भयंकर मंदी कि गिरफ्त में जकड़ा देश, दूसरी तिमाही में भी GDP ग्रोथ निगेटिव, -7.5 फीसद दर्ज

चालू वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही में भी जीडीपी ग्रोथ रेट निगेटिव रही है। आज जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार जुलाई-सितंबर में अर्थव्यवस्था में माइनस 7.5 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई, जो बताता है कि देश मंदी के भयंकर जकड़ में है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कोरोना महामारी के बीच शुक्रवार को दूसरी तिमाही के जीडीपी ग्रोथ रेट के आंकड़े जारी किए गए। सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय के अनुसार चालू वित्त वर्ष 2020-2021 की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर के दौरान देश की अर्थव्यवस्था की ग्रोथ निगेटिव में 7.5 प्रतिशत दर्ज की गई। जो देश की अर्थव्यवस्था के लिए शुभ संकेत नहीं है।

चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में देश की अर्थव्यवस्था में करीब 24 फीसदी की भारी गिरावट दर्ज हुई थी। अगर ताजा आंकड़ों का पहली तिमाही से तुलना करें तो अर्थव्यवस्था में सुधार जरूर हुआ है। लेकिन इसके बावजूद निगेटिव में ग्रोथ रेट जाना अर्थव्यवस्था के लिए सही संकेत नहीं हैं।

ताजा आंकड़ों में कोर सेक्टर की बात करें तो अक्टूबर में इस सेक्टर की ग्रोथ -2.5 फीसदी रही, जो सितंबर के 0.8% के मुकाबले कम है। कोर सेक्टर में कोयला, कच्चाय तेल, उर्वरक, स्टीेल, पेट्रो, बिजली और नेचुरल गैस उद्योग आते हैं, जो किसी भी अर्थव्यहवस्था की बुनियाद माने जाते हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia