भारतीय महिला क्रिकेटर पर मैच फिक्सिंग का साया, बीसीसीआई एसीयू चीफ का सुझाव, ‘वैध हो सट्टेबाजी’

मैच फिक्सिंग की खबरों के बीच बीसीसीआई की भ्रष्टाचार रोधी इकाई के प्रमुख अजीत सिंह शेखावत ने भारतीय क्रिकेट में भ्रष्टाचार की समस्या से निपटने के लिए इससे जुड़े नियम बनाने और सट्टेबाजी को वैध करने का सुझाव दिया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

क्रिकेट पर एक बार फिर मैच फिक्सिंग का साया मंडराया है। इस बार मैच फिक्स करने का मामला भारतीय महिला क्रिकेट से जुड़ा है। ऐसा पहली बार हुआ है जब एक भारतीय महिला क्रिकेटर ने फिक्‍सिंग की शिकायत की है। खबरों के मुताबिक, महिला क्रिकेटर को एक मैच फिक्‍स करने के लिए एक लाख रुपये तक देने का लालच दिया गया था।

इस मामले में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की एंटी करप्शन यूनिट ने राकेश बाफना और जितेंद्र कोठारी के खिलाफ फिक्सिंग और धोखेबाजी को लेकर बेंगलुरू में रिपोर्ट दर्ज कराई है। यह घटना फरवरी में इंग्लैंड के खिलाफ सीमित ओवरों की घरेलू श्रृंखला से पहले की बताई जा रही है।

हालांकि खिलाड़ी की पहचान उजागर नहीं की गई है। बताया जाता है कि महिला क्रिकेटर ने एक आरोपी के साथ फोन पर हुई बातचीत की रिकॉर्डिंग भी दी है।

दूसरी क्रिकेट में बढ़े मैच फिक्सिंग की घटनाओं को लेकर बीसीसीआई चिंतित है। बीसीसीआई की भ्रष्टाचार रोधी इकाई के प्रमुख अजीत सिंह शेखावत ने भारतीय क्रिकेट में भ्रष्टाचार की समस्या से निपटने के लिए मैच फिक्सिंग से जुड़े नियम बनाने और सट्टेबाजी को वैध करने का सुझाव दिया।

अजित सिंह शेखावत ने पिछले एक साल में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों सहित 12 क्रिकेटरों के भ्रष्ट संपर्क की शिकायत करने, संदिग्ध गतिविधि के कारण तमिलनाडु प्रीमियर लीग के संदेह के दायरे में आने और एक महिला क्रिकेटर से सट्टेबाज के संपर्क करने की शिकायत करने के बाद शेखावत ने यह सुझाव दिया।

उन्होंने कहा, “सट्टेबाजी को वैध बनाने पर विचार हो सकता है कि चल रहा हो ताकि जो भी अवैध गतिविधियां हो रही हैं उन सभी को नियंत्रित किया जा सके। वैध सट्टेबाजी कुछ मापदंडों के अंतर्गत होती है और इसे नियंत्रित किया जा सकता है।”

भारतीय पुलिस सेवा के इस सेवानिवृत्त अधिकारी ने कहा, ”इससे सरकार को उतना ही भारी भरकम राजस्व भी मिलेगा जो आबकारी विभाग हासिल करता है। खेलों पर सट्टेबाजी पर जो राशि लगती है वह काफी बड़ी है।” उन्होंने आगे कहा कि मैच फिक्सिंग को रोकना असंभव है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 17 Sep 2019, 4:29 PM
लोकप्रिय