खेल: 2024 में T-20 WC जीतकर अपने खिताबी सूखे को खत्म करना चाहेगी टीम इंडिया और बल्लेबाजों को लेकर रोहित का तल्ख बयान

2024 भारत के लिए अपने इतिहास के पन्नों में ट्रॉफी जोड़ने का एक और अवसर आ रहा है। दक्षिण अफ्रीका से पहला टेस्ट पारी और 32 रनों से हारने के बाद भारत के कप्तान रोहित शर्मा ने कहा कि बल्लेबाजों को अपनी व्यक्तिगत योजनाएं बनाने की जरूरत है

फोटो: ians
फोटो: ians
user

नवजीवन डेस्क

टी20 वर्ल्ड कप जीतकर अपने खिताबी सूखे को खत्म करना चाहेगी टीम इंडिया

चेन्नई में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ विश्व कप 2023 अभियान शुरू करने की पूर्व संध्या पर, भारत के कप्तान रोहित शर्मा ने इस खिताब को जीतने के अधूरे काम को पूरा करने के बारे में बात करते हुए एक स्पष्ट लेकिन गंभीर बात कही।

अगले डेढ़ महीने में रोहित और भारतीय टीम ने खेल के सभी पहलुओं में शानदार प्रदर्शन किया और सभी का मन मोह लिया। इस विश्व कप में उनकी राह अनिश्चितता और प्रमुख खिलाड़ियों की चोटों से भरी थी।

अचानक, विश्व कप की तैयारी में, सब कुछ ठीक हो गया और इसके कारण एक अभियान शुरू हुआ, जहां हर किसी को लगा कि घरेलू सरजमीं पर भारत की जीत पक्की है। लेकिन, एक बार फिर 19 नवंबर को एक बड़े मंच पर भारतीय टीम पस्त नजर आई। भारत द्विपक्षीय शृंखला में एक मजबूत टीम है, लेकिन बड़े मौकों पर लड़खड़ाने के लिए मशहूर है।

दुर्भाग्य से, लगातार दस जीत और सब कुछ उनके पक्ष में होने के बावजूद फाइनल में ऑस्ट्रेलिया ने भारत की हार की कहानी लिखी। अब, 2024 भारत के लिए अपने इतिहास के पन्नों में ट्रॉफी जोड़ने का एक और अवसर आ रहा है, जब वह टी20 विश्व कप के लिए 4-30 जून तक वेस्टइंडीज और अमेरिका में अपना दमखम दिखाएंगे।

भारतीय शटलर का पहला लक्ष्य शीर्ष 16 के लिए क्वालीफाई करना

खेल: 2024 में T-20 WC जीतकर अपने खिताबी सूखे को खत्म करना चाहेगी टीम इंडिया और बल्लेबाजों को लेकर रोहित का तल्ख बयान

वर्ष 2023 भारतीय बैडमिंटन के प्रशंसकों के लिए एक विविध अनुभव के रूप में सामने आया।जहां पुरुष खिलाड़ियों, विशेष रूप से सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की जोड़ी ने रिकॉर्ड तोड़कर और खिताब जीतकर सुर्खियां बटोरीं, वहीं स्थापित महिला एकल स्टार पी.वी. सिंधु को इंजरी ब्रेक के बाद वापसी करते समय बाधाओं का सामना करना पड़ा।

पेरिस ओलंपिक शुरू होने में 244 दिन शेष हैं, 2024 सीज़न में भारतीय शटलरों का लक्ष्य रोड टू पेरिस में शीर्ष 16 में स्थान सुरक्षित करना होगा। सीज़न की शुरुआत सुपर 1000 मलेशिया ओपन और सुपर 750 इंडिया ओपन से होगी। पेरिस ओलंपिक क्वालीफिकेशन की दौड़ 1 मई, 2023 को सुदीरमन कप के साथ शुरू हुई और 28 अप्रैल, 2024 को समाप्त होगी।


टी20 वर्ल्ड कप में भारत के एक्स फैक्टर बनने के लिए तैयार हैं छोटे शहर के सितारे

खेल: 2024 में T-20 WC जीतकर अपने खिताबी सूखे को खत्म करना चाहेगी टीम इंडिया और बल्लेबाजों को लेकर रोहित का तल्ख बयान

भारतीय क्रिकेट टीम के लिए यह कहना गलत नहीं होगा कि उनके लिए पिछले दो पुरुष टी20 विश्व कप अभियान मिश्रित परिणाम वाले रहे हैं। साल 2021 में भारतीय टीम जीत के इरादे के साथ मैदान में उतरी थी, लेकिन पाकिस्तान और न्यूजीलैंड से मिली हार ने टीम इंडिया के सभी इरादों पर पानी फेर दिया था।

फिर, टीम इंडिया ने अपने बल्लेबाजी दृष्टिकोण में बदलाव किया और अर्शदीप सिंह के रुप में एक गेंदबाज पाया, लेकिन ऑस्ट्रेलिया में 2022 संस्करण भी उनके लिए ज्यादा अच्छा नहीं रहा।

सेमीफाइनल में पहुंचने से पहले उन्होंने पाकिस्तान पर एक विकेट की रोमांचक जीत के साथ शुरुआत की, जबकि इंग्लैंड ने उन्हें दस विकेट से करारी शिकस्त भी दी।

एक व्यस्त क्रिकेट शेड्यूल में प्रतियोगिता में एक टीम की राह का अंत टीमों के लिए नए सिरे से आने वाले युवाओं और हर खेल में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के दृष्टिकोण को शामिल करने का एक मौका है।

हालांकि भारत के पास रोहित शर्मा, विराट कोहली जैसे वरिष्ठ खिलाड़ी हैं, लेकिन चयन समिति छोटे शहरों से आने वाले युवाओं के प्रदर्शन को नजरअंदाज नहीं कर सकती है। जो संभावित रूप से पुरुष टी20 विश्व कप में भारत के मुख्य आधार बन सकते हैं।

पेरिस 2024 में टोक्यो के अब तक के सर्वश्रेष्ठ 7 पदकों को पीछे छोड़ सकता है भारत

खेल: 2024 में T-20 WC जीतकर अपने खिताबी सूखे को खत्म करना चाहेगी टीम इंडिया और बल्लेबाजों को लेकर रोहित का तल्ख बयान

भारत में गैर-क्रिकेट खेलों में उत्कृष्टता को हमेशा ओलंपिक खेलों में जीते गए पदकों के संदर्भ में मापा गया है। चतुष्कोणीय खेल सफलता का शिखर रहे हैं जिसे केवल कुछ ही भारतीयों ने हासिल किया है, क्योंकि 1912 में स्टॉकहोम में अपनी शुरुआत के बाद से ओलंपिक खेलों में भाग लेने की एक सदी से अधिक समय में, भारत ने केवल 35 पदक जीते हैं - 10 स्वर्ण, नौ रजत और 16 कांस्य।

इनमें से फील्ड हॉकी ने 12 पदकों का योगदान दिया है - आठ स्वर्ण, एक रजत और तीन कांस्य। दशकों तक हॉकी के 10 से अधिक संस्करणों को छोड़कर, भारतीय एथलीट ओलंपिक में पदक के दावेदार के रूप में जाते हैं, खासकर शूटिंग, बैडमिंटन, कुश्ती, मुक्केबाजी, भारोत्तोलन और एथलेटिक्स में।

इस नई सफलता, आत्मविश्वास और कौशल के साथ भारतीय खिलाड़ी पेरिस में 26 जुलाई से 10 अगस्त तक होने वाले 2024 ओलंपिक खेलों में कई स्पर्धाओं में खिताब के दावेदार के रूप में जाएंगे।


तकनीक से ज्यादा व्यक्तिगत योजना महत्वपूर्ण : रोहित

खेल: 2024 में T-20 WC जीतकर अपने खिताबी सूखे को खत्म करना चाहेगी टीम इंडिया और बल्लेबाजों को लेकर रोहित का तल्ख बयान

दक्षिण अफ्रीका से पहला टेस्ट पारी और 32 रनों से हारने के बाद भारत के कप्तान रोहित शर्मा ने कहा कि बल्लेबाजों को अपनी व्यक्तिगत योजनाएं बनाने की जरूरत है, जो उनके पास मौजूद तकनीकों से ज्यादा महत्वपूर्ण हैं। दक्षिण अफ्रीका को 163 रन की बढ़त देने के बाद भारत की दूसरी पारी 34.1 ओवर तक सिमट गई।

जिसमें रोहित सहित आठ बल्लेबाज एकल अंक के स्कोर पर 131 रन पर आउट हो गए। विराट कोहली ने पारी की हार की शर्मिंदगी से बचने की कोशिश करते हुए 82 गेंदों पर 76 रन बनाए, लेकिन दूसरे छोर से उन्हें समर्थन नहीं मिला।

रोहित ने मैच खत्म होने के बाद कहा, "हर किसी के पास अलग-अलग तरह की तकनीक होती है, इसलिए आप हर किसी को यह नहीं बता सकते कि कैसे खेलना है। व्यक्तिगत योजनाओं के साथ यहां आना महत्वपूर्ण है। यदि आप रन बनाना चाहते हैं और अच्छा प्रदर्शन करना चाहते हैं, तो तकनीकों की तुलना में व्यक्तिगत योजनाएं अधिक महत्वपूर्ण हैं।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;