वर्ल्ड कप 2019: अंपायर धर्मसेना ने भी माना, फाइनल मैच में इंग्लैंड को ओवर थ्रो के 6 रन देना थी एक बड़ी गलती

एक इंटरव्यू में अंपायर धर्मसेना ने कहा, “जब मैंने उस मैच का वो हिस्सा मैच के बाद टीवी रिप्ले में देखा तो मुझे अहसास हुआ कि मुझसे उस समय बड़ी गलती हुई थी। ग्राउंड पर हमारे पास टीवी रिप्ले मौजूद नहीं थे इसलिए मुझे उस फैसले का जरा भी अफसोस नहीं है।”

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के फाइनल में इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच खेले गए टूर्नामेंट के सबसे रोमांचक मैच में सुपर ओवर के बाद बराबर रन होने के बावजूद ज्यादा बाऊंड्री लगाने के नियम के अनुसार इंग्लैंड की टीम के रूप में दुनिया को नया वर्ल्ड चैंपियन मिला था। इस मैच में इंग्लैंड की जीत काफी विवादों में रही थी। ओवर थ्रो के बाद इंग्लैंड को 6 रन देने वाले उस मैच के श्रीलंकाई अंपायर कुमार धर्मसेना ने भी माना है कि ओवर थ्रो पर रन देने का उनका फैसला गलत था।

मैच के 50वें ओवर के दौरान न्यूजीलैंड के मार्टिन गप्टिल का थ्रो बेन स्टोक्स के बल्ले से लगकर बाउंड्री के पार चला गया था, जिसके बाद अंपायर कुमार धर्मसेना ने इंग्लैंड को 6 रन दिए थे। इंग्लैंड ने 10 विकेट खोकर स्कोर बराबर कर लिया था, जिसके बाद मैच में सुपर ओवर कराया गया। हालांकि सुपर ओवर में भी जब कोई नतीजा नहीं निकला तो इंग्लैंड को ज्यादा बाउंड्री लगाने के आधार पर विजेता घोषित किया गया था।

6 रन दिए जाने के फैसले को पूर्व अंपायर साइमन टौफल समेत क्रिकेट जगत के कई बड़े दिग्गजों ने गलत ठराया। उन्होंने कहा कि इंग्लैंड को छह रन देना बिलकुल गलत था क्योंकि गेंद फेंके जाने के समय बल्लेबाज दूसरे रन के लिए नहीं भागे थे।

एक अखबार को दिए गए इंटरव्यू में अंपायर धर्मसेना ने कहा, “जब मैंने उस मैच का वो हिस्सा मैच के बाद टीवी रिप्ले में देखा तो मुझे अहसास हुआ कि मुझसे उस समय गलती हुई थी।”

धर्मसेना ने कहा, “क्रिकेट ग्राउंड पर हमारे पास टीवी रिप्ले जैसे संसाधन मौजूद नहीं थे और मुझे अपने उस फैसले का जरा भी अफसोस नहीं है।” धर्म सेना ने कहा कि उन्होंने दूसरे अंपायरों से पूछने के बाद ही 6 रन दिए थे। उन्होंने कहा, “मैंने उस समय वायरलेस फोन से लेग अंपायर से इस बारे में पूछा और मेरी यह बात सभी अंपायरों और मैच के रेफरियों ने सुनी थी। लेकिन वे टीवी रिप्ले नहीं देख सकते थे तो उन सभी ने यह सुनिश्चित किया कि बल्लेबाज ने दूसरा रन पूरा कर लिया है। इसके बाद मैंने अपना निर्णय लिया और 6 रन दिए।”

धर्मसेना के निर्णय को पूरी तरह गलत बताते हुए पूर्व ऑस्ट्रेलियाई अंपायर साइमन टौफल ने कहा था कि क्योंकि बल्लेबाज ने अपना दूसरा रन पूरा नहीं किया था, इसलिए अंपायर का 6 रन देने का फैसला पूरी तरह से एक बड़ी गलती था।

लोकप्रिय