खेल की 5 बड़ी खबरें: सिडनी टेस्ट में आस्ट्रेलिया की पकड़ मजबूत! पुजारा ने बताया क्यों खलेगी जडेजा की कमी?

AUS ने सिडनी टेस्ट मैच के तीसरे दिन शनिवार का अंत अपनी दूसरी पारी में दो विकेट के नुकसान पर 103 रनों के साथ किया है और चेतेश्वर पुजारा ने कहा है कि रवींद्र जडेजा में खाली गेंद निकालने की काबिलियत है और इसी कारण वह विपक्षी टीम पर दबाव बनाते हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

सिडनी टेस्ट: आस्ट्रेलिया की पकड़ मजबूत, 197 रनों की बढ़त

आस्ट्रेलिया ने यहां सिडनी क्रिकेट ग्राउंड (एससीजी) में भारत के खिलाफ खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन शनिवार का अंत अपनी दूसरी पारी में दो विकेट के नुकसान पर 103 रनों के साथ किया है। आस्ट्रेलिया ने भारत पर 197 रनों की बढ़त भी ले ली है। आस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 338 रन बनाए थे। उसने भारत को पहली पारी में 244 रनों पर समेट दिया और दूसरी पारी में 94 रनों की बढ़त के साथ उतरी थी। तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक स्टीव स्मिथ 29 और मार्नस लाबुशैन 47 रन बनाकर खेल रहे हैं। आस्ट्रेलिया ने डेविड वार्नर (13) और विल पुकोवस्की (10) के विकेट खोए हैं। भारत के लिए मोहम्मद सिराज और रविचंद्रन अश्विन ने एक-एक विकेट लिया है।

पुजारा बोले- जडेजा की कमी खलेगी, वह बल्लेबाजों पर दबाव बनाते हैं

भारतीय टीम के बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने कहा है कि रवींद्र जडेजा में खाली गेंद निकालने की काबिलियत है और इसी कारण वह विपक्षी टीम पर दबाव बनाते हैं। जडेजा यहां सिडनी क्रिकेट ग्राउंड (एससीजी) में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन शनिवार को बल्लेबाजी करते हुए चोटिल हो गए और इसी कारण गेंदबाजी नहीं कर पाए। जडेजा को बल्लेबाजी करते हुए मिशेल स्टार्क की गेंद बाएं हाथ के अंगूठे पर लगी थी। वह 28 रन बनाकर नाबाद लौटे थे लेकिन गेंदबाजी करने नहीं आए। पुजारा ने कहा, "जब आप रवींद्र जडेजा जैसा गेंदबाज खो देते हैं तो यह आसान नहीं होता है। उन्होंने पहली पारी में चार विकेट लिए थे। वह एक छोर से लगातार एक ही जगह गेंदबाजी कर सकते हैं। वह ऐसे गेंदबाज हैं जो बल्लेबाजों पर खाली गेंद फेंकते हुए दबाव बनाते हैं। वह मैदान पर भी काफी अहम होते हैं सिर्फ गेंदबाज के तौर पर नहीं बल्कि फील्डर के तौर पर भी। उनका न होना बड़ा झटका है।"

बुमराह, सिराज पर नस्लीय टिप्पणी की भारतीय अधिकारियों ने की शिकायत!

भारतीय क्रिकेट टीम के अधिकारियों ने शिकायत की है कि सिडनी क्रिकेट ग्राउंड (एससीजी) पर आस्ट्रेलिया के साथ खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन शनिवार को तेज गेंदबाज-जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद सिराज पर दर्शकों ने नस्लीय टिप्पणी की है। तीसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद आईसीसी, स्टेडियम के सुरक्षा अधिकारी बुमराह और सिराज के साथ लंबी बातचीत करते हुए नजर आए और इस दौरान भारतीय टीम प्रबंधन के सदस्य भी उनके साथ थे।

टीम के कप्तान अजिंक्य रहाणे भी सुरक्षा अधिकारियों से बातें करते हुए नजर आए। आस्ट्रेलियाई अखबार द डेली टेलीग्राफ की रिपोर्ट के मुताबिक, "यह पता चला है कि भारतीय अधिकारियों ने कहा है कि बुमराह और सिराज पर दर्शकों द्वारा बीते दो दिन से फब्तियां कसी जा रही हैं जो नस्लीय हैं। मैदान के रैंडविंक छोर की तरफ जहां सिराज फील्डिंग कर रहे थे वहां दर्शकों में से यह टिप्पणी की गई।"

श्रीलंकाई स्पिनर धनंजय के गेंदबाजी एक्शन को आईसीसी ने दी हरी झंडी

श्रीलंकाई स्पिनर अकिला धनंजय के गेंदबाजी एक्शन को आईसीसी ने हरी झंडी दे दी है। धनंजय को संदिग्ध गेंदबाजी एक्शन के चलते अगस्त में एक साल के लिए बैन कर दिया गया था। आईसीसी ने शनिवार को एक बयान जारी कर इस बात की जानकारी दी। उन्होंने कहा, "आईसीसी आज इस बात की घोषणा करती है कि श्रीलंका के ऑफ स्पिनर अकिला धनंजय के गेंदबाजी एक्शन की जांच की गई और उनके एक्शन को सही पाया गया है। वह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में गेंदबाजी कर सकते हैं।" धनंजय के गेंदबाजी एक्शन की शिकायत 29 अगस्त 2019 को न्यूजीलैंड के खिलाफ गॉल टेस्ट में की गई थी। इसके एक साल बाद उनको बैन किया गया था।

एआईएफएफ ने रेफरी के फैसले और फॉक्स के रेडकार्ड दिखाने का बदला

अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ (एआईएफएफ) की अनुशासनात्मक समिति ने एफसी गोवा के खिलाफ खेले गए आईएसएल के सातवें सीजन के 49वें मैच में ईस्ट बंगाल के डिफेंडर डेनियल फॉक्स के रेडकार्ड दिखाने के फैसले को बदल दिया है। दोनों टीमों के बीच यह मैच 1-1 से ड्रॉ रहा था। एआईएफएफ के इस फैसले के बाद फॉक्स अब शनिवार को बेंगलुरू एफसी के खिलाफ होने वाले मैच के लिए उपलब्ध होंगे।

एआईएफएफ ने एक बयान में कहा कि समिति ने क्लब की इस फैसले के खिलाफ अपील पर इसकी वीडियो क्लिपिंग्स की समीक्षा की और अब समिति इस बात से संतुष्ट है कि फॉक्स ने जानबूझकर गंभीर गलती या हिंसक व्यवहार नहीं किया था। खेल पंचाट चार्टर के अनुसार मैदानी रैफरी के फैसलों की आमतौर पर तब तक समीक्षा नहीं की जाती जब तक कि पुख्ता सबूत न हो कि इस फैसले में कोई दुर्भावना, लापरवाही, मनमानी की गई हो। इसलिए समिति ने खेल भावना के तहत फॉक्स को रेडकार्ड दिखाने के इस फैसले को बदलने का फैसला किया।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय
next