बजरंग पुनिया पद्मश्री पुरस्कार लेंगे वापस? जानें कुश्ती संघ भंग होने के बाद उन्होंने क्या कहा?

पुनिया ने कहा कि मैं पद्मश्री वापस नहीं लूंगा। इंसाफ मिलने के बाद ही मैं इसके बारे में विचार करूंगा। कोई भी पुरस्कार हमारी बहनों के सम्मान से बड़ा नहीं है। हमें सबसे पहले इंसाफ मिलना चाहिए।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

केंद्रीय खेल मंत्रालय द्वारा भारतीय कुश्ती संघ भंग करने के बाद लोग यह सवाल पूछ रहे हैं क्या पहलवान बजरंग पुनिया पद्मश्री पुरस्कार को वापस लेंग? कुश्ती संघ भंग पर बजरंग पुनिया की प्रतिक्रिया आई है। उन्होंने कहा कि जब तक इंसाफ नहीं मिल जाता, तब तक वह पद्मश्री पुरस्कार वापस नहीं लेंगे।

पुनिया ने कहा, ''मैं पद्मश्री वापस नहीं लूंगा। इंसाफ मिलने के बाद ही मैं इसके बारे में विचार करूंगा। कोई भी पुरस्कार हमारी बहनों के सम्मान से बड़ा नहीं है। हमें सबसे पहले इंसाफ मिलना चाहिए।''

इससे पहले बजरंग पूनिया ने बृजभूषण शरण सिंह के करीबी संजय सिंह के भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष पद पर चुने जाने के विरोध में अपना पद्मश्री लौटा दिया था। 22 दिसंबर को पुनिया, पीएम मोदी से मिलने जा रहे थे। जब पुलिस ने उन्हें मिलने नहीं दिया तो वह पीएम आवास के बाहर पुटपाथ पर ही अपना पुरस्कार छोड़कर चले गए थे।

इससे पहले बजरंग पूनिया ने एक्स पर एक बयान में कहा था, “मैं अपना पद्श्री सम्मान प्रधानमंत्री को वापस लौटा रहा हूं। कहने के लिए बस मेरा यह पत्र है। यही मेरा बयान है।”


खेल मंत्रालय ने रविवार को संजय सिंह की अगुवाई वाली नई डब्ल्यूएफआई संस्था को राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के आयोजन की 'जल्दबाजी' में की गई घोषणा के कारण निलंबित कर दिया है। मंत्रालय ने एक पत्र जारी कर कहा, “भारतीय कुश्ती महासंघ के नवनिर्वाचित अध्यक्ष संजय कुमार सिंह जो 21 दिसंबर को अध्यक्ष चुने गए थे, उन्होंने घोषणा की थी कि कुश्ती के लिए अंडर-15 और अंडर-20 राष्ट्रीय प्रतियोगिताएं नंदिनी नगर, गोंडा (यूपी) में इस साल के अंत से पहले होंगी। यह घोषणा जल्दबाजी में की गई है, उन पहलवानों को पर्याप्त सूचना दिए बिना, जिन्हें उक्त राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग लेना है और डब्ल्यूएफआई के संविधान के प्रावधानों का पालन किए बिना है।"

इस साल की शुरुआत में, शीर्ष भारतीय पहलवान बजरंग पुनिया, साक्षी मलिक और विनेश फोगाट के साथ-साथ अन्य पहलवानों ने बृज भूषण सिंह के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते हुए आरोप लगाया था कि उन्होंने कई युवा जूनियर पहलवानों को परेशान किया था। बृजभूषण को उनके पद से बर्खास्त कर दिया गया और संजय सिंह को नया अध्यक्ष चुना गया।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;