वित्त मंत्री की प्रेस कांफ्रेंस का ऑटो इंडस्ट्री पर असर नहीं, मारुति सुजुकी के 3000 कर्मचारियों की हुई छंटनी

ऑटोमोबाइल में काम करने वालों की नौकरियां लगातार जा रही है। अब देश की सबसे बड़ी कार बनाने वाली कंपनी मारुति सुजुकी ने 3,000 अस्थाई कर्मचारियों के कॉन्ट्रैक्ट को खत्म कर दिया है। कंपनी के चेयरमैन आरसी भार्गव ने कहा कि ऑटो इंडस्ट्री में मंदी की वजह से ऐसा किया गया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

देश में बिगड़ती अर्थव्यवस्था पर चिंतित वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि देश में लघु, मध्यम, सूक्ष्म, नैनो या बड़े उद्यमी जो भी हों, हम चाहते हैं कि वे बिना किसी चिंता के अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाए। यह भी बताया कि उन्होंने ऑटोमोबाइल से जुड़े लोगों से मुलाकात की और बातचीत। लेकिन दूसरी ओर ऑटोमोबाइल में काम करने वालों की नौकरियां लगातार जा रही है। हालात है कि सुधरने के नाम नहीं ले रही हैं। देश की सबसे बड़ी कार बनाने वाली कंपनी मारुति सुजुकी ने 3,000 अस्थाई कर्मचारियों के कॉन्ट्रैक्ट को खत्म कर दिया है। कंपनी के चेयरमैन आरसी भार्गव ने कहा कि ऑटो इंडस्ट्री में मंदी की वजह से ऐसा किया गया।

कंपनी की वार्षिक आम बैठक में भार्गव ने शेयरहोल्डर्स को बताया, “कारों की कीमतों में सुरक्षा मानदंडों और भारी टैक्स को जोड़ दिया गया है जो ग्राहकों के खरीदने की क्षमता को प्रभावित कर रहा है।” उन्होंने कहा कि मैन्यैफुक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकारों ने अपनी जिम्मेदारी नहीं समझी तो मोदी सरकार का 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी हासिल करने का लक्ष्य बाधित हो सकता है।

बैठक में भार्गव ने आगे कहा कि 9 राज्यों में रोड टैक्स बढ़ने की वजह से गाड़ियों की कीमतें 97 हजार रुपए तक बढ़ गई हैं। भार्गव ने कंपनी की आंतरिक रिपोर्ट के आधार पर बताया कि इन राज्यों में वाहन बिक्री में तेज गिरावट आई। बता दें, ऑटो मैन्युफैक्चरर्स संगठन सियाम ने कहा है कि स्लोडाउन के कारण ऑटो कंपनियां अब तक करीब 20 हजार लोगों को नौकरी से निकाल चुकी हैं। वहीं, 13 लाख लोगों की नौकरियों पर तलवार लटकी हुई है।

गौरतलब है कि अगस्त के महीन में देश में वाहनों की बिक्री में दो सदी की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज की गयी है। दिसंबर 2000 के बाद यह पहला मौका है, जब ऑटो सेक्टर की बिक्री में 31 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। इसके अलावा बीते करीब एक साल में इस सेक्टर से 13 लाख लोगों की नौकरियां गई हैं।

इसे भी पढ़ें: दरवाज़े पर खड़ी मंदी: सदी के सबसे बुरे दौर में ऑटो सेक्टर, बिक्री 31 फीसदी गिरी, एक साल में 13 लाख नौकरियां गईं

Published: 27 Aug 2019, 7:29 PM
लोकप्रिय