राहुल गांधी ने राजस्थान के स्वास्थ्य बीमा लाभार्थियों से मुलाकात का वीडियो किया शेयर, कहा- इसे कहते हैं गारंटी

उन्होंने कहा कि राजस्थान सरकार की चिरंजीवी योजना भारत की सबसे बड़ी स्वास्थ्य सुरक्षा योजना है। किसी भी तरह की सर्जरी, अंग प्रत्यारोपण, डायलिसिस, कैंसर और हृदय रोग का इलाज- सबसे गंभीर से लेकर सबसे महंगा तक- पूरी तरह से निःशुल्क है।

राहुल गांधी ने राजस्थान के स्वास्थ्य बीमा लाभार्थियों से मुलाकात का वीडियो किया शेयर
राहुल गांधी ने राजस्थान के स्वास्थ्य बीमा लाभार्थियों से मुलाकात का वीडियो किया शेयर
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने राजस्थान के जयपुर के महात्मा गांधी अस्पताल में अशोक गहलोत सरकार की चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के लाभार्थी मरीजों के साथ अपनी बातचीत का वीडियो सोशल मीडिया पर साझा किया है। वीडियो शेयर करते हुए उन्होंने कहा कि चिरंजीवी योजना- 50 लाख रुपये तक मुफ्त इलाज, भारत की सबसे बेहतरीन योजना! महात्मा गांधी अस्पताल में लाभार्थी मरीज़ और उनके परिवार खुद इस बात पर मुहर लगा रहे हैं। मोदी जी, इसे कहते हैं गारंटी- तकलीफ में सहारा बनने, कंधे से कंधा मिला कर चलने की। देखना हो तो कभी आइए म्हारे राजस्थान!

राहुल गांधी ने यूट्यूब प्लेटफॉर्म पर 'चिरंजीवी राजस्थान: 50 लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज' शीर्षक से वीडियो साझा करते हुए क्लिप में कहा, "जयपुर के महात्मा गांधी अस्पताल के कैंसर वार्ड में मरीजों और उनके परिवारों से मिलने का मौका मिला। उनका हालचाल पूछा और उनसे चिरंजीवी योजना के लाभ के बारे में बात की।''


उन्होंने कहा, "राजस्थान सरकार की चिरंजीवी योजना भारत की सबसे बड़ी और सबसे अच्छी स्वास्थ्य सुरक्षा योजना है। लाखों परिवारों के लिए शांति का स्रोत। किसी भी तरह की सर्जरी, अंग प्रत्यारोपण, डायलिसिस, कैंसर और हृदय रोग का इलाज - सबसे गंभीर से लेकर सबसे महंगा तक- पूरी तरह से निःशुल्क हैं।" उन्होंने आगे कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की घोषणा के बाद अब 25 लाख रुपये तक के मुफ्त इलाज की सुविधा को बढ़ाकर 50 लाख रुपये कर दिया गया है।

बता दें कि 200 सदस्यीय राजस्थान विधानसभा के लिए 25 नवंबर को मतदान होना है और वोटों की गिनती 3 दिसंबर को होगी। कांग्रेस रेगिस्तानी राज्य में अपने काम के बल पर लगातार दूसरा कार्यकाल हासिल करने की कोशिश कर रही है, जहां पिछले तीन दशकों से वैकल्पिक पार्टी की सरकार बनने की परंपरा रही है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;