नवजीवन बुलेटिन: पत्रकार की गिरफ्तारी को लेकर योगी सरकार को SC का नोटिस और दिल्ली में अब नहीं लगेगा लॉकडाउन

SC ने केरल के पत्रकार सिद्दीकी कप्पन को हाथरस जाते समय गिरफ्तार किए जाने के खिलाफ दायर याचिका के संबंध में योगी सरकार को नोटिस जारी किया है और दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा है कि दिल्ली कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर से जूझ रही है, लेकिन लॉकडाउन लगाने का कोई इरादा नहीं है।

user

नवजीवन डेस्क

उच्चतम न्यायालय ने केरल के पत्रकार सिद्दीकी कप्पन को हाथरस जाते समय गिरफ्तार किए जाने के खिलाफ दायर याचिका के संबंध में उत्तर प्रदेश सकार को नोटिस जारी किया। वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने सिद्दीकी के लिए बहस करते हुए कहा, 'प्राथमिकी में उनके खिलाफ कोई अपराध नहीं बताया गया है। वह पांच अक्तूबर से जेल में हैं। जब हम मजिस्ट्रेट से पत्रकार से मिलने की अनुमति मांगने गए, तो उन्होंने कहा कि जेल जाओ।' इसपर मुख्य न्यायाधीश जस्टिस एसए बोबडे ने कहा कि यूपी सरकार को नोटिस जारी किया जा रहा है। शुक्रवार को फिर से मामले की सुनवाई होगी बता दें कि पत्रकार सिद्दीक कप्पन और तीन अन्य को मथुरा पुलिस ने पांच अक्टूबर को उस वक्त गिरफ्तार कर लिया था, जब वे दलित लड़की के परिवार के सदस्यों से मिलने के लिए हाथरस के एक गांव जा रहे थे।

देश की राजधानी कोरोना वायरस संक्रमण की तीसरी लहर से जूझ रही है, लेकिन यहां लॉकडाउन लगाने का कोई इरादा नहीं है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने यह कहकर सभी अटकलों पर विराम लगा दिया है। उन्होंने सोमवार को साफ कहा कि ऐसी कोई योजना नहीं है। जैन ने कहा कि, 'दिल्‍ली में फिर से लॉकडाउन नहीं लगेगा। मुझे नहीं लगता कि अभी ये प्रभावी कदम साबित होगा। सबका मास्‍क पहनना ज्‍यादा फायदेमंद है।'स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि कोविड-19 की तीसरी लहर खत्‍म हो गई है। जून में पॉजिटिविटी रेट औसतन 37% थी। तीसरी लहर में औसतन पॉजिटिविटी रेट 15 है, जो अब धीरे-धीरे कम हो रही है। जैन ने कहा कि कल दिल्ली में 3235 पॉजिटिव केस सामने आए थे। 7606 मरीज ठीक हुए थे। 95 मौतें हुईं थीं। अभी दिल्ली में 8700 बेड भरे हुए हैं और 7900 खाली हैं। गौरतलब है कि दिल्ली के कोरोना के हालातों पर रविवार को गृह मंत्री अमित शाह ने बैठक बुलाई थी। इस बैठक में दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन भी शामिल हुए। बैठक में आरटीपीसीआर की जांच को दोगुना करने का निर्णय हुआ।

अक्टूबर 2020 के लिए थोक महंगाई दर का आंकड़ा जारी हो गया है। माह-दर-माह आधार पर थोक महंगाई दर सितंबर के 1.32 फीसदी से बढ़कर 1.48 फीसदी पहुंच गया है। पिछले एक साल के दौरान इसमें लगातार तीसरी बार बढ़ोतरी हुई है। इसके साथ ही अब थोक महंगाई दर बीते 8 महीनों के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। ​खाद्य पदार्थों के लिए WPI घटकर 5.78 फीसदी पर आ गया है। सितंबर महीने में यह 6.92 पर था। अक्टूबर में मैन्युफैक्चरिंग उत्पादों के मूल्य में बड़ी तेजी देखने को मिली है। सितंबर के 1.61 फीसदी की तुलना में यह बढ़कर 2.12 फीसदी पर पहुंच गया है।

लोकप्रिय
next