खेल की 5 बड़ी खबरें: कोरोना के चलते मेरीकॉम घर में हुईं कैद और नहीं रहे भारत के फुटबॉल के जादूगर

भारत के मशहूर फुटबॉलर रहे पीके बनर्जी का लंबी बीमारी के बाद शुक्रवार को कोलकाता में निधन हो गया, वह 83 वर्ष के थे और स्टार बॉक्सर मेरीकॉम अपने घर में हुई ‘कैद’।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दिग्गज फुटबॉलर पीके बनर्जी का निधन, 83 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

भारत के मशहूर फुटबॉलर रहे पीके बनर्जी का लंबी बीमारी के बाद शुक्रवार को कोलकाता में निधन हो गया, वह 83 वर्ष के थे। 1962 के एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता तेज तर्रार स्ट्राइकर पीके (प्रदीप कुमार) बनर्जी निमोनिया के कारण सांस की बीमारी से जूझ रहे थे। उन्हें पार्किंसन, डिमेंशिया और हार्ट प्रॉब्लम भी थी। वह भारतीय फुटबॉल के स्वर्णिम दौर के साक्षी रहे। पीके बनर्जी कोलकाता के एक अस्पताल में 2 मार्च से लाइफ सपोर्ट पर थे और शुक्रवार दोपहर 12। 40 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। पीके बनर्जी ने राष्ट्रीय टीम के लिए 84 मैचों में 65 अंतरराष्ट्रीय गोल दागे थे। 1992 में जकार्ता एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने के अलावा, बनर्जी ने 1960 के रोम ओलंपिक में भारत का नेतृत्व किया, जहां उन्होंने फ्रेंच टीम के खिलाफ बराबरी का गोल दाग मैच को 1-1 से ड्रॉ करवाया था।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

स्टार बॉक्सर मेरीकॉम अपने घर में 'कैद'

दिग्गज बॉक्सर एमसी मेरीकॉम का कहना है कि कोविड-19 महामारी ने उन्हें बाहर की दुनिया से पूरी तरह जरूर अलग कर दिया है, लेकिन फिर भी वह खुश हैं। भारतीय मुक्केबाज का कहना है कि खुद को अलग रखकर उन्होंने स्वतंत्रा की नई परिभाषा का अहसास किया है। इसी महीने जॉर्डन से लौटीं मेरीकॉम सेल्फ-आइसोलेशन में हैं और दिल्ली स्थित अपने घर में रह रही हैं। मेरीकॉम ने पीटीआई से कहा, 'मैं अपने घर पर आराम कर रही हूं। व्यायाम कर अपनी फिटनेस का ख्याल रख रही हूं और करीब एक महीने से अपने बच्चों के साथ खेल रही हूं। ' मेरीकॉम ने कहा, 'यह आइसोलेशन का अच्छा तरीका है। मैं बिना कुछ और सोचे अपने परिवार के साथ हूं। मेरी सभी से अपील है कि आप घबराएं नहीं, और संभव हो तो अपने घर पर रहें और परिवार के बीच समय बिताएं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

कोरोना वायरस: 23 मार्च से बंद रहेंगे बीएआई दफ्तर

भारतीय बैडमिंटन संघ (बीएआई) ने शुक्रवार को कहा है कि वह कोरोनावायरस के कारण अपना कार्यालय 23 मार्च से बंद कर रही है। बीएआई ने एक बयान में कहा, "स्थिति को देखते हुए और हितधारकों से बात करते हुए स्टाफ के स्वास्थ को तरजीह देने के लिहाज से यह सबसे सही फैसला लगा।" बयान में कहा गया है कि 31 मार्च के बाद स्थिति की समीक्षा की जाएगी। बीएआई ने अपने स्टाफ से घर से काम करने को कहा है और कहा कि बहुत जरूरी होने पर ही वह ऑफिस आएं। बीएआई से पहले, बीसीसीआई, बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) और महाराष्ट्र क्रिकेट संघ (एमसीए) ने भी अपने-अपने ऑफिस बंद कर दिए हैं। खेल मंत्रालय ने भी सभी राष्ट्रीय खेल महासंघों को 15 अप्रैल तक अपनी सभी गतिविधियों को बंद रखने को कहा है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

केविन पीटरसन ने हिंदी में ट्वीट किया, लिखा- यह समय है होशियार रहने का

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान केविन पीटरसन ने शुक्रवार को ट्विटर पर एक संदेश पोस्ट किया है। उन्होंने भारतीय नागरिकों से कोरोना महामारी को रोकने के लिए सरकारी निर्देशों का पालन करने का आग्रह किया। दरअसल, इस पूर्व इंग्लिश क्रिकेटर ने यह ट्वीट हिंदी में किया है। पीटरसन ने उस क्रिकेटर का नाम भी लिखा है, जिसकी मदद से उन्होंने हिंदी में अपनी बात लिखी। 39 साल के पीटरसन ने जिस क्रिकेटर की मदद से यह ट्वीट किया, वह आईपीएल में उनका टीममेट रह चुका है। यह क्रिकेटर श्रीवत्स गोस्वामी हैं। पीटरसन ने इस ट्वीट की शुरुआत 'नमस्ते' के साथ किया।

पीटरसन ने हिंदी में लिखा, 'नमस्ते इंडिया, हम सब कोरोना वायरस को हराने में एक साथ हैं। हम सब अपनी-अपनी सरकार की बात का निर्देश करें और घर में कुछ दिनों के लिए रहें। यह समय है होशियार रहने का। आप सभी को ढेर सारा प्यार। ' साथ ही उन्होंने लिखा। 'मेरे हिंदी टीचर श्रीवत्स गोस्वामी। '

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

कोरोना वायरस के कारण मोनाको ग्रां प्री रद्द

फॉर्मूला-1 की सबसे बड़ी रेसों में से एक मोनाको ग्रां प्री को कोरोनावायरस के कारण रद्द कर दिया गया है। यह रेस 1955 से 21 से 24 मई के बीच होती आ रही है। डच और स्पेनिश ग्रां प्री को पहले ही स्थागित कर दिया गया है, लेकिन ऑटोमोबाइल क्लब दे मोनाको (एसीएम) ने गुरुवार को कहा कि यह रेस भी रद्द कर दी गई है।डच ग्रां प्री 1985 के बाद से पहली बार कैलेंडर में लौटी थी। यह रेस एक से तीन मई के बीच जांडवोर्ट में होनी थी इसके बाद स्पेनिश ग्रां प्री होनी थी। एसीएम ने कहा कि कोरोनावायरस के कारण फ्रांस और इटली में बंद होने के कारण टीमों के हिस्सा लेने पर अनिश्चित्ता थी और इसलिए स्थिति सही नहीं थी। अधिकारी ने कहा, "किसी भी स्थिति में यह संभव नहीं है कि साल के अंत में इस तरह के टूर्नामेंट्स को आयोजित किया जाए।" इससे पहले, बहरीन वियतनाम और आस्ट्रेलियन ग्रां प्री के साथ-साथ ले मैंस को भी कोरोनावायरस के कारण स्थगित कर दिया गया था।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

लोकप्रिय