नवजीवन बुलेटिन: प्रियंका गांधी बोलीं-सोनभद्र नहीं तो कहीं और, लेकिन पीड़ितों से मिले बिना नहीं जाऊंगी, 4 बड़ी खबरें

सोनभद्र नरसंहार पीड़ितोंसे मिलने जा रही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को पुलिस ने मिर्जापुर में रोक लिया,जिसके बाद उनकी बीती रात पुलिस हिरासत में कटी। देर रात तक अफसरों का मिर्जापुर गेस्टहाउस में आना-जाना लगा रहा।

नवजीवन डेस्क

योगी सरकार सोनभद्र नरसंहार मामले को छुपाने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। किसी को भी नरसंहार पीड़ितों से मिलने नहीं दिया जा रहा है। पीड़ितों से मिलने जा रही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को पुलिस ने मिर्जापुर में रोक लिया, जिसके बाद उनकी बीती रात पुलिस हिरासत में कटी। देर रात तक अफसरों का मिर्जापुर गेस्ट हाउस में आना-जाना लगा रहा। प्रियंका गांधी ने साफ कर दिया कि वो नरसंहार पीड़ितों से मिले बगैर वापस नहीं लौटेंगी। प्रियंका गांधी ने कहा कि जब तक उन्हें सोनभद्र नहीं जाने दिया जाएगा तब तक वो पीछे नहीं हटेंगी। हिरासत लिए जाने के बाद प्रियंका गांधी ने कहा कि वो अकेले ही सोनभद्र जाने को तैयार हैं लेकिन उन्हें पीड़ित परिवार से मिलने दिया जाए।

सोनभद्र हत्याकांड पर सियासी घमासान जारी है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के बाद बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने भी उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश सरकार अपनी नाकामियों को छिपाने के लिए किसी को सोनभद्र नहीं जाने दे रही है। उसे डर है कि उसकी विफलताओं के बारे में सभी को पता चल जाएगा। बता दें कि उत्तर प्रदेश की पुलिस ने शुक्रवार कांग्रेस महाचसिव प्रियंका गांधी को सोनभद्र जाने से रोक दिया था। वो सोनभद्र हत्याकांड क पीड़ित परिवारों से मिलने जा रही थीं।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने प्रध्रानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक याचिका पर नोटिस जारी कर दिया है। यह याचिका पूर्व बीएसएफ जवान और समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार तेज बहादुर द्वारा दायर की गई है। कोर्ट ने पीएम मोदी को चार हफ्ते में नोटिस का जवाब दाखिल करने को कहा है। याचिका पर वरिष्ठ अधिवक्ता शैलेंद्र ने बहस करते हुए कहा कि याचिकाकर्ता का कहना है कि वाराणसी संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ने के लिए उसने नामांकन पत्र दाखिल किया था। नामांकन पत्र में गलत जानकारी देने की बात कहकर उसे निरस्त कर दिया गया था। उन्हें आपत्तियों पर जवाब दाखिल करने के लिए समय नहीं दिया गया। याचिका में चुनाव अधिकारियों पर राजनितिक दबाव में निर्णय लेने का आरोप लगाया गया है। इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार ठहराया गया है।

समाजवादी पार्टी सांसद आजम खान ने मॉब लिंचिंग पर बड़ा बयान दिया है। आजम खान ने मॉब लिचिंग की आलोचना करते हुए कहा कि मुसलमान 1947 के बाद भी सजा काट रहे हैं। अगर मुसलमान पाकिस्तान चले जाते तो उन्हें यह सजा नहीं मिलती। मुसलमान यहां हैं तो हैं, सजा तो भुगतेंगे। उन्होंने कहा कि हमारे पूर्वज क्यों नहीं गए पाकिस्तान? उन्होंने इसे अपना वतन माना। अब उन्हें इसकी सजा तो मिलेगी और वो सहेंगे।

लोकप्रिय