कुश्ती संघ भंग होने पर साक्षी मलिक का आया बयान, बोलीं- बेटियों की लड़ाई में ये पहला कदम, उम्मीद है...

साक्षी मलिक ने कहा कि हमारी सरकार से कोई लड़ाई नहीं है। लड़ाई सिर्फ एथलीट्स के लिए थी। मुझे बच्चों की चिंता है। हमारी लड़ाई महिला पहलवानों के लिए है, जो कुश्ती संघ में बेटियां खेल रही हैं उनके लिए है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

केंद्रीय खेल मंत्रालय द्वारा भारतीय कुश्ती महासंघ को निलंबित करने पर पहलवान साक्षी मलिक की प्रतिक्रिया आ गई है। उन्होंने कहा कि यह पहलवानों की बेहतरी के लिए हुआ है। हम तो कह रहे थे कि यह बेटियों और बहनों की लड़ाई है, यह पहला कदम है। उम्मीद करूंगी की सरकार और हमारे पक्ष में कदम उठाएगी। साक्षी ने कहा कि हम चाहते हैं कि कुश्ती संघ की अध्यक्ष महिला हो। एक अच्छा कुश्ती संघ हो और आगे आने वाली बच्चियां सुरक्षित रहें।

साक्षी मलिक ने कहा कि हमारी सरकार से कोई लड़ाई नहीं है। लड़ाई सिर्फ एथलीट्स के लिए थी। मुझे बच्चों की चिंता है। हमारी लड़ाई महिला पहलवानों के लिए है, जो कुश्ती संघ में बेटियां खेल रही हैं उनके लिए है। यह लड़ाई हम अपने तरीके से लड़ रहे हैं। मैंने तो संन्यास का ऐलान कर दिया है। मैं बस यही चाहूंगी कि जो आने वाली बेटियां हैं उनको न्याय मिले।


केंद्रीय खेल मंत्रालय ने नव निर्वाचित कुश्ती संघ को भंग कर दिया है। इससे पहले 21 दिसंबर को WFI का चुनाव खत्म होने के बाद से ही विवाद जारी था। साक्षी मलिक ने संघ के इस चुनाव पर ऐतराज जताते हुए प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान अपने जूते निकालकर मेज पर रख दिए थे और कुश्ती से संन्यास का ऐलान कर दिया था। विवादों के बीच रविवार को मंत्रालय ने नव निर्वाचित कुश्ती संघ को भंग का फैसला लिया।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;