खेल: जो रूट ने 2 रन बनाकर भी रचा इतिहास और भारतीय बल्लेबाज तन्मय अग्रवाल ने तोड़ा वर्ल्ड रिकॉर्ड

जो रूट अब टेस्ट क्रिकेट में भारत के खिलाफ सबसे ज्यादा रन बनाने वाले इकलौते खिलाड़ी बन गए हैं और भारतीय बल्लेबाज तन्मय अग्रवाल ने वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ दिया है, उन्होंने एक में 26 छक्के ठोक दिए।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

IND Vs ENG: जो रूट ने 2 रन बनाकर भी रचा इतिहास

भारत और इंग्लैंड के बीच हैदराबाद में सीरीज का पहला टेस्ट मैच खेला जा रहा है। इस मैच में इंग्लैंड के स्टार बल्लेबाज जो रूट का बल्ला नहीं चला लेकिन गेंद से कमाल करते हुए उन्होंने चार विकेट अपने नाम किए। वहीं बल्लेबाजी में फेल रहने के बावजूद स्टोक्स ने दो पारियों में दो बड़े दिग्गजों को पछाड़ दिया। पहली पारी में वह महज 29 रन बना पाए थे लेकिन उन्होंने सचिन तेंदुलकर को पीछे छोड़ा था। अब दूसरी पारी में वह सिर्फ 2 रन बना पाए लेकिन इतिहास रच दिया। जो रूट अब टेस्ट क्रिकेट में भारत के खिलाफ सबसे ज्यादा रन बनाने वाले इकलौते खिलाड़ी बन गए हैं। पहली पारी में उन्होंने इस मामले में रिकी पोंटिंग की बराबरी की थी। अब दूसरी पारी में उन्होंने बनाए सिर्फ 2 रन लेकिन टॉप पोजीशन पर कब्जा कर लिया है। रूट के नाम अब भारत के खिलाफ सबसे ज्यादा 2557 टेस्ट रन दर्ज हो चुके हैं। उन्होंने पोंटिंग, कुल, क्लाइव लॉयड और जावेद मियांदाद जैसे दिग्गजों की लिस्ट में टॉप पोजीशन कब्जा ली है।

भारतीय बल्लेबाज तन्मय अग्रवाल ने तोड़ा वर्ल्ड रिकॉर्ड, एक पारी में ठोक दिए 26 छक्के

रणजी ट्रॉफी 2024 के एक मुकाबले में हैदराबाद की टीम ने अरुणाचल प्रदेश के खिलाफ शानदार प्रदर्शन किया। टीम ने 60 ओवर के अंदर ही (59.3 ओवर में) 615 रन का स्कोर खड़ा कर दिया। इस पारी में आकर्षण का केंद्र रहे तन्मय अग्रवाल जिन्होंने अपनी 366 रनों की शानदार पारी में 26 छक्के लगाए। इस पारी में उनके बल्ले से 34 चौके भी निकले। खास बात यह रही कि तन्मय ने मात्र 181 गेंदों में ही 366 रन बनाए। तन्मय ने अपनी इस पारी में 26 छक्के लगाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड भी बना दिया। वह दुनियाभर के फर्स्ट क्लास क्रिकेट में एक फर्स्ट क्लास पारी में सबसे ज्यादा छक्के लगाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। उनसे पहले यह रिकॉर्ड न्यूजीलैंड के कॉलिन मुनरो के नाम था जिन्होंने एक फर्स्ट क्लास मैच में 23 छक्के अपनी 281 रन की पारी में जड़े थे। उन्होंने 2014-15 में ऐसा किया था। यानी भारत के तन्मय ने अब करीब 10 साल बाद यह वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ दिया है।


'डेविड वार्नर के मुझ पर विश्वास ने वास्तव में मदद की है,' :आकिफ रजा

संयुक्त अरब अमीरात के तेज गेंदबाज आकिफ रजा ने मौजूदा डीपी वर्ल्ड आईएलटी20 सीजन 2 के दौरान समर्थन के लिए कप्तान डेविड वार्नर की सराहना की। शारजाह क्रिकेट स्टेडियम में गल्फ जायंट्स के खिलाफ मुकाबले से पहले, आकिफ ने जीएमआर स्पोर्ट्स के स्वामित्व वाली टीम के साथ अब तक के अपने कार्यकाल के दौरान अपनी पूरी मदद के लिए ऑस्ट्रेलियाई को श्रेय दिया। दाएं हाथ के मध्यम तेज गेंदबाज ने साझा किया, “मैं इस सीज़न में डेविड वार्नर को अपना कप्तान बनाने के लिए बहुत आभारी हूँ। यह मुझ पर उनका विश्वास ही है जिसने मुझे आगे बढ़ने में मदद की है। उन्होंने मुझे काम करने के लिए एक निश्चित भूमिका दी है और मैंने उस पर ध्यान केंद्रित किया है। कप्तान के रूप में उनके साथ रहना एक अवास्तविक अनुभव है। ”

अब कैपिटल्स के साथ अपने दूसरे सीज़न में खेलते हुए, आकिफ टीम में शामिल हो गए हैं और भविष्य को लेकर आश्वस्त हैं। “मैं इस बार अधिक सहज महसूस कर रहा हूं क्योंकि यह दुबई कैपिटल्स के साथ आईएलटी20 में मेरा दूसरा सीज़न है। यह टीम अब मेरे लिए एक परिवार की तरह है, जिसमें सभी अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों के साथ-साथ यूएई के युवा खिलाड़ी भी मिलकर काम कर रहे हैं। हमने अब तक जो तीन मैच खेले हैं उनमें से दो में हमने जीत हासिल की है, इसलिए हमारी टीम का भविष्य उज्ज्वल लगता है।'' इस बीच,आईएलटी20 यूएई के खिलाड़ियों को कई प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय सितारों के साथ खेलने का मौका दे रहा है। आकिफ का मानना ​​है कि इस लीग से राष्ट्रीय टीम को भी बेहतर बनाने में मदद मिलेगी और इसका प्रमाण उनकी अंडर19 टीम के प्रदर्शन में निहित है जो 2023 में एशिया कप के फाइनल में पहुंची थी।

खेल: जो रूट ने 2 रन बनाकर भी रचा इतिहास और भारतीय बल्लेबाज तन्मय अग्रवाल ने तोड़ा वर्ल्ड रिकॉर्ड

सबालेंका ने ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब बरकरार रखा

नंबर 2 वरीयता प्राप्त आर्यना सबालेंका ने 76 मिनट के फाइनल में शनिवार को नंबर 12 वरीयता प्राप्त झेंग किनवेन को 6-3, 6-2 से हराकर दूसरी ग्रैंड स्लैम ट्रॉफी जीतने के साथ अपने ऑस्ट्रेलियाई ओपन खिताब का सफलतापूर्वक बचाव किया 2013 ऑस्ट्रेलियन ओपन फाइनल में विक्टोरिया अजारेंका द्वारा ली ना को हराने के बाद सबालेंका अपने पहले प्रमुख खिताब का बचाव करने वाली पहली खिलाड़ी बन गईं। 25 वर्षीय खिलाड़ी उस वर्ष अजारेंका के बाद ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब का सफलतापूर्वक बचाव करने वाली पहली खिलाड़ी भी हैं अजारेंका की तरह, सबालेंका का भी रौलां गैरो में सेमीफाइनल, विंबलडन में सेमीफाइनल और यूएस ओपन में फाइनल में करियर का सर्वश्रेष्ठ स्लैम प्रदर्शन है। दोनों खिलाड़ी वर्ल्ड नंबर 1 पर भी पहुंची हैं।

सबालेंका ने पूरे पखवाड़े में एक भी सेट नहीं गंवाया और मेलबर्न पार्क में अपने पिछले 29 सेटों में से 28 जीते हैं, जिसमें उनका 2023 का खिताब भी शामिल है। इस स्पैल में उनसे एक सेट जीतने वाली एकमात्र खिलाड़ी पिछले साल के फाइनल में एलेना रिबाकिना थीं। फाइनल में, उन्होंने पिछले साल के यूएस ओपन क्वार्टर फाइनल में झेंग पर अपनी 6-1, 6-4 की जीत को दोहराया, जो इस जोड़ी की एकमात्र पिछली भिड़ंत थी। यह परिणाम सबालेंका के करियर का 14वां टूर-स्तरीय खिताब, आउटडोर हार्ड कोर्ट पर नौवां और पिछले मई के बाद पहला खिताब है, जब उन्होंने अपनी मैड्रिड ट्रॉफी का बचाव किया था।

वह प्रमुख फ़ाइनल में 2-1 से बेहतर प्रदर्शन करती है, और इगा स्वीयाटेक, नाओमी ओसाका, गरबाइन मुगुरुज़ा, सिमोना हालेप, पेट्रा क्वितोवा, अजारेंका, एंजेलिक कर्बर, स्वेतलाना कुज़नेत्सोवा और वीनस विलियम्स के साथ 10वीं सक्रिय मल्टीपल ग्रैंड स्लैम चैंपियन बन जाती है। झेंग, ग्रैंड स्लैम फाइनल में पहुंचने वाले दूसरी चीनी खिलाड़ी और 2014 में यहां ली के खिताब जीतने के बाद पहली बार, सोमवार को नंबर 7 पर शीर्ष 10 में पदार्पण करेंगे। सबालेंका नंबर 2 पर रहेंगी।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;