मुजफ्फरनगर महापंचायत : ऐतिहासिक जमीन से बीजेपी को सत्ता से उखाड़ फेंकने का आह्वान

अगले साल होने वाले उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव से ऐन पहले हुई यह किसान महापंचायत इस मायने में भी अहम रही क्योंकि इससे किसान आंदोलन का भविष्य और देश-प्रदेश के राजनीतिक परिदृश्य पर असर पड़ना लाजिमी है। इस महापंचायत ने अभी तक मोटे तौर पर अपराजेय मानी जाने लगी बीजेपी के लिए खतरे की घंटी बजा दी है।

user

नवजीवन डेस्क

अगले साल होने वाले उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव से ऐन पहले हुई यह किसान महापंचायत इस मायने में भी अहम रही क्योंकि इससे किसान आंदोलन का भविष्य और देश-प्रदेश के राजनीतिक परिदृश्य पर असर पड़ना लाजिमी है।

इस महापंचायत ने अभी तक मोटे तौर पर अपराजेय मानी जाने लगी बीजेपी के लिए खतरे की घंटी बजा दी है। कारण साफ है कि बीजेपी और उसकी अगुवाई वाली केंद्र और राज्यों की सरकारें भले ही विपक्ष को तरह-तरह के हथकंडे अपनाकर राजनीतिक जमीन पर पीछे धकेलने का काम करती रही हो, ऐसे ही समय में किसान आंदोलन अहंकारी सत्ता और बदले की भावना से भरी सरकारों के खिलाफ प्रतिरोध की एक मिसाल और मशाल के तौर पर सामने आया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 05 Sep 2021, 10:14 PM