अर्थ जगत की 5 बड़ी खबरें: ऑटो सेक्टर पर भी पड़ा कोरोना का गहरा असर और लगातार दूसरे दिन बढ़े डीजल के दाम

कोरोना संकट की वजह से ऑटो सेक्टर पर गहरा असर पड़ा है। घरेलू बिक्री के साथ-साथ निर्यात में भी बड़ी गिरावट दर्ज की गई है और डीजल के दाम में रविवार को फिर लगातार दूसरे दिन बढ़ोतरी हुई।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

कोरोना का असर: मारुति-हुंडई और टाटा को तगड़ा झटका

कोरोना संकट की वजह से ऑटो सेक्टर पर गहरा असर पड़ा है। घरेलू बिक्री के साथ-साथ निर्यात में भी बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। दुनिया भर में मांग घटने से भारत से यात्री वाहनों का निर्यात चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 75 प्रतिशत गिर गया। वाहन बनाने वाली कंपनियों के संगठन सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (SIAM) के आंकड़ों के अनुसार, कुल यात्री वाहनों का निर्यात अप्रैल-जून तिमाही में घटकर 43,748 यूनिट्स रह गया, जो कि एक साल पहले की अवधि में 1,73,054 यूनिट्स था। 2019-20 की अप्रैल-जून अवधि में 1,36,204 यूनिट्स की तुलना में यात्री कार निर्यात 76.58 फीसद घटकर 31,896 यूनिट्स रह गया।

इसे भी पढ़ें- डीजल के दाम फिर बढ़े और रिपोर्ट के मुताबिक गूगल यूजर्स के डेटा की कर रहा जासूसी

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

लगातार दूसरे दिन बढ़े डीजल के दाम, इतने रुपये हुई प्रति लीटर कीमत

डीजल के दाम में रविवार को फिर लगातार दूसरे दिन बढ़ोतरी हुई। इन दो दिनों में देश की राजधानी दिल्ली में डीजल की कीमत 30 पैसे बढ़कर 82 रुपये लीटर के करीब हो गई है जबकि कोलकाता में 77 रुपये लीटर के पार चली गई है। हालांकि पेट्रोल के दाम में लगातार 27वें दिन कोई फेरबदल नहीं हुआ। तेल विपणन कंपनियों ने डीजल के दाम में फिर दिल्ली में 15 पैसे, कोलकाता और चेन्नई में 13 पैसे जबकि मुंबई में 14 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की। इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में डीजल की कीमत बढ़कर क्रमश: 81.94 रुपये, 77.04 रुपये, 80.11 रुपये और 78.86 रुपये प्रति लीटर हो गई है। हालांकि चारों महानगरों में पेट्रोल का दाम भी लगातार 27वें दिन बिना किसी बदलाव के क्रमश: 80.43 रुपये, 82.10 रुपये, 87.19 रुपये और 83.63 रुपये प्रति लीटर पर बना हुआ है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

आदित्य पुरी ने एचडीएफसी बैंक में अपनी अधिकांश हिस्सेदारी 843 करोड़ रुपये में बेची

एचडीएफसी बैंक के प्रबंध निदेशक आदित्य पुरी ने बैंक में अपनी 95 प्रतिशत हिस्सेदारी 842.87 करोड़ रुपये में बेच दी है। शेयर बाजार की तरफ से जारी ताजा आंकड़े के अनुसार, इस लेनदेन से पहले पुरी की 0.14 प्रतिशत हिस्सेदारी (77.96 लाख शेयर) थी और बिक्री के बाद उनकी हिस्सेदारी 0.01 प्रतिशत (3.76 लाख शेयर) रह गई है। पुरी ने 21-23 जुलाई के दौरान शेयर बेचे थे। यह घटना मायने रखती है, क्योंकि पुरी अक्टूबर में बैंक के शीर्ष पद से सेवानिवृत्त होने वाले हैं। वह 1994 में बैंक की स्थापना के समय से ही इसके एमडी के रूप में सेवा दे रहे हैं। बैंक के बोर्ड ने पिछले साल पुरी के उत्तराधिकारी की पहचान के लिए छह सदस्यीय सर्च कमेटी गठित की थी। भारत के सबसे बड़े और सर्वाधितक मूल्यवान निजी बैंक खड़ा करने का श्रेय पुरी को जाता है। बैंक का बाजार पूंजीकरण मौजूदा समय में 6.14 लाख करोड़ रुपये है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS

अगस्त से बदल जाएगा टिकट बुकिंग का सिस्टम

आईआरसीटीसी की वेबसाइट में जल्द ही बड़ा बदलाव होने जा रहा है। IRCTC रेलवे टिकट बुकिंग सिस्टम में बदलाव करने जा रहा है। दरअसल अगस्त से आईआरसीटीसी अपनी वेबसाइट में बदलाव करने जा रहा है। IRCTC टिकट बुकिंग के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल करने जा रही है। आईआरसीटीसी की वेबसाइट में अगस्त महीने में जरूरी बदलाव होने जा रहा है। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वीके यादव ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान ये जानकारी देते हुए कहा कि यात्रियों को बेहतरीन सर्विस उपलब्ध कराने के मकसद से जरूरी बदलाव किए जा रहे हैं। टिकट बुकिंग के लिए वेबसाइट में बदलाव किया जा रहा है। दरअसल कोरोना संक्रमण के कारण यात्रियों को बेहतर टिकट बुकिंग की सुविधा देने के लिए आईआरसीटीसी वेबसाइट में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से कुछ खास बदलाव किए जा रहे हैं। इस बदलाव के बाद टिकट बुकिंग की प्रक्रिया और आसान होगी और यात्रियों को संभावित ट्रेन की पूरी जानकारी दी जाएगी। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वी के यादव के मुताबिक वर्तमान में ट्रेन के 85% टिकट ऑनलाइन बुक हो रहे हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

चीन में अनाज उत्पादन रिकार्ड 14 करोड़ टन

चीन में इस साल गर्मियों में अनाज का उत्पादन 14 करोड़ 28 लाख 10 हजार टन तक पहुंचा, जो फिर एक नया रिकॉर्ड है। शरद में अनाज उत्पादन पूरे साल का तीन चौथाई भाग होता है। गर्मियों में चीन के दक्षिण इलाकों में लगातार भारी वर्षा हुई, जिससे बाढ़ आई। विभिन्न क्षेत्रों ने शीघ्र ही आपदा की रोकथाम में कदम उठाए। लक्ष्य है कि इस साल अनाज का उत्पादन सुनिश्चित हो। चीन और भारत दोनों बड़ी आबादी वाले देश हैं। खाद्य सुरक्षा की गारंटी हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। हर समय इस दिशा में ध्यान देना पड़ता है। इसके लिए खाद्यान्न सुरक्षा सुनिश्चित होगी तो समाज स्थिर बनेगा। चीनी कहावत है कि हाथों में अनाज है तो दिल शांत होता है। विशेष मौके पर अनाज सुरक्षा का महत्व और स्पष्ट रूप से दिखता है। इस साल विश्व अनाज सुरक्षा को लेकर विभिन्न पक्ष चिंतित हैं।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

लोकप्रिय
next