धोनी के पूर्व बिजनेस पार्टनर के खिलाफ गुजरात और तमिलनाडु में भी मुकदमे, क्रिकेट अकादमी खोलने के नाम पर धोखाधड़ी के आरोप

धोनी ने करीब एक हफ्ता पहले अपने दोस्त और प्रतिनिधि सीमांत लोहानी के जरिए आरका स्पोर्ट्स मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर मिहिर दिवाकर और सौम्या दास के खिलाफ करीब 15 करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए रांची की अदालत में मुकदमा दर्ज कराया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी के पूर्व बिजनेस पार्टनर आरका स्पोर्ट्स मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक मिहिर दिवाकर और सौम्या दास की परेशानियां और बढ़ सकती हैं। उनके खिलाफ गुजरात और तमिलनाडु में भी धोखाधड़ी के मामले दर्ज हुए हैं।

उन पर आरोप है कि धोनी की ओर से करार रद्द कर दिए जाने के बावजूद उन्होंने कई जगहों पर उनके नाम पर एकेडमी खोलना जारी रखा और गलत तरीके से पैसों की उगाही की। मिहिर दिवाकर रणजी खिलाड़ी रहे हैं और धोनी के साथ भी खेल चुके हैं।

अहमदाबाद के वस्त्रापुर पुलिस स्टेशन में एमआर इंटरप्राइजेज नामक कंपनी की ओर से दर्ज कराई गई शिकायत में कहा गया है कि वर्ष 2020 में मिहिर दिवाकर और सौम्या दास ने उनसे संपर्क किया और बताया कि महेंद्र सिंह धोनी देश के विभिन्न हिस्सों में क्रिकेट अकादमी शुरू करना चाहते हैं और इसे चलाने का 10 साल का अधिकार उन्हें दिया गया है। मिहिर की बातों से प्रोत्साहित होकर हमने गुजरात में एकेडमी खोलने के लिए उन्हें 10 साल के लिए 45 लाख रुपए बतौर लाइसेंस फीस का भुगतान किया।

इसके अलावा धोनी के नाम पर क्रिकेट अकादमी खोलने के अधिकार मिलने पर प्रतिमाह 75,000 रुपए रॉयल्टी का भी भुगतान किया। एग्रीमेंट के मुताबिक अक्टूबर 2022 तक बतौर रॉयल्टी हमने 9.25 लाख रुपये का भुगतान किया। शिकायत में कहा गया है कि ग्राउंड तैयार करने और अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के नाम पर 1 करोड़ 47 लाख रुपये, आरका स्पोर्ट्स मैनेजमेंट के प्रतिनिधियों की हॉस्पिटैलिटी, होटल और यात्रा भत्ते के रूप में 3.50 लाख रुपये खर्च किये। इस तरह अब तक कुल 2 करोड़ 11 लाख 75 हजार रुपये क्रिकेट अकादमी की स्थापना और उसे चलाने के नाम पर खर्च किए गए।


बाद में पता चला कि मिहिर दिवाकर और सौम्या दास को क्रिकेट अकादमी खोलने का दिया गया अधिकार धोनी ने 15 अगस्त 2021 को रद्द कर दिया है। इस स्थिति में मिहिर दिवाकर और सौम्या दास की आरका स्पोर्ट्स मैनेजमेंट को किसी भी तरह का वित्तीय लाभ लेने का कोई अधिकार नहीं। इसी तरह एक अन्य एफआईआर तमिलनाडु के हुडको पुलिस स्टेशन में होसुर के श्री श्रद्धा एजुकेशन ट्रस्ट के सचिव चंद्रशेखर ने दर्ज कराई है।

इसमें उन्होंने धोनी के नाम का सहारा लेकर 35 लाख रुपए लेने का आरोप लगाया है। इस संबंध में हुडको पुलिस स्टेशन ने मिहिर दिवाकर को समन भेजकर हाजिर होने को कहा था। यह शिकायत 30 जनवरी 2022 को ही दर्ज कराई गई थी। चंद्रशेखर ने अपने कंप्लेन में पुलिस को बताया कि मिहिर ने आरका स्पोर्ट्स को धोनी की ऑथराइज्ड कंपनी बताया था।

बता दें कि धोनी ने करीब एक हफ्ता पहले अपने दोस्त और प्रतिनिधि सीमांत लोहानी के जरिए आरका स्पोर्ट्स मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्टर मिहिर दिवाकर और सौम्या दास के खिलाफ करीब 15 करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए रांची की अदालत में मुकदमा दर्ज कराया है। शिकायत में कहा गया है कि धोनी की ओर से क्रिकेट एकेडमी चलाने के लिए 2017 में दोनों पक्षों के बीच जो एग्रीमेंट हुआ उसके मुताबिक आरका स्पोर्ट्स की ओर से धोनी को फ्रेंचाइजी शुल्क मिलना था और इसके अलावा प्रॉफिट का हिस्सा भी शेयर किया जाना था। आरका स्पोर्ट्स ने इन शर्तों का पालन नहीं किया। इससे धोनी को काफी नुकसान हुआ है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;