वीडियो: देर रात अंबाला में ट्रक की सवारी करते दिखे राहुल गांधी, ड्राइवरों से जानी उनकी समस्याएं

कांग्रेस नेता ने ट्रक चालकों से उनकी समस्याओं के बारे में बात की। उन्होंने उनसे उन मुद्दों के बारे में भी बात की, जो उन्हें सबसे ज्यादा परेशान कर रहे हैं और उन्हें कैसे सुलझाया जा सकता है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सोमवार रात अंबाला से चंडीगढ़ का 50 किमी का सफर ट्रक से तय किया।
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सोमवार रात अंबाला से चंडीगढ़ का 50 किमी का सफर ट्रक से तय किया।
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ड्राइवरों के मुद्दों और समस्याओं को समझने के लिए उनसे बात करने के लिए अंबाला से चंडीगढ़ का 50 किमी का सफर ट्रक से तय किया। राहुल गांधी ने सोमवार-मंगलवार की मध्यरात्रि सवारी की।

कांग्रेस नेता ने ट्रक चालकों से उनकी समस्याओं के बारे में बात की। उन्होंने उनसे उन मुद्दों के बारे में भी बात की, जो उन्हें सबसे ज्यादा परेशान कर रहे हैं और उन्हें कैसे सुलझाया जा सकता है।

कांग्रेस पार्टी ने मीडिया रिपोर्ट्स का हवाला देते हुए बताया है कि भारत की सड़कों पर तकरीबन 90 लाख ट्रक ड्राइवर्स हैं। इन सभी लोगों की अपनी समस्याएं हैं। ट्रक ड्राइवर्स की ‘मन की बात’ सुनने का काम राहुल ने किया है। दरअसल, भारी वाहनों और ट्रकों को चलाने वाले इन ड्राइवर्स को रातभर काम करना पड़ता है। इस दौरान कई परेशानियां होती हैं, जिन्हें जानने के लिए ही राहुल इनके बीच पहुंचे।


आपको बता दें, राहुल गांधी ने पिछले महीने दिल्ली के बंगाली मार्केट, जामा मस्जिद क्षेत्र का दौरा किया था और जनता के बीच स्थानीय भोजन का आनंद लिया था। इसके बाद उन्होंने यूपीएससी उम्मीदवारों के साथ बातचीत करने के लिए उत्तरी दिल्ली के मुखर्जी नगर क्षेत्र का दौरा किया और फिर कुछ दिनों बाद उन्होंने पीजी मेन्स हॉस्टल में दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्रों के साथ दोपहर का भोजन किया।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने दिल्ली में शकूर बस्ती इलाके का भी दौरा किया था और झुग्गीवासियों से उनकी समस्या के बारे में बात की थी। शकूर बस्ती इलाके की रहने वाली महिलाओं ने राहुल गांधी को अपने घरों पर बुलडोजर से धराशायी होने के डर के बारे में बताया था और पानी की उचित आपूर्ति नहीं होने, आवश्यक वस्तुओं की आसमान छूती कीमतों और एलपीजी सिलेंडर खरीदने में असमर्थता जैसे मुद्दों के बारे में बताया था।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


/* */