अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: रिकॉर्ड उछाल के बाद सस्ता हुआ सोना और सरकार के एक फैसले से निवेशकों को झटका!

कोरोना वायरस संकट के बीच रिकॉर्ड उछाल के बाद अब पिछले तीन दिनों से गोल्ड के दाम में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है और चीन और हांगकांग में कस्टम विभाग के अधिकारी भारतीय निर्यातकों के माल को रोक रहे हैं।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

उछाल के बाद लगातार तीसरे दिन सस्ता हुआ सोना

लॉकडाउन में गिरती अर्थव्यवस्था के दौरान लोगों ने गोल्ड को निवेश के के लिए सबसे बेहतर विकल्प के रूप में चुना। लोगों को गोल्ड के निवेश में जमकर फायदा भी हुआ और गोल्ड के दाम में लगातार बढ़ोतरी हुई और इसने इस हफ्ते रिकॉर्ड ऊंचाई को छुआ था। लेकिन अब पिछले तीन दिनों से गोल्ड के दाम में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। दरअसल कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों की चिंता की वजह से गोल्ड के दाम कौ वैश्विक स्तर पर मदद मिली। आज एमसीएक्स पर गोल्ड के दाम 0.02 फीसदी गिरे, जिसके बाद गोल्ड की कीमत 47930 रुपए प्रति ग्राम तक पहुंच गई। पिछले सत्र की बात करें तो गोल्ड के दाम में 0.3 फीसदी की गिरावट देखने को मिली थी। गोल्ड के साथ चांदी के दामों में भी गिरावट देखने को मिली है

इसे भी पढ़ें- वित्त वर्ष 2021 में 5.3 प्रतिशत तक सिकुड़ेगी जीडीपी और कारोबार के तीसरे दिन शेयर बाजार धड़ाम

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

चीन-हांगकांग में रोका गया भारतीय निर्यातकों का माल

सीमा पर जारी तनाव के बीच अब लगता है कि भारत और चीन के बीच व्यापार में भी गतिरोध आने लगा है। चीन और हांगकांग में कस्टम विभाग के अधिकारी भारतीय निर्यातकों के माल को रोक रहे हैं। निर्यातक संघों ने इस बारे में वाणिज्य मंत्रालय को लेटर लिखकर मदद मांगी है। इसके पहले ऐसी खबरें आई थीं चीन से आने वाले माल को भारतीय बंदरगाहों पर रोक कर उनकी सख्त जांच की जा रही है और उनकी क्लियरेंस में देरी हो रही है। हालांकि, भारत सरकार की तरफ से ऐसा कोई आधिकारिक आदेश नहीं है। गौरतलब है कि हाल में भारत-चीन नियंत्रण रेखा पर हिंसक झड़प के बीच हमारे देश के 20 वीर जवान शहीद हो गए थे, जिसके बाद से देश में चीन विरोधी राष्ट्रवाद प्रबल है। चीनी माल के बायकॉट का अभियान चल रहा है और चीन से आयात पर अंकुश लगाने की बात की जा रही है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

घट सकती है पीएफ पर मिलने वाली ब्याज दर

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानि ईपीएफओ भी ब्याज की दरों में कटौती की तैयारी कर रहा है। जिस तरह से वित्तीय वर्ष 2020 में निवेश पर प्रतिफल की कमी आई और नगदी प्रवाह कम हुआ उसके बाद माना जा रहा है कि ईपीएफओ अपने 60 लाख ग्राहकों के बचत भुगतान की दरों में कटौती करते हुए इसे 8.5 फीसदी से भी कम कर सकता है। बता दें कि ब्याज दरों का निर्धारण वित्तीय वर्ष 2020 में हुई कमाई के आधार पर किया गया था, लेकिन मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में ग्राहकों का भुगतान किया जाएगा। खबरों के अनुसार ईपीएफओ की फाइनेंस, इन्वेंस्टमेंट एंड ऑडिट कमेटी जल्द ही बैठक करेगी और ब्याज के भुगतान को अदा करने की स्थिति का आंकलन करेगी। मार्च के पहले हफ्ते में ईपीएफओ की ओर से कहा गया था कि ब्याज दर 8.5 फीसदी होगी, लेकिन अभी तक वित्त मंत्रालय की ओर से इसे मंजूरी नहीं दी गई है। श्रम मंत्रालय ब्याज दरों की घोषणा तभी कर सकता है जब वित्त मंत्रालय इसपर अपनी मुहर लगा दे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

सरकार के एक फैसले से निवेशकों को झटका

सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन यानी शुक्रवार को IRCTC के निवेशकों को तगड़ा झटका लगा है। दरअसल, कारोबार के दौरान आईआरसीटीसी के शेयर करीब 6 फीसदी तक लुढ़क गए और इसका भाव 1,340 रुपये के स्तर पर चला गया। एक दिन पहले यानी गुरुवार को आईआरसीटीसी का शेयर भाव 1421 रुपये पर था। इस लिहाज से निवेशकों को प्रति शेयर 80 रुपये से अधिक का नुकसान हुआ है। वहीं, मार्केट कैपिटल घटकर 22 हजार करोड़ से भी नीचे आ गया। हालांकि, दोपहर बाद आईआरसीटीसी के शेयर में मामूली रिकवरी आई लेकिन इसके बावजूद निवेशक नुकसान में रहे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

देश में 20वें दिन भी बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम

डीजल के दाम में शुक्रवार को लगातार 20वें दिन वृद्धि जारी रही और पेट्रोल का भाव भी एक दिन के विराम के बाद फिर लगातार दूसरे दिन बढ़ गया। देश की राजधानी दिल्ली में डीजल और पेट्रोल दोनों 80 रुपये लीटर से ऊंचे भाव पर बिकने लगे हैं। दिल्ली में डीजल का भाव इस समय रिकॉर्ड ऊंचाई पर है। इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में पेट्रोल का भाव बढ़कर क्रमश: 8013 रुपये, 81.82 रुपये, 86.91 रुपये और 83.37 रुपये प्रति लीटर हो गया है। डीजल का दाम भी चारों महानगरों में बढ़कर क्रमश: 80.19 रुपये, 75.34 रुपये, 78.51 रुपये और 77.44 रुपये प्रति लीटर हो गया है।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

लोकप्रिय