खेल: IPL 2024 में नियमों में होंगे ये 2 बड़े बदलाव और पहलवान बजरंग पूनिया ने लौटाया पद्मश्री सम्मान

IPL 2024 में नियमों में 2 बड़े बदलाव देखने को मिलेंगे और कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष पद पर बृजभूषण शरण सिंह के करीबी के चुनाव जीतने पर पहलवान बजरंग पूनिया ने पद्म श्री पुरस्कार लौटा दिया है।

फोटो: Getty Image
फोटो: Getty Image
user

नवजीवन डेस्क

IPL 2024 में नियमों में होंगे ये 2 बड़े बदलाव

आईपीएल 2024 अगले साल के मार्च महीने में शुरू हो जाएगा और इस टूर्नामेंट का फाइनल मुकाबला मई में खेला जाएगा। आईपीएल 2024 से पहले नियमों में दो बड़े बदलाव किए गए हैं। इससे गेंदबाजों को बड़ा तोहफा मिला है। यह नियम गेंदबाज के लिए वरदान की तरह है। दूसरी ओर नए नियम ने बल्लेबाजों के लिए मुश्किलें बढ़ा दी है। इससे चौके और छक्कों पर लगाम लग सकती है। आईपीएल 2024 से पहले एक नियम तो ये बनाया गया है कि गेंदबाज एक ओवर में 2 बाउंसर फेंक सकेंगे। इससे पहले व्हाइट बॉल क्रिकेट हो या फिर कोई भी फॉर्मेट हो, गेंदबाज सिर्फ एक ही बाउंसर फेंक सकते थे, लेकिन अब आईपीएल 2024 में गेंदबाजों के पास 2 बाउंसर फेंकने का मौका है। इससे बल्लेबाज के पसीने छूट सकते हैं। बल्लेबाजों के लिए बाउंसर सबसे घातक गेंद में से एक होता है। ऐसे में बाउंसर का एक से बढ़ाकर दो कर देना बल्लेबाजों के लिए मुश्किलें बढ़ा सकती है। इससे चौके-छक्के पर भी लगाम लग सकती है।

आईपीएल 2024 में जो दूसरा नियम है, वह है इंपैक्ट प्लेयर का। हाल ही में इम्पैक्ट प्लेयर का रूल लाया गया था, लेकिन यह सिर्फ एक्सपेरिमेंट के लिए था। उम्मीद की जा रही थी कि इसे बंद कर दिया जाएगा, लेकिन बीसीसीआई ने माना कि यह रूल काफी इफेक्टिव रहा और इससे फैंस में और अधिक उत्साह देखने को मिला, इस कारण से अगले आईपीएल सीजन में इम्पैक्ट प्लेयर का नियम फिर से लागू किया जाएगा।

पहलवान बजरंग पूनिया ने लौटाया पद्मश्री सम्मान, PM को खत लिखकर किया ऐलान

कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष पद पर बृजभूषण शरण सिंह के करीबी के चुनाव जीतने पर पहलवान बजरंग पूनिया ने पद्म श्री पुरस्कार लौटा दिया है। शुक्रवार को उन्होंने बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि यह चुनाव बताता है कि पहलवानों का भविष्य अब सुरक्षित नहीं रहेगा। इससे पहले गुरुवार को साक्षी मलिक ने खेल ही छोड़ने का ऐलान कर दिया था। बजरंग पूनिया ने यह सम्मान ट्विटर पर एक खत लिखकर लौटाने का ऐलान किया है। इसमें उन्होंने सीधे पीएम नरेंद्र मोदी को संबोधित करते हुए लिखा है कि मुझे अर्जुन अवॉर्ड, खेल रत्न और पद्मश्री सम्मान से नवाजा गया था। मेरा हर जगह अर्जुन अवार्डी कहकर सम्मान किया जाता रहा है, लेकिन जब हम महिला पहलवानों का ही सम्मान सुरक्षित नहीं रख सके तो फिर इनके बोझ तले दबकर मैं अपनी जिंदगी नहीं जी पाऊंगा।

बजरंग पूनिया ने लिखा है कि जिन बेटी-बेटियों को बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का ब्रांड अंबेसडर बनना था, उन्हें अपने खेल से ही बाहर होना पड़ा है। इसके बाद भी हम 'सम्मानित' पहलवान कुछ भी नहीं कर सके। यह हमारे लिए कचोटने वाली बात है। बृजभूषण शरण सिंह के करीबी संजय सिंह के कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष का चुनाव जीतने का जिक्र करते हुए बजरंग पूनिया ने कहा कि इन लोगों ने जीत के बाद दावा किया कि दबदबा है और रहेगा। इसी मानसिक दबाव में आकर ओलंपिक पदक विजेता एकमात्र महिला पहलवान साक्षी मलिक ने खेल से ही संन्यास लेने का ऐलान कर दिया। बृजभूषण की इस जीत के चलते हम सभी की रात रोते हुए निकली। बजरंग पूनिया ने लिखा, 'समझ नहीं आ रहा था कि कहां जाएं, क्या करें और कैसे जिएं। इतना मान सम्मान दिया सरकार ने और लोगों ने। क्या इसी सम्मान के तले दबकर घुटता रहूं। साल 2019 में मुझे पद्मश्री से नवाजा गया। खेल रत्न और अर्जुन अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया। जब ये सम्मान मिले तो बहुत खुशी हुई और लगा कि जीवन सफल हो गया। लेकिन आज उससे कहीं ज्यादा दुखी हूं और ये सम्मान मुझे कचोट रहे हैं। कारण सिर्फ एक ही है, जिस कुश्ती के लिए हमें ये सम्मान मिले, उसमें हमारी साथी महिला पहलवानों को अपनी सुरक्षा के लिए कुश्ती तक छोड़नी पड़ रही है।'

यही नहीं बजरंग पूनिया ने महिला खिलाड़ियों के कुश्ती छोड़ने पर कहा कि यह बड़ा झटका है। उन्होंने लिखा, 'खेल हमारी महिला खिलाड़ियों के जीवन में बदलाव लेकर आए थे। पहले देहात में कोई यह कल्पना नहीं कर सकता था कि देहाती मैदानों में लड़के और लड़कियां साथ खेलते दिखेंगे। लेकिन पहली पीढ़ी की महिला खिलाड़ियों की हिम्मत के कारण ऐसा हो सका। हर गांव में आपको लड़कियां खेलती दिख जाएंगी और वे खेलने के लिए देश-विदेश तक जा रही हैं। लेकिन जिनका दबदबा कायम हुआ है या रहेगा, उनकी परछाई तक महिला खिलाड़ियों को डराती है और अब तो वे पूरी तरह से दोबारा काबिज हो गए हैं।'


काली पट्टी पहनने पर फटकार का मेरे लिए कोई मतलब नहीं: उस्मान ख्वाजा

पाकिस्तान के खिलाफ पर्थ टेस्ट के दौरान काली पट्टी पहनने के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) द्वारा फटकार लगाने के फैसले से हतप्रभ ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज उस्मान ख्वाजा ने कहा है कि 'इस फैसले का कोई मतलब नहीं है।' ख्वाजा ने पर्थ में ऑस्ट्रेलिया की 360 रनों की जीत के दौरान अपने पूर्वनिर्धारित जूता विरोध पर प्रतिबंध लगाने के आईसीसी के कदम की अवहेलना करते हुए एक काली पट्टी पहनी थी। यह विवाद व्यक्तिगत शोक की पृष्ठभूमि में सामने आया, क्योंकि ख्वाजा ने गाजा में संघर्ष पर अपने विश्वास को व्यक्त करने के अपने अधिकार का उत्साहपूर्वक बचाव किया। 37 वर्षीय क्रिकेटर, जो अपने शानदार बाएं हाथ के स्ट्रोक के लिए जाने जाते हैं, पर आईसीसी द्वारा कपड़े और उपकरण नियमों से संबंधित दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने का आरोप लगाया गया था।

ख्वाजा ने अपने कार्यों के पीछे की प्रेरणा के बारे में बताया और उस मानवीय संकट पर प्रकाश डाला जिसने उन्हें गहराई से प्रभावित किया। उन्होंने अपने इंस्टाग्राम फ़ीड को स्क्रॉल करने और संघर्ष क्षेत्र में निर्दोष बच्चों के दुखद भाग्य को देखने के बारे में बात की, एक ऐसा दृश्य जिसने दिल को छू लिया और बोलने के उनके दृढ़ संकल्प को बढ़ावा दिया। ख्वाजा ने फॉक्स क्रिकेट से कहा, "मैंने अपने जूतों पर जो लिखा, उसके बारे में कुछ देर तक सोचा कि मैं क्या लिखने जा रहा हूं। मैंने यह सुनिश्चित किया कि मैं आबादी के विभिन्न हिस्सों को अलग नहीं करना चाहता। यही कारण है कि मैंने धर्म को इससे दूर रखा।"

"मैं ऐसा इसलिए कर रहा हूं क्योंकि इसने मुझे बहुत प्रभावित किया है। मैंने आज सुबह निक से कहा कि जब मैं अपने इंस्टाग्राम को देख रहा हूं और मैंने बच्चों, मासूम बच्चों, उनके मरने, गुजर जाने के वीडियो देखे हैं, तो यही हुआ है।मुझे सबसे ज़ोर से मारो। ” इस मामले पर अपने रुख के बारे में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के साथ कई चर्चाओं में शामिल रहे ख्वाजा ने पुष्टि की कि उनका मंगलवार से शुरू होने वाले आगामी बॉक्सिंग डे टेस्ट के दौरान आर्मबैंड पहनने का इरादा नहीं है।

ख्वाजा ने कहा,“मेरे लिए, व्यक्तिगत रूप से, आईसीसी के साथ काम करते समय, मुझे लगता है कि काली पट्टी पहनने के लिए डांटे जाने का मेरे लिए कोई मतलब नहीं था। मैंने सभी नियमों और पिछले उदाहरणों का पालन किया। लोगों ने अपने बल्लों पर स्टिकर लगा रखे हैं. उनके जूतों पर नाम, उन्होंने अतीत में आईसीसी की मंजूरी के बिना हर तरह की चीजें की हैं और उन्हें कभी फटकार नहीं लगाई गई। ''

“मैं आईसीसी के नियमों का सम्मान करता हूं… लेकिन मैं उनसे इस बात में निरंतरता के लिए पूछूंगा कि वे इसे कैसे संचालित करते हैं। मैं बस यही माँगता हूँ। क्योंकि मेरे दृष्टिकोण से, वह निरंतरता अभी तक नहीं हो पाई है।”

ख्वाजा को भरोसा है कि उन्हें राष्ट्रीय संस्था का समर्थन प्राप्त है। "हम एक साथ काम कर रहे हैं। मुझे ऐसा लगता है कि मैंने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया का समर्थन किया है और क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने भी मेरा समर्थन किया है।"

उन्होंने कहा, "मैं इस बात का सम्मान करता हूं कि नियम और प्रक्रियाएं और नियम और दिशानिर्देश हैं। मुझे नहीं लगता कि आईसीसी द्वारा हमेशा उनका पालन किया जाता है, लेकिन मैं उनका सम्मान कर रहा हूं और बस चीजों को ऊपर उठाने की कोशिश कर रहा हूं।"

सिफ्ट, रिदम ने राष्ट्रीय राइफल और पिस्टल शूटिंग ट्रायल में फिर से जीत हासिल की

सिफ्त कौर समरा और रिदम सांगवान ने डॉ. कर्णी सिंह शूटिंग रेंज में चल रहे शूटिंग राष्ट्रीय चयन ट्रायल में महिलाओं की 50 मीटर राइफल 3 पोजीशन (3पी) और महिलाओं की 25 मीटर पिस्टल टी2 ट्रायल में शुक्रवार को जीत दर्ज की। ट्रायल के पांचवें दिन पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल टी2 में जीत के साथ नौसेना के किरण अंकुश जाधव भी विजेता मंडल में शामिल हो गए।

शानदार फॉर्म में चल रही सिफ्ट ने क्वालीफिकेशन में शानदार 595 के साथ इसकी एक और झलक फिर से दी, जिसमें पहली नीलिंग स्थिति में परफेक्ट 200 भी शामिल था। भक्ति भास्कर खामकर, जिन्होंने सिफ्ट के बाद दूसरा स्थान हासिल करने के लिए अच्छा शॉट लगाया, पांच अंक पीछे थीं। सिफ्ट का स्कोर इस साल की शुरुआत में एशियाई खेलों में बनाए गए उनके राष्ट्रीय रिकॉर्ड स्कोर से एक अधिक और विश्व रिकॉर्ड से एक कम था।

आठ महिलाओं के फाइनल में, उन्होंने 464.8 का स्कोर किया, जिससे पंजाब की ओलंपियन और राज्य सीनियर अंजुम मुद्गिल को कोई मौका नहीं मिला, क्योंकि अंजुम मुद्गिल 461.7 के साथ समाप्त हुईं। आर्मी की प्रिया तीसरे स्थान पर रहीं।

महिलाओं की 25 मीटर पिस्टल टी2 ट्रायल में वही पैटर्न दोहराया गया जो टी1 ने कुछ दिन पहले किया था, कम से कम जहां तक ​​शीर्ष दो का सवाल है, लेकिन इसने एक सुखद आश्चर्य भी पैदा किया।

मनु भाकर फिर से क्वालीफायर में 590 के स्कोर के साथ शीर्ष पर रहीं, लेकिन वह रिदम ही थीं, जिन्होंने उन्हें 32 के मुकाबले 35 हिट के साथ फिर से शीर्ष स्थान पर पहुंचा दिया। टी1 ट्रायल की तरह, रिदम का क्वालीफाइंग स्कोर 578 और सातवें स्थान पर काफी कुछ रह गया। लेकिन जब यह सबसे ज्यादा मायने रखता था तो वह एक शीर्ष बंदूक थी।

पूर्व विश्व कप फाइनल स्वर्ण पदक विजेता और दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी हीना सिद्धू 27 हिट के साथ तीसरे स्थान पर रहीं और क्वालीफायर में 586 के उच्च स्कोर के साथ दूसरे स्थान पर रहीं।

पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल में, किरण जाधव ने पूरे दिन शानदार प्रदर्शन किया, पहले टेबल-टॉपिंग 633.4 पोस्ट किया और फिर 252.8 के ठोस स्कोर के साथ फाइनल में जगह बनाई। एक 10.9 ने उनके 24-शॉट स्कोरबोर्ड को सुशोभित किया, जबकि फाइनल में उनका न्यूनतम स्कोर 17वें शॉट के लिए 10.1 था। असम के हृदय हजारिका 250.5 के साथ दूसरे जबकि नौसेना के लगद सौरव गोरख तीसरे स्थान पर रहे।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;