार-युजवेंद्र चहल की छलांग

भारतीय कप्तान विराट कोहली और सीनियर बल्लेबाज केएल राहुल आईसीसी टी-20 इंटरनेशनल रैंकिंग में बल्लेबाजों की लिस्ट में क्रमश: पांचवें और छठे स्थान पर बरकरार हैं। राहुल और कोहली हालांकि उस भारतीय टीम का हिस्सा नहीं हैं, जो श्रीलंका में टी-20 सीरीज खेल रही है। लेकिन इस सीरीज में खेल रहे तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार को रैंकिंग में फायदा मिला, जो रविवार को हुए पहले टी-20 मैच में 22 रन देकर चार विकेट झटकने की बदौलत बॉलरों की लिस्ट में 16वें स्थान पर पहुंच गए। लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल पहले मैच में किफायती रहे थे और उन्हें 10 पायदान का फायदा मिला, जिससे वे लिस्ट में 21वें नंबर पर पहुंचने में सफल रहे हैं। श्रीलंका के वानिंदु हसारंगा अपने शानदार प्रदर्शन से दूसरे स्थान पर हैं। टी-20 बल्लेबाजों की रैंकिंग में रोहित शर्मा नहीं खेलने के कारण 14वें स्थान पर पहुंच गए हैं, जबकि शिखर धवन 38 गेंद में 46 रन की पारी की बदौलत 29वें स्थान पर पहुंच गए हैं। वनडे रैंकिंग में कोहली और रोहित टॉप 10 में पाकिस्तान के बाबर आजम के पीछे हैं, जबकि जसप्रीत बुमराह गेंदबाजों की रैंकिंग में सातवें स्थान पर काबिज एकमात्र भारतीय हैं। ऑलराउंडरों की लिस्ट में रविंद्र जडेजा नौवे स्थान पर बरकरार हैं।

टोक्यो ओलिंपिक छठा दिन: दीपिका-पूजा का जोरदार प्रदर्शन, भारत 2 और मेडल जीतने के करीब

टोक्यो ओलंपिक का छठा दिन भारत के लिए अच्छा रहा। बैडमिंटन, तीरंदाजी और बॉक्सिंग से देश के लिए अच्छी खबर सामने आई है। आपको बता दें, तीरंदाजी और बॉक्सिंग में भारत मेडल जीतने के करीब पहुंच चुका है। तीरंदाज दीपिका कुमारी और बॉक्सर पूजा रानी अंतिम 8 में प्रवेश कर चुकी हैं। वहीं, बैडमिंटन में पीवी सिंधु ने हांगकांग की चीयूंग नगन को हरा दिया है। वह नॉकआउट स्टेज में पहुंच गई हैं। छठे दिन भारत के लिए कैसा रहा, चलिए आपको बताते हैं।

महिला हॉकी: ग्रेट ब्रिटेन ने भारत की महिला हॉकी टीम को 3-0 से हरा दिया। भारतीय टीम की ये तीसरी हार है।

बैडमिंटन: पीवी सिंधु हांगकांग की चीयूंग नगन यी को हराकर नॉकआउट में पहुंचीं।बी साई प्रणीत नीदरलैंड के मार्क कैलजॉव से 14-21, 14-21 से हार गए। प्रणीत का ओलिंपिक अभियान खत्म हो गया है।

तीरंदाजी: दीपिका कुमारी अंतिम 8 में पहुंचीं, प्रवीण जाधव भी अंतिम 16 में हारे, तरुणदीप राय भी टोक्यो ओलंपिक से बाहर हुए।

बॉक्सिंग: पूजा रानी क्वार्टर फाइनल में पहुंचीं। मेडल से एक जीत दूर।

रोइंग: भारतीय टीम फाइनल में जगह नहीं बना पाई।

सेलिंग: पुरुषों की स्किफ 49-एर में वरुण ठक्कर और केसी गणपति रेस 4 में 19वें स्थान पर रहे। पहली दो रेसों में 18वें स्थान पर रहने के बाद इस जोड़ी ने अपने प्रदर्शन में सुधार करते हुए रेस 3 में 17वां स्थान हासिल किया। लेकिन रेस 4 में वे दो स्थान खिसक गए।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

युवराज के फाउंडेशन ने तेलंगाना के अस्पताल में लगावाए 120 बेड

भारत के पूर्व ऑलराउंडर और दो बार के विश्व कप विजेता टीम के सदस्य रहे युवराज सिंह की संस्थान यूवीकैन फाउंडेशन ने तेलंगाना के निजामाबाद के सरकारी मेडिकल कॉलेज और जनरल अस्पताल में 120 क्रिटिकल केयर यूनिट (सीसीयू) बेड स्थापित किए हैं। फाउंडेशन को इसके लिए एसेंचर से वित्तीय सहायता मिली है। यूवीकैन फाउंडेशन ने अस्पताल को कई तरह के चिकित्सा उपकरण उपलब्ध कराए जिसमें बीपैप मशीन, आईसीयू वेंटिलेटर, पेशेंट मॉनिटर, क्रैश कार्ट और ऑक्सीजन सिलेंडर शामिल है। युवराज ने एक बयान जारी करते हुए कहा, हम सभी को कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान काफी नुकसान झेलना पड़ा है। हमने अपने प्रियजनों को खोया, हमें ऑक्सीजन, आईसीयू बेड और अन्य महत्वपूर्ण सुविधाओं के लिए भी संघर्ष करना पड़ा।

युवराज ने आगे बयान में कहा, इस तरह के अनिश्ििचत संकट और कई जिंदगी के खोने के साथ-साथ मुझे खुद को एक व्यक्तिगत नुकसान से गुजरना पड़ा जिसके बाद, मैने यह ठाना कि मुझे इस घातक वायरस के खिलाफ लड़ाई में हमारे डॉक्टर्स और फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं का समर्थन करना चाहिए। हमारी पहल मिशन 1000 बेड के माध्यम से , हम लोग अपने देश की मौजूदा क्षमता को बढ़ाने के लिए देश भर के अस्पतालों में केविड-19 क्रिटिकल केयर सुविधाएं स्थापित कर रहे हैं। युवराज सिंह ने बुधवार को तेलंगाना के गृह मंत्री महमूद अली, एसेंचर के प्रतिनिधी और अस्पताल के कुछ प्रतिनिधियों की मौजूदगी में इस सुविधा का उद्घाटन किया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

डेथ ओवरों में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज हैं स्टार्क : लेंगर

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के कोच जस्टिन लेंगर ने वनडे सीरीज में वेस्टइंडीज के खिलाफ अपनी टीम की जीत के बाद कहा है कि तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क डेथ ओवरों में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज हैं और साथ ही वह टीम के लिए एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी भी हैं। ऑस्ट्रेलिया ने वेस्टइंडीज को वनडे सीरीज में 2-1 से हराया था। वहीं इससे पहले खेले गए टी20 सीरीज में वेस्टइंडीज की टीम ऑस्ट्रेलिया की टीम पर भारी पड़ी थी और टी-20 सीरीज को 4-1 से अपने नाम किया था। स्टार्क ने तीन मैचों में 10.63 के औसत से 11 विकेट लिए थे। ऑस्ट्रेलियन टीम को सीमित ओवरों की सीरीज खेलने के लिए बांग्लादेश रवाना होना है। रवाना होने से पहले कोच लेंगर ने कहा, मुझे लगता है कि स्टार्क दुनिया के सर्वश्रेष्ठ सीमित ओवरों के गेंदबाज हैं। लेंगर ने आईसीसी की वेबसाइट से बात करते हुए कहा, "स्टार्क बल्लेबाज के सामने गेंदबाजी करते हैं और गेंद को स्विंग कराते हैं। वह अंतिम के ओवरों में गेंदबाजी कराने वाले गेंदबाजो में सबसे अव्वल गेंदबाज हैं और यह हमारी टीम के लिए बहुत अच्छा है। उनके और जोश हेजलवुड की जोड़ी हमारी टीम के लिए एक प्लस प्वांइट है।" स्टार्क, जिन्होंने शुरूआती एकदिवसीय मैच में पांच विकेट लिए थे, उन्होंने अब तक केवल 99 एकदिवसीय मैच खेले हैं और इस फॉर्मेट में 22.45 की औसत से 195 विकेट ले चुके हैं। स्टार्क कुछ ही मैचों में 200 विकेट चटकाने का रिकॉर्ड अपने नाम कर सकते हैं। इससे पहले पाकिस्तान के सकलैन मुश्ताक के नाम 104 मैच में 200 विकेट लेने का रिकॉर्ड दर्ज है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

दिग्गज बैंडमिंटन खिलाड़ी नंदू नाटेकर का निधन

बैडमिंटन के दिग्गज खिलाड़ी नंदू नाटेकर का बुधवार को पुणे में निधन हो गया। वह 88 साल के थे। नाटेकर पहले ऐसे भारतीय खिलाड़ी थे जिन्होंने 1956 में अंतराराष्ट्रीय इवेंट जीता था। छह बार राष्ट्रीय एकल विजेता रहने वाले नाटेकर ने 20 साल की उम्र में डेब्यू किया था। 1951 से 1963 तक, करीब दस साल तक थॉमस कप पुरुष चैंपियनशिप में भारत की अगुवाई भी की थी। महाराष्ट्र के सांगली में 1933 में जन्मे नाटेकर ने बैडमिटंन खेलने से पहले, टेनिस खेलना शुरू किया और टेनिस के दिग्गज खिलाड़ी रामनाथन कृष्णन के खिलाफ जूनियर नेशनल फाइनल में भी पहुंचे पर फिर बाद में उन्होंने बैडमिंटन करियर पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया। 1961 में अर्जुन पुरस्कार पाने वाले नाटेकर कौशल और स्ट्रोक दोनो में माहिर खिलाड़ी थे और अपने खेल को बहुत सफाई से खेलने के लिए जाने जाते थे। उन्होंने भारतीय बैडमिंटन के लिए कई इतिहास रचा उनमें से एक जब उन्होंने 1956 में कुआलालंपुर में सेलांगोर अंतर्राष्ट्रीय खिताब पर कब्जा जमाया। उन्होंने और मीना शाह ने 1962 में बैंकॉक में किंग्स कप इंटरनेशनल में मिश्रित युगल का ताज भी हासिल किया था और इसी इवेंट में एक साल बाद उन्होंने सभी बाधाओं को पार करते हुए एकल खिताब भी जीता था।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia