खेल की खबरें: प्रमुख टीम के कोच बन सकते हैं मैक्कलम और इस ENG खिलाड़ी ने उमरान को भारतीय टीम में शामिल करने को कहा

न्यूजीलैंड के पूर्व दिग्गज कप्तान ब्रेंडन मैक्कलम इंग्लैंड की वनडे और टी20 टीम के कोच बन सकते हैं और इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर केविन पीटरसन चाहते हैं कि BCCI सनराइजर्स हैदराबाद के तेज गेंदबाज उमरान मलिक को तुरंत टेस्ट टीम में शामिल करे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

ब्रेंडन मैक्कलम बन सकते हैं प्रमुख टीम के कोच

न्यूजीलैंड के पूर्व दिग्गज कप्तान ब्रेंडन मैक्कलम इंग्लैंड की वनडे और टी20 टीम के कोच बन सकते हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक मैक्कलम का नाम भी चर्चा में है और उन्हें ये जिम्मेदारी दी जा सकती है। इससे पहले ये खबरें आई थीं कि गैरी कर्स्टन को इंग्लैंड की टेस्ट टीम का कोच बनाया जा सकता है। गैरी कर्स्टन केवल एक ही फॉर्मेट में कोचिंग करना चाहते हैं, इसीलिए उन्हें टेस्ट फॉर्मेट की जिम्मेदारी दी जा सकती है। वहीं वनडे और टी20 टीम का कोच ब्रेंडन मैक्कलम को बनाया जा सकता है। डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक ब्रेंडन मैक्कलम इंग्लैंड टीम के विशलिस्ट में जुड़ गए हैं और वो कोच बनने के दावेदार हैं। इंग्लैंड के नए मैनेजिंग डायरेक्टर रॉब की ने कहा कि लिमिटेड ओवर्स फॉर्मेट में कोच बनाने का फैसला वो कप्तान इयोन मोर्गन की सलाह पर ही लेंगे। उन्होंने कहा, इयोन मोर्गन से मैं कई सारे मुद्दों पर बात करूंगा। उन्हें पता है कि टीम की जरूरतें क्या हैं और वो कई सारे कोच के बारे में जानते हैं। इसलिए उनकी सलाह पर ही कोई फैसला लिया जाएगा।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

'बीसीसीआई उमरान मलिक को भारतीय टेस्ट टीम में शामिल करे'

इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर केविन पीटरसन चाहते हैं कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) सनराइजर्स हैदराबाद के तेज गेंदबाज उमरान मलिक को तुरंत टेस्ट टीम में शामिल करे, क्योंकि अब इंतजार करने का कोई मतलब नहीं है। उमरान ने 5 मई को यहां ब्रेबोर्न स्टेडियम में दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ अपनी टीम के मैच के दौरान 157 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से आईपीएल 2022 की सबसे तेज गेंद फेंकी। 22 वर्षीय ने 20वें ओवर की चौथी गेंद पर यह उपलब्धि हासिल की। रोवमैन पॉवेल ने उनकी गेंद पर चौका लगाया था। मलिक ने अंतत: 4-0-52-0 के आंकड़े के साथ अपना गेंदबाजी स्पेल समाप्त किया। इससे पहले, युवा क्रिकेटर ने मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में गुजरात टाइटंस के खिलाफ मैच में अपना पहला आईपीएल पांच विकेट हासिल किया था। मलिक ने तब 4-0-25-5 के आकड़े के साथ टीम में अपना योगदान दिया था।

उमरान, जो कैश-रिच लीग में अपनी तेज गति से क्रिकेट प्रशंसकों को मंत्रमुग्ध कर रहे हैं, वे दक्षिण अफ्रीका के पूर्व महान डेल स्टेन से गुर सीख रहे हैं, जो वर्तमान में सनराइजर्स हैदराबाद के तेज गेंदबाजी कोच के रूप में काम कर रहे हैं। पीटरसन ने बेटवे इनसाइडर के हवाले से बताया कि, "इस समय आईपीएल में बहुत सारे युवा भारतीय तेज गेंदबाज हैं। विदेशी खिलाड़ियों में से केवल लॉकी फग्र्यूसन और अल्जारी जोसेफ अपनी गति के साथ तेज गेंदबाजी कर रहे हैं। कार्तिक त्यागी और मोहसिन खान दोनों तेज गेंदबाज हैं, लेकिन जो सबसे रोमांचक है वह उमरान मलिक हैं। उन्होंने 5 मई को दिल्ली के खिलाफ 157 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गेंदबाजी की थी, जो अब तक का सर्वश्रेष्ठ है।" पीटरसन ने कहा कि उमरान को पूर्व ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज मिशेल जॉनसन की तरह 3-4 ओवर के छोटे स्पेल में लगाया जा सकता है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया

काउंटी में 17 छक्के मारकर स्टोक्स ने तोड़ा रिकॉर्ड

इंग्लैंड के नए टेस्ट कप्तान बेन स्टोक्स ने काउंटी चैंपियनशिप मैच के दूसरे दिन डरहम के लिए रिकॉर्ड तोड़ शतक बनाया, जिसमें ऑलराउंडर ने 17 छक्के लगाए। स्टोक्स की विस्फोटक बल्लेबाजी के कारण डरहम ने 580/6 पर अपनी पारी घोषित की, जिसमें स्टोक्स ने 88 गेंद में 161 रन का योगदान दिया। जवाब में, वोस्टरशायर 169 रनों पर छह विकेट खो चुका है। ऑस्ट्रेलिया के एंड्रयू साइमंड्स (1995) और इंग्लैंड के ग्राहम नेपियर (2011) द्वारा क्रमश: ग्लॉस्टरशायर और एसेक्स के लिए हासिल किए गए 16 छक्कों को पीछे छोड़ते हुए स्टोक्स ने 17 छक्कों का रिकॉर्ड बनाया। स्टोक्स ने जोश बेकर के एक ओवर में 34 रन बनाए। इस प्रदर्शन को देखने वालों में दिग्गज क्रिकेटर और डरहम चेयर इयान बॉथम भी शामिल थे। इंग्लैंड के साथ 2 जून को लॉर्डस में न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट के साथ अपने कार्यक्रम की शुरुआत करने के लिए स्टोक्स की विस्फोटक बल्लेबाजी देखकर इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) खुश होगा, क्योंकि इंग्लैंड ने खेले गए 17 टेस्ट में से सिर्फ एक में जीत हासिल की है।

ग्रेनाडा में तीसरे टेस्ट में वेस्टइंडीज के खिलाफ इंग्लैंड की 10 विकेट की हार के बाद स्टोक्स की यह पहली पारी थी। स्टोक्स की पारी तब समाप्त हुई, जब उन्होंने ब्रेट डी'ओलिवेरा की गेंद पर जैक हेन्स को मिड-विकेट पर कैच थमा बैठे। स्टोक्स ने कहा, "यहां बल्लेबाजी करके मजा आया। मुझे लगता है कि मैच में हमारे शीर्ष-पांच (बल्लेबाजों) ने अच्छी बल्लेबाजी की। मुझे बस स्थिति को देखते हुए खेलना था और फिर, एक बार जब हमें पता चल गया कि हमें कब तक बल्लेबाजी करनी, तो हमने अधिक से अधिक रन बनाने पर ध्यान देना शुरू किया।" स्टोक्स ने कहा, "यह ऐसे रिकॉर्ड हैं, जिन्हें आप नहीं जानते (17 छक्के), और लोग उन्हें सामने लाते हैं। आप इस तरह की चीजों के लिए नहीं खेलते हैं।"

फोटो: IANS
फोटो: IANS

लिविंगस्टोन ने बताया 117 मीटर का छक्का मारकर कैसा लगा?

पंजाब किंग्स के हरफनमौला खिलाड़ी लियाम लिविंगस्टोन ने कहा कि आईपीएल 2022 में गुजरात टाइटंस पर अपनी टीम की जीत में मोहम्मद शमी की गेंद पर 117 मीटर छक्का मारकर मजा आया। उसी समय, लिविंगस्टोन ने बताया कि यह पिछले साल पाकिस्तान के खिलाफ इंग्लैंड के टी20 मैच में हारिस रऊफ की गेंद पर उनके द्वारा लगाए गए 122 मीटर के छक्के से अलग था। 16वें ओवर में पंजाब को जीत के लिए 27 रन चाहिए थे, लिविंगस्टोन ने शमी को डीप स्क्वेयर लेग पर 117 मीटर का छक्का मारा, जिसके कारण कमेंटेटर ने खुशी के साथ कहा, "यह स्टेडियम से बाहर चला गया और इतना बड़ा छक्का कभी नहीं देखा। इसके बाद लिविंगस्टोन ने 144 रन के लक्ष्य का पीछा करने के लिए दो और छक्के और इतने ही चौके लगाए और चार ओवर शेष रहते टीम को मैच जीताने में मदद की।

लिविंगस्टोन ने कहा, "लीड्स में 122 मीटर और यहां 117 मीटर के छक्के मारने में एक अलग एहसास था, लेकिन मुझे जितना हो सके उतना बड़ा हिट करने में बहुत अच्छा लगता है और यह प्रशंसकों के लिए बहुत अच्छा है। दुर्भाग्य से, यह हमें केवल छह रन देता है और अधिक नहीं।" यह पूछे जाने पर कि वह उस मैच में शमी की गेंद पर इतने हिट क्यों मारे, तो लिविंगस्टोन ने समझाया, मैंने शमी को मारने का प्लान बनाया था, क्योंकि मुझे लगा कि उनकी गेंद पर मैं शॉर्ट बाउंड्री पर हिट कर सकता हूं। इसके अलावा, अंत में राशिद खान और लॉकी फग्र्यूसन के पास दूसरे ओवर थे। लेकिन कभी-कभी, जब आप आगे बढ़ते हैं तो आप रुक नहीं सकते। मैं छक्कों पर निरंतरता बढ़ाने की कोशिश कर रहा हूं और यह बेहतर हो रहा है।" लिविंगस्टोन ने खुलासा किया कि छक्के मारना एक ऐसी क्षमता है जो पूरी तरह से आत्मविश्वास पर निर्भर है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

वार्नर को लेकर पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने किया खुलासा

भारत के पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने खुलासा किया है कि ऑस्ट्रेलियाई सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर के फ्रेंचाइजी के साथ अपने पहले साल में दिल्ली डेयरडेविल्स (अब दिल्ली कैपिटल्स) में अनुशासनात्मक मुद्दे थे, और उनके इसी रवैये के कारण उन्हें सजा भी मिली थी। 35 वर्षीय वार्नर ने 2009 में दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ अपना कार्यकाल शुरू किया और 2014 में सनराइजर्स हैदराबाद जाने से पहले फ्रेंचाइजी के लिए पांच सीजन खेले, जहां से वह आईपीएल 2022 से पहले दिल्ली कैपिटल्स में वापस चले गए। सहवाग ने क्रिकबज को बताया, "मैंने एक बार वार्नर पर अपना गुस्सा निकाला था, जिस तरह से वह दिल्ली टीम के साथ यात्रा कर रहे थे। वह जब 2009 आए थे, तब पार्टियों में अधिक ध्यान देते थे। वहीं, अभ्यास मैचों में उनका कम मन लगता था। वह कुछ खिलाड़ियों के साथ लड़ाई में भी शामिल थे, जिससे कारण उन्हें दो मैचों से बाहर भी कर दिया गया था।"

सहवाग ने कहा, "कभी-कभी ऐसा होता है कि किसी को सबक सिखाने के लिए आपको उन्हें बेंच पर बैठाना पड़ता था। क्योंकि वह एक नए खिलाड़ी थे, इसलिए उन्हें यह बताना महत्वपूर्ण था कि आप टीम के लिए महत्वपूर्ण नहीं हैं और आपकी जगह अन्य खिलाड़ी भी खेल सकते हैं।" हालांकि, सहवाग ने कहा कि सनराइजर्स हैदराबाद की ओर से पहले वार्नर को कप्तानी से हटाना और फिर 2021 सत्र के दौरान उन्हें पूरी तरह से बेंच बैठा देना गलत था। वार्नर आठ साल तक फ्रेंचाइजी के साथ रहे और उन्होंने 95 मैचों में 49.46 की औसत और 142.59 की स्वस्थ स्ट्राइक से 4014 रन बनाए। ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने हैदराबाद के साथ अपने कार्यकाल के दौरान 40 अर्धशतक और दो शतक बनाए और उन्हें 2016 में अपने पहले आईपीएल खिताब में मदद की।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia