दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 'करो या मरो' के मैच में उतरेगा भारत, पहले ही 2 मैच गंवा चुकी है टीम इंडिया

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ नई दिल्ली और कटक में लगातार मैच हारने के बाद भारत पर सीरीज हारने का खतरा मंडरा रहा है। अब वह मंगलवार को तीसरे टी20 में यहां डॉ. वाईएस राजशेखर रेड्डी एसीए वीडीसीए क्रिकेट स्टेडियम में दक्षिण अफ्रीका का सामना करेगा।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

भारत को पांच मैचों की टी20 श्रृंखला से पहले लगातार 13 मैचों की जीत का रिकॉर्ड हासिल करने का दावेदार माना जा रहा था, जो टी20 क्रिकेट में एक टीम द्वारा सबसे अधिक जीत का रिकॉर्ड था। लेकिन दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ नई दिल्ली और कटक में लगातार मैच हारने के बाद भारत पर सीरीज हारने का खतरा मंडरा रहा है। अब वह मंगलवार को तीसरे टी20 में यहां डॉ. वाईएस राजशेखर रेड्डी एसीए वीडीसीए क्रिकेट स्टेडियम में दक्षिण अफ्रीका का सामना करेगा।

कई खिलाड़ियों की अनुपस्थिति में ऋषभ पंत की टीम ने कुछ अच्छी बातों के बावजूद जीत हासिल करने में नाकाम रही है। कटक और विशाखापत्तनम टी20 के बीच सिर्फ एक दिन के अंतराल के साथ भारत के पास श्रृंखला में वापसी करने के लिए अधिक समय नहीं है।

नई दिल्ली में गेंदबाज 212 रनों का बचाव करने में असमर्थ थे, जबकि कटक में भुवनेश्वर कुमार को छोड़कर कोई भी गेंदबाज असरदार साबित नहीं हुए, जिसके परिणामस्वरूप उन्हें रविवार को चार विकेट से मैच गंवाना पड़ा।

दोनों मैचों में ईशान किशन ने एक स्थायी ओपनिंग विकल्प बनने के लिए अच्छी शुरुआत दी है, जबकि ऋतुराज गायकवाड़ और श्रेयस अय्यर ने तेज गेंदबाजों के खिलाफ थोड़ा आत्मविश्वास जगाया है।

हार्दिक पांड्या ने दिल्ली में कुछ आश्चर्यजनक पावर-हिटिंग शॉट्स खेले थे, लेकिन कटक में पांड्या तेज गेंदबाज वेन पार्नेल के खिलाफ संघर्ष करते नजर आए।

कप्तान ऋषभ पंत दो बार सस्ते में आउट हो गए और अपनी कप्तानी से क्रिकेट जानकारों को प्रभावित नहीं कर पाए। अब पंत विशाखापत्तनम में सुधार करने और अच्छी कप्तानी करने की उम्मीद करेंगे।

गेंदबाजी में भारत के सामने काफी दिक्कतें रही हैं। कटक में पहले छह ओवरों में तीन विकेट सहित भुवनेश्वर कुमार के 4/13 के अलावा, आवेश खान और हर्षल पटेल जैसे अन्य तेज गेंदबाजों ने उन्हें आवश्यक समर्थन नहीं दिया।

स्पिनर युजवेंद्र चहल और अक्षर पटेल बेहद निराशाजनक रहे हैं, क्योंकि दोनों ने मैचों में सामूहिक रूप से 75 और 59 रन दिए। चहल और पटेल डेविड मिलर, रॉस्सी वैन डेर डूसन और हेनरिक क्लासेन जैसे खिलाड़ियों को काबू में नहीं रख पाए हैं, जिससे दक्षिण अफ्रीका की तिकड़ी को रन बनाने का मौका मिलता रहा है।


दूसरी ओर, दक्षिण अफ्रीका ने सभी विभागों में शानदार प्रदर्शन किया और इस साल भारत से सभी प्रारूपों में विशेष रूप से सफेद गेंद वाले क्रिकेट में एक भी मैच नहीं हारा है। उनके लिए दोनों मैचों में नए मैच विजेताओं उभरकर सामने आए हैं।

कप्तान टेम्बा बावुमा शीर्ष क्रम में बेहतर नजर आ रहे हैं और उन्होंने अपने गेंदबाजों जैसे पार्नेल, कगिसो रबाडा, एनरिक नॉर्टजे, केशव महाराज और तबरेज शम्सी को बहुत अच्छी तरह से इस्तेमाल किया है। दक्षिण अफ्रीका आत्मविश्वास के साथ विशाखापत्तनम के मैदान पर उतरेगा, जबकि भारत श्रृंखला में करो या मरो के चरण में प्रवेश करेगा।

दोनों टीमें इस प्रकार हैं -

भारतीय टीम : ऋषभ पंत (कप्तान और विकेटकीपर), हार्दिक पांड्या (उपकप्तान), ऋतुराज गायकवाड़, ईशान किशन (विकेटकीपर), दीपक हुड्डा, श्रेयस अय्यर, दिनेश कार्तिक (विकेटकीपर), वेंकटेश अय्यर, युजवेंद्र चहल, अक्षर पटेल, रवि बिश्नोई, भुवनेश्वर कुमार, हर्षल पटेल, आवेश खान, अर्शदीप सिंह और उमरान मलिक।

दक्षिण अफ्रीका टीम : टेम्बा बावुमा (कप्तान), क्विंटन डी कॉक (विकेटकीपर), रीजा हेंड्रिक्स, हेनरिक क्लासेन (विकेटकीपर), केशव महाराज, एडेन मार्करम, डेविड मिलर, लुंगी एनगिडी, एनरिक नॉर्टजे, वेन पार्नेल, ड्वेन प्रिटोरियस, कगिसो रबाडा, तबरेज शम्सी, रॉस्सी वैन डेर डूसन, मार्को जानसेन और ट्रिस्टन स्टब्स।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia