IPL 2022: तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज की दिल छू लेने वाली कहानी! ऑटो चलाकर पिता रोजाना देते थे 60 रुपये, ताकि...

तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने कहा जब मैं स्टेडियम में अभ्यास के लिए जाता था, तो मेरे परिवार ने उस दौरान काफी संघर्ष किया था। मेरे पास केवल एक प्लेटिना (मोटरसाइकिल) थी। पिताजी मुझे पेट्रोल के लिए 60 रुपये देते थे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

टीम इंडिया के तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने कहा है कि उनके पिता एक ऑटो चालक थे, जो उन्हें हैदराबाद के उप्पल स्टेडियम जाने के लिए केवल 60 रुपये प्रतिदिन देते थे। सिराज वहां मैच सीखने के लिए जाते थे। सिराज को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की ओर से रॉयल चैलेंजर्स बैंगलुरु ने ऑस्ट्रेलिया के ग्लेन मैक्सवेल और पूर्व कप्तान विराट कोहली के साथ मेगा नीलामी से पहले बरकरार रखा था। उन्होंने शुक्रवार को आरसीबी पॉडकास्ट में कहा कि आईपीएल ने उन्हें प्रसिद्धि दी और उन्हें सामाजिक दायरे में रहने के तरीके को सिखाया।

उन्होंने कहा, "जब मैं स्टेडियम में अभ्यास के लिए जाता था, तो मेरे परिवार ने उस दौरान काफी संघर्ष किया था। मेरे पास केवल एक प्लेटिना (मोटरसाइकिल) थी। पिताजी मुझे पेट्रोल के लिए 60 रुपये देते थे। मैं उस रुपये से उप्पल स्टेडियम तक पहुंचने का प्रबंधन करता था, जो मेरे घर से काफी दूर था।"

सिराज ने कहा, "जब मुझे आईपीएल के लिए चुना गया, तो परिवार की रुपये की समस्याएं समाप्त हो गई। पिताजी ने ऑटो चलाना बंद कर दिया, मां ने घर का काम करना बंद कर दिया, हमने किराए के मकान में रहना बंद कर दिया, हमने उस दौरान एक नया घर खरीदा। मुझे और कुछ नहीं चाहिए जीवन में। मुझे बस अपने माता-पिता को खुश देने की जरूरत थी। आईपीएल ने मुझे प्रसिद्धि दी, इसने मुझे इतने सारे लोगों से मिलने और बात करने से सामाजिक दायरे में रहने के तरीके सिखाए। मैंने आईपीएल से बहुत कुछ सीखा।"

एक किस्सा साझा करते हुए, सिराज ने एक घटना को याद किया जब आरसीबी के तत्कालीन कप्तान विराट कोहली ने कहा था कि वह चोट के कारण अपने आवास पर आयोजित डिनर पार्टी में शामिल नहीं हो पाएंगे। लेकिन कुछ मिनट बाद, सिराज ने कोहली को अपनी कार से उतरते देखा और उन्हें आश्चर्यचकित कर दिया।


उन्होंने कहा, "मैंने आरसीबी टीम के सभी खिलाड़ियों को अपने घर डिनर के लिए आमंत्रित किया था। मैं सीधे होटल से घर गया। जब मैंने विराट को फोन किया, तो उन्होंने कहा, 'मेरी पीठ में अकड़न है, मैं नहीं आ सकता।' लेकिन, जब सभी खिलाड़ी आए, तो मैंने विराट को भी कार से उतरते देखा। सभी वहां थे, पार्थिव पटेल, युजवेंद्र चहल, मैंने वहां किसी को नहीं देखा, मैं बस विराट की ओर भागा और उन्हें गले लगा लिया। यह मेरे जीवन का सबसे अच्छा सरप्राइज था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia