खेल की खबरें: इस पूर्व भारतीय गेंदबाज ने उमरान मलिक को दी अहम सलाह और एशियन गेम्स 2022 हुआ स्थगित

भारत के पूर्व दिग्गज तेज गेंदबाज आरपी सिंह ने सनराइजर्स हैदराबाद के युवा खिलाड़ी उमरान मलिक को एक अहम सलाह दी है और एशियाई ओलंपिक परिषद को हांग्जो में एशियाई गेम्स 2022 को स्थगित कर दिया, जो 10 से 25 सितंबर के बीच होने वाला था।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कोरोना के कारण हांग्जो एशियाई गेम्स स्थगित

एशियाई ओलंपिक परिषद ने हांग्जो में एशियाई गेम्स 2022 को स्थगित कर दिया, जो 10 से 25 सितंबर के बीच होने वाला था। चीनी ओलंपिक समिति (सीओसी) ने चर्चा के बाद यह फैसला लिया। ओसीए ने वर्तमान में ताशकंद और उज्बेकिस्तान में चल रही कार्यकारी बोर्ड की बैठक में यह निर्णय लिया, जहां इसके महानिदेशक हुसैन अल मुसल्लम और कार्यवाहक अध्यक्ष रणधीर सिंह उपस्थित थे। बयान में कहा गया है कि हांग्जो एशियाई गेम्स की नई तारीखों की घोषणा उचित समय में की जाएगी। चीन के कई प्रांतों में कोविड-19 मामलों में तेजी से बढ़ोतरी होने के बाद यह फैसला आया है। 2020 टोक्यो ओलंपिक गेम्स को भी कोविड-19 के कारण एक साल के लिए स्थगित कर दिया गया था, जिसे बाद पिछले साल आयोजित किया गया था।

ओसीए ने बयान में कहा, "चीनी ओलंपिक समिति (सीओसी) और हांग्जो एशियाई गेम्स की आयोजन समिति (एचएजीओसी) के साथ विस्तृत चर्चा के बाद ओसीए कार्यकारी बोर्ड (ईबी) ने आज 19वें एशियाई खेलों को स्थगित करने का फैसला किया, जो चीन के हांग्जो में होने वाला था। 19वें एशियाई खेलों की नई तारीखों का ऐलान जल्द किया जाएगा।" मीडिया रिपोर्ट्स में पिछले दिनों से एशियाई गेम्स के स्थगित होने की अटकलें लगाई जा रही थीं। चीन और अन्य एशियाई देशों में मौजूदा महामारी की स्थिति को देखते हुए यह निर्णय आश्चर्य रूप से नहीं लिया गया है। इससे पहले, चीन ने 2010 में ग्वांगझू में एशियाई खेलों की मेजबानी की थी। ओसीए ने यह भी कहा कि एशियाई युवा खेल शान्ताउ 2021, जिसे पहले स्थगित कर दिया गया था, जिसे बाद में रद्द करने का फैसला किया गया।

छह साल के अश्वथ कौशिक ने जीता शतरंज अंडर-8 का खिताब

भारत के छह वर्षीय शतरंज खिलाड़ी अश्वथ कौशिक ने 1 से 3 मई तक ग्रीस में विश्व कैडेट और युवा चैंपियनशिप 2022 में ओपन अंडर-8 वर्ग में स्वर्ण जीतकर इतिहास रच दिया है। टूर्नामेंट में 40 देशों के 330 से अधिक खिलाड़ियों ने भाग लिया, जो इस साल एफआईडीई कैलेंडर का पहला बड़ा आयोजन था।

जीत के लिए कौशिक ने राउंड 3 में कनाडा के मोदिथ आरोह मुत्यालपति (ईएलओ 1598) और नीदरलैंड के राघव पाठक (ईएलओ 1355) को हराया। सातवीं वरीयता के रूप में उन्होंने संभावित नौ में से 8.5 अंकों के साथ अभियान को समाप्त करने के लिए बेहतरीन काम किया, अंत में शीर्ष 12 फिनिशरों में से आठ को हराया। अश्वथ के कोच, एसएमसीए के एफआईडीई मास्टर बालाजी गुटुला ने उनके प्रदर्शन का श्रेय उनकी तेज सोच को दिया। बालाजी ने कहा कि अश्वथ किसी भी टूर्नामेंट में खेले गए 30 से अधिक मूव्स को याद कर सकते हैं। उनकी मां रोहिणी ने कहा कि शतरंज के अलावा, कौशिक को साइकिल चलाना और फॉर्मूला 1 देखना पसंद है। उनका अपने आदर्श मिखाइल ताल की तरह अच्छा शतरंज खेलकर ग्रैंडमास्टर बनने का लक्ष्य है।

अलग-अलग प्रारूप में कोच रखने की प्लानिंग कर रहा इंग्लैंड

न्यूजीलैंड के पूर्व क्रिकेटर और कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) के वर्तमान मुख्य कोच ब्रेंडन मैकुलम इंग्लैंड के सफेद गेंद के मुख्य कोच के पद के लिए सबसे आगे चल रहे हैं, जबकि दक्षिण अफ्रीका के पूर्व सलामी बल्लेबाज गैरी कस्र्टन टेस्ट में पदभार संभालने के लिए पसंदीदाओं में से एक हैं। रॉब को टीम के प्रबंध निदेशक के रूप में पदभार संभालने के बाद देश में क्रिकेट के अलग-अलग प्रारूप में कोच रखने की जिम्मेदारी दी गई है। मिरर डॉट को डॉट यूके में शुक्रवार को कहा गया कि मैकुलम और कस्र्टन सूची में शामिल हैं, क्योंकि उनका लक्ष्य अलग-अलग टीमों के लिए कोच बनाया है, विशेष रूप से टेस्ट टीम, जो पिछले कुछ वर्षों से खराब प्रदर्शन कर रही। हाल ही में एशेज और कैरेबियन में सीरीज हार गए थे।

अगर इंग्लैंड सफेद गेंद और टेस्ट टीमों के लिए अलग-अलग कोचों को नियुक्त करता है, तो वे भूमिका को विभाजित करने वाला एकमात्र देश बन जाएगा। रिपोर्ट में कहा गया है, "ईसीबी के क्रिकेट के नए प्रबंध निदेशक रॉब ने पिछले दिनों में कई संभावित उम्मीदवारों से संपर्क किया है, जिसमें दक्षिण अफ्रीका और भारत के पूर्व कोच गैरी कस्र्टन ने विशेष रूप से टेस्ट भूमिका के बारे में बताया।" 40 वर्षीय मैकुलम को उनके सफेद गेंद के कारनामों के लिए सबसे ज्यादा याद किया जाता है, विशेष रूप से टी20 में, जहां उन्होंने न्यूजीलैंड के लिए 71 मैच खेले, जिसमें 136 से अधिक के स्ट्राइक रेट से 2100 से अधिक रन बनाए।

चेन्नई के खिलाफ विकेट लेकर खुशी हुई : हर्षल पटेल

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के तेज गेंदबाज हर्षल पटेल ने कहा है कि वह एक ओवर में तरह-तरह की गेंद फेंकने में माहिर हो गए हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें खुशी है कि वह आखिरकार एमसीए स्टेडियम में 4 मई को चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ विकेट लेने में कामयाब रहे। पटेल ने चार ओवरों में 3/35 विकेट लिए थे, जिससे उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंड ग्लेन मैक्सवेल (2/22) के साथ आईपीएल 2022 में गत चैंपियन को 13 रन से हराकर आरसीबी के अभियान को पटरी पर ला दिया। पटेल पिछले सीजन में पर्पल कैप विजेता थे, लेकिन इस साल वह 13 विकेट के साथ तालिका में 11वें स्थान पर हैं, क्योंकि टूर्नामेंट के महत्वपूर्ण चरण में प्रवेश करने के साथ ही उन्हें तालिका में ऊपर चढ़ने की उम्मीद है। पटेल ने कहा कि एक ओवर में तरह-तरह की गेंद फेंकना टी20 में महत्वपूर्ण है।

31 वर्षीय हर्षल ने यह भी कहा कि वह कुछ कमियों को दूर करने की कोशिश कर रहे हैं, जिसके कारण सीएसके के खिलाफ सफलता उसी की वजह से मिली थी। पटेल सीएसके के खिलाफ शानदार फॉर्म में थे, उन्होंने तीन महत्वपूर्ण विकेट लिए और सबसे महत्वपूर्ण 18वें और 20वें ओवर में शानदार प्रदर्शन करते हुए आरसीबी को मैच जीताने में शानदार भूमिका निभाई। अपनी रणनीति के बारे में पटेल ने कहा, "मैंने पहले ओवर में धीमी गेंद करने की कोशिश की, लेकिन मैंने बल्लेबाज के पाले में डाल दी, जिसे मुझे हिट लगे।" फिर उन्होंने बदलते छोरों के बारे में बताया, जिससे उन्हें चेन्नई के रन फ्लो को रोकने में मदद मिली। उन्होंने कहा, "हमने फैसला किया था कि मोईन अली और रवींद्र जडेजा को बाहर की तरफ गेंदबाजी करेंगे और इससे मुझे बड़ी टीम के खिलाफ अपने हिसाब से गेंदबाजी करने की अनुमति मिली। वहीं, आपको पता होना चाहिए कि हालात क्या हैं और बल्लेबाज क्या करने की कोशिश कर रहे हैं और वे किन क्षेत्रों में स्कोर करने की कोशिश कर रहे हैं और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आप कौन सी गेंद कर सकते हैं, जिसके बाद आप उस स्थिति में काफी अच्छा महसूस करते हैं।"

आरपी सिंह ने उमरान मलिक को दी अहम सलाह

भारत के पूर्व दिग्गज तेज गेंदबाज आरपी सिंह ने सनराइजर्स हैदराबाद के युवा खिलाड़ी उमरान मलिक को एक अहम सलाह दी है। उन्होंने कहा है कि उमरान को सिर्फ अपनी पेस के भरोसे ही नहीं रहना चाहिए। बल्कि उन्हें सफल होने के लिए और भी स्किल की जरूरत है और गेंदबाजी करते समय अपने दिमाग का भी प्रयोग करना चाहिए। उमरान मलिक ने दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ आईपीएल इतिहास का सबसे तेज गेंद डालने का रिकॉर्ड बनाया। 157 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गेंद डालते हुए उन्होंने नया रिकॉर्ड कायम कर दिया। हालांकि वो विकेट एक भी नहीं ले पाए और काफी महंगे भी साबित हुए। आरपी सिंह के मुताबिक उमरान को सिर्फ अपनी पेस पर ही ध्यान नहीं देना चाहिए, बल्कि उन्हें स्किल की भी जरूरत है।

क्रिकबज्ज पर बातचीत के दौरान उन्होंने कहा "शायद उमरान मलिक अभी बड़े स्टेज की तैयारी ही कर रहे हैं लेकिन वो अभी तक पूरी तरह से तैयार नहीं हुए हैं। पावरप्ले में उनका प्रयोग किया गया, जहां पर काफी ज्यादा रन बने और स्लॉग ओवर्स में भी उनके खिलाफ ऐसा ही हुआ। इसलिए उन्हें काफी सुधार की जरूरत है। गति ही सबकुछ नहीं है। पेस होना अच्छी बात है लेकिन उसके साथ ही आपको स्किल की भी जरूरत होती है और दिमाग का भी प्रयोग करना होता है। किस बल्लेबाज के खिलाफ कहां गेंदबाजी करनी है ये आपको पता होना चाहिए।"

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia