किसानों का आंदोलन भी बराबरी और हकों की संघर्ष है - मेधा पाटकर

सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर का कहना है कि किसानों का आंदोलन भी समानता के लिए लड़ाई है और अपने हकों के लिए संघर्ष है। गाजीपुर बॉर्डर पर उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार जिस विकास की बात करती है उसमें किसानों, गरीबों और मजदूरों के लिए जगह नहीं है।

user

विश्वदीपक

सामाजिक कार्यकर्ता और मशहूर आंदोलनकारी मेधा पाटकर का कहना है कि किसानों का आंदोलन भी समानता के लिए लड़ाई है और अपने हकों के लिए संघर्ष है। गाजीपुर बॉर्डर पर किसान आंदोलन की पहली वर्षगांठ पर नवजीवन से बातचीत में उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार जिस विकास की बात करती है, उसमें किसानों, गरीबों, वंचितों और मजदूरों के लिए जगह नहीं है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia