आर्थिक बदहाली का कहर जारी, सप्ताह के पहले दिन ही शेयर बाजार धड़ाम, निवेशकों के 2.80 लाख करोड़ डूबे

भारतीय निवेशकों के लिए सप्‍ताह का पहला कारोबारी दिन निराश करने वाला रहा। सुबह कारोबार शुरू होते ही बाजार में भारी बिकवाली देखने को मिली। दिन भर बाजार में यही माहौल रहा, जिसकी वजह से सेंसेक्स करीब 769 अंक टूटकर 36,562.91 के स्‍तर पर बंद हुआ।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

जीडीपी अनुमान में ताजा गिरावट, ऑद्योगिक उत्पादन में भारी कमी और कोर सेक्टर की धीमी ग्रोथ का असर इस सप्ताह शेर बाजार के पहली बार खुलते ही उस पर पड़ा है। इस झटके से मंगलवार को शेयर मार्केट में बड़ी गिरावट दर्ज की गई। मंगलवार का कारोबार खत्म होने के समय बीएसई स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स जहां में 769 अंक लुढ़ककर 36,562 पर बंद हुआ, वहीं निफ्टी 225 अंक लुढ़ककर 10,797 के स्तर से नीचे पहुंच गया।

पिछले शुक्रवार को बाजार बंद होने के बाद इस सप्ताह में आज मंगलवार को पहली बार बाजार खुला था। लेकिन भारतीय निवेशको के लिए सप्‍ताह का पहला कारोबारी दिन निराश करने वाला रहा। सुबह कारोबार शुरू होते ही बाजार में भारी बिकवाली देखने को मिली। दिन भर बाजार में यही माहौल रहा, जिसकी वजह से सेंसेक्स करीब 769 अंक टूटकर 36,562.91 के स्‍तर पर बंद हुआ। वहीं निफ्टी में भी 11 महीनों की सबसे बड़ी इंट्राडे गिरावट आज दर्ज की गई और यह 2 भी फीसदी से ज्यादा लुढ़क गया। दिन के अंत में कारोबार बंद होने तक निफ्टी 225 अंक गिरकर 10,798 के स्तर पर रहा।

शेयर बाजार में आई इस भारी गिरावट की वजह से निवेशकों को बड़ा नुकसान हुआ है। इससे पहले आखिरी कारोबारी दिन शुक्रवार को बीएसई में लिस्टेड सभी कंपनियों का मार्केट कैप 1,40,98,451.66 करोड़ रुपये था, जो मंगलवार को गिरकर 1,39,68,329.67 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। शुक्रवार से तुलना करने पर इन सभी कंपनियों का मार्केट कैप 2.80 लाख करोड़ रुपये कम हुआ है, जो कि सीधे तौर पर निवेशकों का नुकसान है।

गौरतलब है कि देश की अर्थव्यवस्था की हालत बेहद खस्ता है। मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में आर्थिक विकास दर करीब 6 साल में सबसे कम होकर 5 फीसदी पर पहुंच गई है। वहीं एक दिन पहले जारी आंकड़ों के अनुसार देश में कोर सेक्टर ग्रोथ इस साल जुलाई में 2.1 फीसदी रही। कोर सेक्टर में बिजली, स्टील, रिफाइनरी प्रोडक्ट, क्रूड ऑयल, कोल, सीमेंट, नेचुरल गैस और फर्टिलाइजर सेक्टर शामिल हैं। सोमवार को आए ताजा आंकड़े बताते हैं कि आठ कोर सेक्टर में से 5 में जबरदस्त गिरावट हुई है।

लोकप्रिय