वीडियो: रडार से बचकर रात के अंधेरे में भी दुश्मन के ठिकाने नष्ट कर सकता है अपाचे, जानें खासियत

दुनिया के सबसे सक्षम और ताकतवर माने जाने वाले अपाचे हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल अमेरिकी सेना करती है। इनकी खास बात ये है कि बेहद ही कम ऊंचाई से हवाई और जमीनी हमले करने में माहिर हैं। अपाचे को अपने बेड़े में शामिल करने से भारतीय वायुसेना की ताकत काफी बढ़ जाएगी।

नवजीवन डेस्क

भारतीय वायुसेना की ताकत बढ़ाने के लिए मंगलवार को 8 अपाचे अटैक हेलीकॉप्टर आधिकारिक रूप से पठानकोट एयरबेस में शामिल हुए। भारत ने अमेरिकी एयरोस्पेस कंपनी बोइंग के साथ 22 ऐसे हेलीकॉटर की डील की है। बाकी के हेलीकॉप्टर दो साल के अन्दर भारतीय वायुसेना को मिल जाएंगे।

दुनिया के सबसे सक्षम और ताकतवर माने जाने वाले अपाचे हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल अमेरिकी सेना करती है। इनकी खास बात ये है कि बेहद ही कम ऊंचाई से हवाई और जमीनी हमले करने में माहिर हैं। अपाचे को अपने बेड़े में शामिल करने से वायुसेना की ताकत काफी बढ़ जाएगी।

16 एंटी टैंक एजीएम-114 हेलफायर और स्ट्रिंगर मिसाइल से लैस है अपाचे।

पलक झपकते ही किसी भी आर्मर्ड व्हीकल जैसे टैंक या तोप को कर सकते हैं नष्ट।

इसमें लगी स्ट्रिंगर मिसाइल किसी भी तरह के हवाई खतरे से निपटने में पूरी तरह सक्षम।

इनमें लगी हाइड्रा-70 अनगाइडेड मिसाइल जमीन पर किसी भी टारगेट को कर सकती हैं नष्ट।

कम ऊंचाई पर उड़ान भरने की क्षमता और सेमी स्टेल्थ टेक्नोलॉजी की वजह से रडार की पकड़ से दूर।

नाइट विजन सिस्टम से लैस होने के वजह से यह अंधेरे में भी कर सकता है दुश्मनों का काम तमाम।

इसके अलवा अपाचे 280 किमी प्रति घंटे की अधिकतम रफ्तार से उड़ान भर सकता है।

हेलीकॉप्टर में 30 मिलीमीटर की दो गन लगी हुई हैं, जिसमें एक बार में 1,200 गोलियां भरी जाती है।

लोकप्रिय