नवजीवन बुलेटिन: कांग्रेस के सेवा कार्य से विचलित हैं योगी और ममता ने श्रमिक स्पेशल ट्रेनें न भेजने को क्यों कहा?

प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं के सेवा कार्य से विचलित होकर सरकार ने हमारे प्रदेश अध्यक्ष को जेल में डाला और ममता बनर्जी ने रेल मंत्रालय से चक्रवात अम्फान के मद्देनजर 26 मई तक राज्य में श्रमिक स्पेशल ट्रेनें न भेजने को कहा है।

user

नवजीवन डेस्क

कोरोना संकट के बीच ना सिर्फ कांग्रेस के कार्यकर्ता बल्कि बड़ी नेता ही लोगों की मदद करने के लिए आगे आ रहे हैं। देशभर में कांग्रेस के इस प्रयास को सराहा जा रहा है। इस प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर बताया कि पिछले 60 दिनों से यूपी कांग्रेस के कार्यकर्ता दिन-रात लगकर प्रवासी श्रमिकों और जरुरतमंदों की सेवा में लगे हैं। #कांग्रेस_के_सिपाही द्वारा राशन, खाना और दवाई पहुंचाने का काम, श्रमिकों को भोजन-पानी देने और उन्हें घर वापस लाने की सुविधा करने का काम सेवाभाव से कर रहे हैं। उप्र कांग्रेस की सक्रियता द्वारा अब तक 67 लाख लोगों की मदद हो चुकी है। प्रियंका गांधी ने इस दौरान यूपी सरकार पर निशाना भी साधा है प्रियंका गांधी ने कहा कि अजीब बात है कि यूपी सरकार ने इस सेवा कार्य से विचलित होकर हमारे प्रदेश अध्यक्ष को जेल में डाल दिया। अलग-अलग जिलों में हमारे कार्यकर्ताओं पर मुकदमे लगाए गए हैं। परसों 50,000 उप्र कांग्रेस के कार्यकर्ता. और नेताओं ने फेसबुक लाइव पर अपनी एकजुटता दिखाई, कल सभी जिलों में सरकार को ज्ञापन दिया। मुकदमे लगाने वाले शायद ये भूल गए हैं कि ये महात्मा गांधी की पार्टी है। सेवा हमारे मूल में है और डरना हमारी फितरत नहीं। प्रियंका गांधी ने अंत में कहा सेवा कार्यों को और तेज करेंगे।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रेल मंत्रालय से चक्रवात अम्फान के मद्देनजर 26 मई तक राज्य में श्रमिक स्पेशल ट्रेनें न भेजने को कहा है। रेलवे को भेजे एक पत्र में उन्होंने कहा है कि राज्य 20-21 मई को सुपर साइक्लोन अम्फान से बुरी तरह प्रभावित हुआ है, जिससे बुनियादी ढांचे को व्यापक नुकसान हुआ है। प्रभावित जिलों में राहत और मरम्मत का काम चल रहा है, ऐसे में ट्रेनों के संचालन की इजाजत अगले कुछ दिनों तक नहीं दी सकती है। मुख्य सचिव राजीव सिन्हा द्वारा रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वी के यादव को भेज में पत्र में कहा गया है कि चूंकि जिला प्रशासन राहत और पुनर्वास कार्यों में शामिल है, इसलिए अगले कुछ दिनों तक स्पेशल ट्रेनें रिसीव करना संभव नहीं होगा। इसलिए यह अनुरोध किया जाता है कि 26 मई तक कोई ट्रेन पश्चिम बंगाल नहीं भेजी जाए। आपको बता दें, अम्फान के कारण पश्चिम बंगाल में कम से कम 86 लोगों की मौत हो गई है। चक्रवात के कारण जनजीवन प्रभावित होने के बाद अधिकारी स्थिति को सामान्य करने के प्रयासों में जुटे हुए हैं। कोरोना वायरस के मद्देनजर लागू लॉकडाउन के बीच प्रवासी मजदूरों को घर भेजने के लिए श्रमिक स्पेशल सेवा शुरू करने के बाद सबसे कम ट्रेनें पश्चिम बंगाल में ही भेजी गई हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे के साथ कोरोना महामारी के कारण स्वास्थ्य और आर्थिक क्षेत्र में पड़ने वाले प्रभाव के बारे में चर्चा की। टेलीफोन पर बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री ने श्रीलंका के राष्ट्रपति को आश्वस्त किया कि भारत महामारी के प्रभाव को कम करने के लिए श्रीलंका को हर संभव मदद जारी रखेगा। राष्ट्रपति राजपक्षे ने देश में आर्थिक गतिविधि शुरू करने के लिए उनकी सरकार द्वारा उठाये जा रहे कदमों से मोदी को अवगत कराया। दोनों नेताओं ने श्रीलंका में भारत के सहयोग से चलायी जा रही परियोजनाओं में तेजी लाने पर सहमति व्यक्त की। उन्होंने भारत के निजी क्षेत्र द्वारा श्रीलंका में निवेश बढाने की संभावनाओं पर भी चर्चा की। मोदी ने श्रीलंका के लोगों की खुशहाली और स्वस्थ जीवन के लिए शुभकामनाएं भी दी।

लोकप्रिय