कत्ल के 11वें दिन हरियाणा के नहर में मिली मॉडल दिव्या पाहुजा की लाश, ऐसे हुई थी हत्या की प्लानिंग

गुरुग्राम बस स्टैंड के पास स्थित सिटी प्वाइंट होटल के कमरा नंबर 111 में 2 जनवरी को दिव्या की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

पूर्व मॉडल दिव्या पाहुजा का शव हत्या के 11 दिन बाद हरियाणा के फतेहाबाद जिले में एक नहर से बरामद किया गया है। पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी। उसकी इस महीने की शुरुआत में गुरुग्राम के एक होटल में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। सहायक पुलिस आयुक्त (अपराध) वरुण दहिया ने कहा, "टोहाना में भाखड़ा नहर से क्षत-विक्षत अवस्था में शव बरामद किया गया।"

गुरुग्राम बस स्टैंड के पास स्थित सिटी प्वाइंट होटल के कमरा नंबर 111 में 2 जनवरी को दिव्या की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

पुलिस के अनुसार, दिव्या और सिटी प्वाइंट होटल के मालिक अभिजीत सिंह रिलेशनशिप में थे। दिव्या ने अपने मोबाइल फोन से उनकी कुछ आपत्तिजनक तस्वीरें हटाने से इनकार कर दिया था, जिसके बाद सिंह ने गुस्से में आकर उसकी हत्या कर दी।

अभिजीत के दोस्तों - पंचकुला सेक्टर-5 निवासी बलराज गिल और गुरुद्वारा रोड मॉडल टाउन, हिसार के रवि बंगा - पर दिव्या के शव को फेंकने का संदेह है। पुलिस ने अब तक पांच लोगों - अभिजीत, उसके सहयोगी ओम प्रकाश, हेमराज, बलराज और एक महिला मेघा को गिरफ्तार किया है। रवि बंगा अभी भी फरार है।


महिला ने हत्या के हथियार को ठिकाने लगाने, दस्तावेजों और पीड़ित के अन्य निजी सामानों को फेंकने में अभिजीत की मदद की थी। ओम प्रकाश और हेमराज ने अभिजीत को दिव्या के शव को बीएमडब्ल्यू कार के बूट में खींचने में मदद की थी। बाद में बलराज और रवि शव लेकर भाग गए।

मेघा ने पुलिस को बताया कि जब वह 2 जनवरी को होटल पहुंची तो उसने दिव्या का शव देखा।

सूत्रों ने बताया कि इसके बाद अभिजीत ने उससे मृत महिला के सामान को ठिकाने लगाने के लिए कहा, लेकिन वह उसके निर्देशों का पालन करने से बहुत डर रही थी। पुलिस ने वह बीएमडब्ल्यू कार बरामद कर ली है जिसका इस्तेमाल शव को पटियाला ले जाने में किया गया था।

पूछताछ के दौरान अभिजीत ने पुलिस को बताया कि दिव्या उसे ब्लैकमेल करती थी और पैसे भी वसूलती थी। दिव्या जेल में बंद गैंगस्टर बिंदर गुज्जर के माध्यम से अभिजीत के संपर्क में आई, जिसे 2016 में मुंबई में हुई गुरुग्राम पुलिस के साथ गैंगस्टर संदीप गाडोली की कथित "फर्जी मुठभेड़" में मुख्य साजिशकर्ता माना जाता है। दिव्या इस मामले में मुख्य आरोपी थी।

बाद में, उसे गैंगस्टर की हत्या के सिलसिले में गिरफ्तार कर लिया गया और उसने सात साल जेल में बिताए। उसे पिछले साल जून में बॉम्बे हाई कोर्ट ने जमानत दे दी थी। दिव्या के परिवार का आरोप है कि उसकी हत्या की साजिश गाडोली के परिवार वालों ने अभिजीत के साथ मिलकर रची थी।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;