नवजीवन बुलेटिन: 1 फरवरी को होगी निर्भया के दोषियों को फांसी और वाराणसी में CAA-NRC के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान बवाल

निर्भया रेप केस के चारों दोषियों को 1 फरवरी 2020 को फांसी के फंदे से लटकाया जाएगा और पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में CAA-NRC के खिलाफ प्रदर्शन कर रही महिलाओं की गिरफ्तारी के बाद बवाल खड़ा हो गया है।

user

नवजीवन डेस्क

1. दिल्ली के मुनीरका में सात साल पहले हुए निर्भया रेप केस के चारों दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी किया जा चुका है। चारों को 1 जनवरी को फांसी के फंदे पर लटकाया जाएगा। समय की कमी को देखते हुए जेल प्रशासन फांसी से पहले की प्रक्रिया को पूरा करने में जुट गया है। इसके आलवा चारों को फांसी पर लटकाने की तिथि के बारे में जेल प्रशासन ने इनके रिश्तेदारों को पत्र लिखकर जानकारी दे दी है। हालांकि परिजनों की ओर से अभी तक कोई भी जवाब नहीं आया है। जिला प्रशासन द्वारा भेजे गए इस पत्र में लिखा है कि कोर्ट द्वारा जारी डेथ वारंट के आदेशानुसार इन्हें एक फरवरी को सुबह छह बजे फांसी पर लटकाया जाएगा। यदि वे चाहें तो दोषियों से अंतिम मुलाकात कर सकते हैं।

2 . कांग्रेस पार्टी ने केंद्र की मोदी सरकार पर सरकारी एजेंसियों के दुरूपयोग का आरोप लगाया है। दिल्ली के कांग्रेस मुख्यालय में प्रेस से बात करते हुए पार्टी नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि केंद्र सरकार एजेंसियों का दुरूपयोग कर रही है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार कह रही है कि जो उसकी सोच है, उसके हिसाब से सभी को चलना होगा। उन्होंने कहा कि सरकार दुर्भावना से काम कर रही है। सिंघवी ने कहा कि हमने देखा कैसे विश्वविद्यालयों में छात्रों के पर कार्रवाई की गई।

3. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के बेनिया बाग में नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन कर रही महिलाओं की गिरफ्तारी पर बवाल खड़ा हो गया है। महिलाओं ने यहां पर गुरुवार को प्रदर्शन शुरू किया था। मौके पर पहुंची पुलिस ने महिला प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया। महिलाओं की गिरफ्तारी से नाराज लोग भड़क गए। लोगों ने पथराव की कोशिश की। बताया जा रहा है क बेनिया बाग के गांधी चौराहे पर महिलाएं शांतिपूर्ण तरीके से सीएए और एनआरसी के खिलाफ महिलाएं प्रदर्शन कर रही थीं।

लोकप्रिय