चर्चा में

फिल्म ‘मुल्क’ को लेकर ट्रोल्स के निशाने पर आए निर्देशक अनुभव सिन्हा ने दिया कड़ा जवाब, पढ़ें पूरा पत्र

ट्रोल्स से सहानुभूति जताते हुए अनुभव ने लिखा कि कभी-कभी आप हमें दुख पहुंचाने में कामयाब हो जाते हैं, लेकिन अक्सर नहीं, क्योंकि हमें पता है कि ये आपकी आवाज नहीं है। ये काम आप सिर्फ अपने मालिकों के आदेश पर करते हैं और हम उनको कोई तवज्जो नहीं देते।

फोटोः सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

अगले महीने रिलीज होने वाली फिल्म ‘मुल्क’ के प्रमोशन के दौरान अपने बयान को लेकर ट्रोल्स के निशाने पर आए डायरेक्टर अनुभव सिन्हा ने ट्वीटर पर एक पत्र जारी कर मुंहतोड़ जवाब दिया है। अपने पत्र में अनुभव सिन्हा ने बड़े प्यार और हमदर्दी के साथ ट्रोल्स को निशाने पर लिया है। पत्र में उन्होंने लिखा है कि उनकी फिल्म में न तो अंडरवर्ल्ड सरगना दाऊद इब्राहिम का पैसा लगा है और न ही कांग्रेस या राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) का।

अपने पत्र में अनुभव ने ट्रोल करने वालों के प्रति हमदर्दी जताते हुए जमकर लताड़ लगाई। उन्होंने लिखा, “काश कि हमारे देश ने और अधिक अच्छे शिक्षण संस्थान खोले होते। काश कि हमारे देश ने अच्छी नौकरियों के मौके पैदा किये होते। काश कि आप एक बड़ी भारतीय कंपनी के सीईओ होते या लेखक या संगीतकार होते या जो भी आप बनना चाहते वो बनते। वास्तव में मैं आपको अपने देश की सेवा करते और उससे प्यार करते हुए देखना चाहता था। क्या आपको अब भी अपने सपने याद हैं? ये वे सपने उन नफरत भरे पोस्ट्स की ढेर के पीछ छिप गए जो आप पिछले चार साल से हर रोज, हर घंटे लिख रहे हैं? आपका कोई नाम या पहचान नहीं है। आपका परिवार किसी को नहीं बता सकता कि आप क्या करते हैं। आपके परिवार को आपके ऊपर गर्व नहीं है, ना ही आपकी बहन और आपका भाई आपके काम से फख्र महसूस करता है। और सबसे खराब बात तो ये है कि आपका कोई भविष्य नहीं है। आपको रास्ते पर पड़े पत्थर की तरह फेंक दिया जाएगा। और क्या मिलता है इस काम का आपको? 3000 या 5000 रुपये ?”

अनुभव ने अपने पत्र में आगे लिखा, “और एक बात बता दूं आपको। जिन लोगों को आप ट्रोल करते हो वे अपने लिए अच्छा काम कर रहे हैं और उनकी अपनी जिंदगी है। उनकी अपनी राय है, अपना विचार है, जो चीज आपके मालिकों को पसंद नहीं आती। आप सिर्फ एक खंभे पर लगे एक अकेले लाउडस्पीकर की तरह हैं। चाहे बारिश हो या सूरज की रौशनी आपके लिए कुछ भी नहीं बदलता। आप उनकी तरफ से नफरत उगलना जारी रखते हैं। मुझे आप पर तरस आता है।”

अनुभव ने आगे लिखा, “आपको पता है जिन लोगों को आप ट्रोल करते हैं उनके पास अच्छा करियर और एक अच्छी जिंदगी है। उन्हें जब वक्त मिलता है तब वे ट्वीटर पर आते हैं औऱ फिर वापस अपनी जिंदगी और अपने काम में लौट जाते हैं और आप दूसरे शिकार की तरफ बढ़ जाते हैं जो आपके मालिक पसंद नहीं है। आप रात-दिन ये काम करते हैं। मेरे दोस्तों आपका ये काम दुनिया के किसी भी कोने में कभी करियर नहीं रहा है।”

उन्होंने फिल्म में लगे पैसे पर उठाए गए सवालों पर स्पष्ट करते हुए लिखा, “मुल्क में दाऊद इब्राहिम का पैसा नहीं लगा है। आप उससे पूछ सकते हैं। कांग्रेस का भी नहीं, आप राहुल से पूछ सकते हैं। यहां तक कि आरएसएस का भी पैसा नहीं लगा है, आप मोहन भागवतजी से पूछ सकते हैं। इस फिल्म में श्री दीपक मुकुट और उनके पिता कमल मुकुट का पैसा लगा है, जो इस व्यवसाय के दिग्गज हैं।”

फिल्म के प्रचार के लिए मुसलमानों की सहानुभूति हासिल करने के ट्रोल्स के आरोपों पर अनुभव ने कहा, “नहीं, मेरा हर पोस्ट मुल्क के बारे में नहीं है। हम फिल्म के प्रचार पर करोड़ों रुपये खर्च कर रहे हैं, इससे भी हमने इसे बनाने में खर्च किए हैं। ये ट्वीट फिल्म के प्रचार का एक बहुत ही छोटा सा हिस्सा हैं और जैसा कि मैंने कहा है कि हमारी अपनी एक जिंदगी है और अपनी सोच है तो इसलिए अपने काम से अलग भी हम बात करते हैं।”

ट्रोल्स के साथ सहानुभूति जताते हुए अनुभव ने लिखा, “हम आपके पोस्ट्स पढ़ते हैं। हम मुस्कुराते हैं। आपके लिए बुरा महसूस करते हैं। कभी-कभी आप हमें दुख पहुंचाने में कामयाब हो जाते हैं, लेकिन अक्सर नहीं, क्य़ोंकि हमें पता है कि ये आपकी आवाज नहीं है। वास्तव में ये आप भी नहीं हैं। ये काम आप सिर्फ अपने मालिकों के आदेश पर करते हैं और हम उनको कोई तवज्जो नहीं देते। मुझे पता है कि आपको इस पत्र पर प्रतिक्रिया देने के लिए निर्देश दिया जाएगा, इसलिए मैं इस मौके का उपयोग अपनी फिल्म के लिए करूंगा।”

अपनी फिल्म मुल्क के बारे में अनुभव ने कहा, “मुल्क एक बहुत अच्छी फिल्म है। ये फिल्म आपके मालिकों के बारे में नहीं है। इसका हिंदू या मुस्लिम से भी कोई लेना-देना नहीं है। ये फिल्म आपके बारे में और मेरे बारे में और बहुत हद तक हम सबके बारे में है। उन्होंने आगे लिखा, कृप्या कुछ बहुत गंदा जरूर लिखिये, लेकिन जाकर फिल्म जरूर देखें। आप इसे पसंद करेंगे क्योंकि मुझे पता है कि आपके अंदर अभी भी आपका कुछ अंश जिंदा है। ट्रोल्स को भविष्य के लिए शुभकामनाएं देते हुए अनुभव ने लिखा, फिर भी आपको प्यार और बेहतर करियर औऱ बेहतर नौकरी के लए अपनी शुभकामनाएं भेज रहा हूं। आप मालिकों के पास ये सब कुछ है।”

बता दें कि 3 अगस्त को रिलीज होने वाली फिल्म मुल्क एक मुस्लिम परिवार पर लगे देशद्रोह के आरोप और फिर समाज में सम्मान वापस पाने की उनकी लड़ाई के बारे में है। इस फिल्म के प्रमोशन के दौरान अनुभव द्वारा हिंदू-मुस्लिम दंगों पर दिए बयानों को लेकर दो दिन से उन्हें ट्रोल किया जा रहा था। एक पत्रकार ने अनुभव से पूछा था कि आपको क्या लगता है कि आखिर क्यों मुसलमान आतंकवाद की तरफ कदम बढ़ा रहे हैं? इस सवाल के जवाब में अनुभव ने कहा था, “न्यूज पढ़ते हैं आप? कल ही आपके देश के एक मंत्री ने दंगा कराने वाले हिंदुओं का स्वागत किया है। आपके सवाल का जवाब खत्म।”

इसके साथ ही अनुभव ने देश में बढ़ते सांप्रदायिक तनाव पर कहा कि देश आजाद होने के बाद से ही हर साल देश के किसी न किसी भाग में दंगे होते रहे हैं। उन्होंने अपने जीवन के अनुभव साझा करते हुए कहा कि वह बनारस यूनिवर्सिटी में हिंदुओं के साथ भी रहे और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में मुस्लिमों के साथ भी, लेकिन उस दौरान न हिन्दू और न ही मुस्लिम कोई भी सांप्रदायिक तनाव के पक्ष में नहीं था। उन्होंने ये भी कहा कि इस तरह का माहौल तैयार करने में कुछ ही लोगों का हाथ होता है जो देश के माहौल खराब करने में लगे रहते हैं। 3 अगस्त को रिलीज हो रही मुल्क में काफी पावरफुल स्टारकास्ट है। फिल्म में ऋषि कपूर, तापसी पन्नू, आशुतोष राणा, रजत कपूर, मनोज पाहवा और प्रतीक बब्बर जैसे सितारे मौजूद हैं।

लोकप्रिय