अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: कोरोना काल में भी SBI की हुई चांदी और पंजाब नेशनल बैंक PNB हाउसिंग फाइनेंस में करेगा निवेश

अप्रैल से जून के बीच में भारतीय स्टेट बैंक का मुनाफा 81 फीसदी बढ़ गया है। बैंक के मुताबिक चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में मुनाफा 4,189.34 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है और पंजाब नेशनल बैंक पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस में 600 करोड़ रुपये का निवेश करेगा।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

कोरोना लॉकडाउन में भी SBI का मुनाफा 81 फीसदी बढ़ गया

कोरोना काल में देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई की वित्तीय स्थिति अच्छी रही। अप्रैल से जून के बीच में भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) का मुनाफा 81 फीसदी बढ़ गया है। ये जानकारी खुद एसबीआई की ओर से दी गई है। बैंक के मुताबिक चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में मुनाफा 4,189.34 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक ने 2,312.02 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था। तिमाही के दौरान एसबीआई की कुल आय बढ़कर 74,457.86 करोड़ रुपये पर पहुंच गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 70,653.23 करोड़ रुपये रही थी।

इसे भी पढ़ें- अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: दूसरी तिमाही में भारत आया हर 4 में से 3 स्मार्टफोन चीनी और नई ऊंचाई पर सोना

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

पंजाब नेशनल बैंक PNB हाउसिंग फाइनेंस में 600 करोड़ निवेश करेगा

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस में 600 करोड़ रुपये का निवेश करेगा। यह निवेश प्रेफरेंशियल (तरजीही) या राइट्स इश्यू के अलावा अन्य विकल्पों के साथ किया जाएगा। बैंक ने शुक्रवार को एक नियामकीय फाइलिंग में कहा कि जब उसके सहयोगी पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस की पूंजी जुटाने की योजना होगी, तो वह राशि का उपयोग करेगा। पीएनबी ने कहा, "बैंक ने पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (पीएनबीएचएफएल) में 600 करोड़ रुपये तक की पूंजी डालने का फैसला किया है। यह बैंक के एक सहयोगी के रूप में प्रेफरेंशियल इश्यू/राइट्स इश्यू आदि के माध्यम से रेगुलेटरी अप्रूवल के अधीन है, जब पीएनबीएचएफएल निर्णय लेता है कि पूंजी बढ़ानी है।" केंद्र द्वारा संचालित पीएनबी की हाउसिंग फाइनेंस कंपनी में 30 जून तक 32.65 प्रतिशत हिस्सेदारी रही है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) पर दोपहर 1.09 बजे पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस के शेयर 207 रुपये पर कारोबार कर रहे थे, जो पिछले बंद से 2.80 रुपये ज्यादा या 1.33 प्रतिशत कम है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

दिल्ली में पेट्रोल से सस्ता हुआ डीजल

डीजल फिर देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल से सस्ता हो गया है। दिल्ली सरकार की ओर से डीजल पर वैट में कटौती करने के बाद राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में शुक्रवार को डीजल कीमत घटकर 73.56 रुपये प्रति लीटर पर आ गई। हालांकि अन्य महानगरों में डीजल की कीमत लगातार 5वें दिन स्थिर रही। वहीं, देशभर में पेट्रोल के दाम में बीते एक महीने से कोई फेरबदल नहीं हुआ है। इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में डीजल की कीमत शुक्रवार को क्रमश: 73.56 रुपये, 77.04 रुपये, 80.11 रुपये और 78.86 रुपये प्रति लीटर दर्ज की गई। चारों महानगरों में पेट्रोल का दाम लगातार 32वें दिन बिना किसी बदलाव के क्रमश: 80.43 रुपये, 82.10 रुपये, 87.19 रुपये और 83.63 रुपये प्रति लीटर पर बना हुआ है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

BS-IV वाहनों के रजिस्ट्रेशन पर रोक बरकरार

बीते 8 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट ने BS-IV वाहनों को लेकर एक फैसला सुनाया था। इसके तहत कोर्ट ने कहा था कि 31 मार्च के बाद बिकी गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन नहीं होगा। सुप्रीम कोर्ट ने अपने इस फैसले को अगले आदेश तक बरकरार रखा है। मतलब ये कि BS-IV वाहनों का रजिस्ट्रेशन नहीं होगा। इसके साथ ही मामले की सुनवाई कर रहे जस्टिस अरुण मिश्रा ने मार्च में बेची गई गाड़ियों को लेकर नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने बड़ी संख्या में वाहनों की बिक्री पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि क्या धोखाधड़ी से कुछ हो सकता है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मार्च के आखिरी हफ्ते में सामान्य से ज्यादा वाहन बिके, जबकि इस दौरान लॉकडाउन था। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने मार्च में BS-IV वाहन बिक्री के आंकड़े भी मांगे हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

अमेरिकी अर्थव्यवस्था में 33 फीसदी की भारी गिरावट

कोरोना का कहर झेल रहे अमेरिका की अर्थव्यवस्था को तगड़ी चोट पड़ी है. अप्रैल से जून की तिमाही में अमेरिका के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में 33 फीसदी की भारी गिरावट आई है। यह ऐतिहासिक गिरावट है यानी अब तक का एक रिकॉर्ड है। इस दौरान अमेरिका में बेरोजगारी भी बढ़कर 14.7 फीसदी तक पहुंच गई। गौरतलब है कि अमेरिका में वित्त वर्ष कैलेंडर वर्ष यानी जनवरी से दिसंबर तक के लिए होता है। वहां गुरुवार को अप्रैल से जून की दूसरी तिमाही के लिए इकोनॉमी के आंकड़े जारी किए गए।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

लोकप्रिय
next