दुनिया की 5 बड़ी खबरें: पाक में चांद के दीदार पर 'दंगल' और सवालों के घेरे में कराची विमान हादसे की जांच टीम

पाकिस्तान में एक बार फिर चांद का दीदार 'वैज्ञानिक तरीकों' बनाम 'परंपरागत धार्मिक तरीकों' के बीच की बहस का गवाह बना। कराची में बीते शुक्रवार को हुए विमान हादसे की जांच के लिए गठित जांच दल पर सवाल उठे हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

पाकिस्तान में चांद के दीदार पर मुफ्ती और मंत्री में 'दंगल'

पाकिस्तान में एक बार फिर चांद का दीदार 'वैज्ञानिक तरीकों' बनाम 'परंपरागत धार्मिक तरीकों' के बीच की बहस का गवाह बना। शनिवार को ईद के चांद के दीदार के लिए देश के नामी उलेमा रुय्यते हिलाल कमेटी के तहत चांद देखने के लिए इकट्ठा हुए। मुफ्ती मुनीब उर रहमान की अगुवाई में उलेमा कुछ कहते, इसके पहले ही विज्ञान व प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद चौधरी ने कहा कि चांद आज ही (शनिवार को) निकलेगा और ईद रविवार को ही होगी। कुछ देर बाद उलेमा ने भी यही ऐलान किया कि पाकिस्तान में ईद रविवार को होगी। इससे पहले भी फवाद चांद देखे बगैर कुछ अवसरों पर यह बता चुके हैं कि पहली का चांद अमुक तिथि पर निकलेगा और पर्व अमुक तिथि पर होगा।

उलेमा का कहना है कि धर्म बिना चांद का दीदार किए इसके निकलने की घोषणा करने की इजाजत नहीं देता।

कराची विमान हादसे की जांच टीम सवालों के घेरे में

कराची में बीते शुक्रवार को हुए विमान हादसे की जांच के लिए गठित जांच दल पर सवाल उठे हैं। पाकिस्तान की संघीय सरकार द्वारा गठित जांच दल में वायुसेना के लोगों का दबदबा होने और कामर्शियल पायलट समुदाय के एक भी सदस्य के न होने पर विशेषज्ञों ने सवाल उठाया है। 'डॉन' की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान एयरलाइंस पायलट एसोसिएशन के सचिव कैप्टन इमरान नारेजो ने कहा कि जांच दल संतुलित नहीं है क्योंकि इसमें कामर्शियल पायलट का प्रतिनिधित्व नहीं है। उन्होंने कहा कि कामर्शियल जेट के साथ हुए हादसे को कामर्शियल पायलट अधिक बेहतर तरीके से समझ सकता है।

संघीय सरकार ने चार सदस्यीय जांच दल का गठन किया है। इनमें से चार विमान दुर्घटना जांच बोर्ड के सदस्य हैं जिनमें से दो वायुसेना अधिकारी हैं जबकि एक अन्य सदस्य को पाकिस्तान वायुसेना के सुरक्षा बोर्ड से लिया गया है जबकि इसमें कोई कामर्शियल पायलट नहीं है। जांच दल से 'कम से कम समय में' अपनी रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा गया है।

श्रीलंका में 2 दिवसीय कर्फ्यू के मद्देनजर कड़ी सुरक्षा-व्यवस्था

श्रीलंका में कोरोनावायरस महामारी के बीच लोगों को घरों से बाहर निकलने से रोकने के लिए दो दिवसीय राष्ट्रव्यापी कर्फ्यू लगाने के कारण रविवार को देश में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था कर दी गई।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने बताया कि पुलिस के मुताबिक, देशभर में करीब 1,000 रोड ब्लॉक लगाए गए हैं, जिसे पुलिस अधिकारी देखेंगे और शिफ्ट के आधार पर दिन के 24 घंटे इनकी तैनाती होगी। आर्थिक गतिविधियां बहाल करने के लिए कर्फ्यू मंगलवार सुबह पांच बजे से हटा लिया जाएगा। श्रीलंका में महामारी ने अब तक 1,000 लोगों को संक्रमित किया है और नौ लोगों की मौत हुई है।

पुलिस ने कहा कि रविवार और सोमवार को सड़कों पर सभी वाहनों और लोगों की कड़ाई से जांच की जाएगी और कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों को गिरफ्तार किया जाएगा।

स्पेन में कोविड-19 पीड़ितों के लिए 10 दिन का राष्ट्रीय शोक

स्पेन के प्रधानमंत्री प्रेडो सांचेज ने कोविड-19 महामारी के पीड़ितों के लिए 10 दिनों के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने शनिवार को टीवी प्रसारण में घोषणा की। सांचेज ने कहा, "अगले मंगलवार (26 मई) से, जब पूरा देश चरण 1 में है, सरकार 10 दिनों के आधिकारिक शोक की घोषणा करेगी। यह हमारे लोकतंत्र के इतिहास में सबसे लंबा है।" कोरोनावायरस के कारण 28,600 से अधिक लोग स्पेन में अपनी जान गंवा चुके हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा, "इस दौरान सभी सार्वजनिक भवनों और सभी नौसैनिक जहाजों पर झंडे आधे-मस्तूल में रहेंगे और जब स्केल-डाउन खत्म हो जाएगा, तो राज्य के प्रमुख पीड़ितों को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे।"

तालिबान ने ईद के दौरान 3 दिवसीय युद्धविराम की घोषणा की

तालिबान ने रविवार से शुरू ईद-उल-फितर के दौरान अफगान सरकार के साथ तीन दिवसीय युद्ध विराम की घोषणा की है, जिसकी पुष्टि आतंकवादी समूह के एक प्रवक्ता ने की है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, जबीउल्लाह मुजाहिद ने एक बयान में कहा, "हमारे देशवासी अपने ईद के त्योहार को आसानी से मना सकें, इसलिए अफगानिस्तान के इस्लामिक अमीरात (बहिष्कृत तालिबान शासन का नाम) का नेतृत्व सभी मुजाहिदीन को हमारे देशवासियों की सुरक्षा के लिए विशेष तैयारी के उपाय अपनाने और कहीं भी दुश्मन पर हमला नहीं करने का आदेश देता है लेकिन अगर किसी भी स्थान पर दुश्मन की ओर से हमला होता है, तो बचाव में कार्रवाई की जाएगी।"

प्रवक्ता ने लड़ाकों से सरकार के नियंत्रण वाले क्षेत्रों में न जाने का भी आग्रह किया। अफगानिस्तान के राष्ट्रपति मोहम्मद अशरफ गनी ने घोषणा का स्वागत किया है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय