शामली: एसपी विधायक नाहिद हसन के धरने के ऐलान को लेकर चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात, 800 जवानों ने किया दंगा ड्रिल

9 सितंबर को गाड़ी के कागज न दिखाने को पर समाजवादी विधायक नाहिद हसन और एसडीएम डॉ अमित पाल शर्मा के बीच बहस हो गई थी। जिसके बाद नाहिद हसन के खिलाफ सरकारी काम में बाधा डालने समेत 9 अलग-अलग धाराओं में मुकदमें दर्ज किए गए थे।

user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश के शामली से एसपी विधायक नाहिद हसन पर करीब सात दिन पहले गाड़ी के कागजात नहीं दिखाने पर कई धाराओं में दर्ज किए गए मुकदमों को लेकर विधायक पक्ष द्वारा धरने का ऐलान किये जाने के बाद शामली में सुरक्षा इंतजाम बढ़ा दिए गए थे। शामली पुलिस अधीक्षक अजय कुमार ने धरने के दौरान होने वाली किसी भी तरह की झड़प या दंगे की स्थिति से बचने के लिए पीएसी और पैरामिलट्री फोर्स की 5 कंपनियों के करीब 800 जवानों के साथ दंगा ड्रिल भी कराया। इस ड्रिल का एक वीडियो भी जारी हुआ था जिसमें एसपी अजय कुमार जवानों को ब्रीफ करते नजर आरहे हैं।

दरअसल 9 सितंबर को गाड़ी के कागज न दिखाने को पर समाजवादी विधायक नाहिद हसन और एसडीएम डॉ अमित पाल शर्मा के बीच बहस हो गई थी। जिसके बाद नाहिद हसन के खिलाफ सरकारी काम में बाधा डालने समेत 9 अलग-अलग धाराओं में मुकदमें दर्ज किए गए थे। हलांकि उन्हें गाड़ी के कागजात दिखाने के लिए 5 दिन का समय भी दिया गया था। इस पूरे मामले के बाद नाहिद की मां और पूर्व सांसद तबस्सुम बेगम ने कोतवाली में धरने का ऐलान किया था।

पुलिस प्रशासन ने माहौल की गंभीरता को देखते हुए शामली के चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल तैनात कर दिया। पीएसी और पैरामिलट्री के करीब 800 जवानों को एसपी अजय कुमार ने ब्रीफ किया। अजय ने कहा था कि किसी ने शामली की जनता को परेशान करने या इलाके की शांति भंग करने की कोशिश की तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। हालांकि 5 दिन का समय मिलने के बाद नाहिद हसन ने प्रस्तावित धरना टाल दिया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia