Results For "भारतीय अर्थव्यवस्था "

 कोरोना वायरस से चीन की  अर्थव्यवस्था को गहरा धक्का, भारत समेत कई देशों पर भी होगा गंभीर असर

दुनिया

कोरोना वायरस से चीन की अर्थव्यवस्था को गहरा धक्का, भारत समेत कई देशों पर भी होगा गंभीर असर

बजट 2020ः पारदर्शी बजट से ही सुधरेगी अर्थव्यवस्था की चाल-ढाल, मांग, खपत, रोजगार, निवेश पर जोर ही उपाय

अर्थतंत्र

बजट 2020ः पारदर्शी बजट से ही सुधरेगी अर्थव्यवस्था की चाल-ढाल, मांग, खपत, रोजगार, निवेश पर जोर ही उपाय

बेरोजगारी और बदहाल अर्थव्यवस्था पर जनता का सामना नहीं कर सकती मोदी सरकार, इसलिए देश बांटने का कर रही काम: राहुल

हालात

बेरोजगारी और बदहाल अर्थव्यवस्था पर जनता का सामना नहीं कर सकती मोदी सरकार, इसलिए देश बांटने का कर रही काम: राहुल

विष्णु नागर का व्यंग्यः बड़े  भोले  हैं ‘साहब’, पता ही नहीं कि वे अपनी ही सत्ता की कब्र खोद रहे हैं!

विचार

विष्णु नागर का व्यंग्यः बड़े भोले हैं ‘साहब’, पता ही नहीं कि वे अपनी ही सत्ता की कब्र खोद रहे हैं!

खस्ताहाल अर्थव्यवस्था की मार जारी, नवंबर में टाटा मोटर के वाहनों की 25% और मारुति के वाहनों की बिक्री 1.9% घटी

अर्थतंत्र

खस्ताहाल अर्थव्यवस्था की मार जारी, नवंबर में टाटा मोटर के वाहनों की 25% और मारुति के वाहनों की बिक्री 1.9% घटी

सरकार ही लेकर आई ये आर्थिक मंदी, कॉरपोरेट पर रहम, गांवों पर सितम का है नतीजा

विचार

सरकार ही लेकर आई ये आर्थिक मंदी, कॉरपोरेट पर रहम, गांवों पर सितम का है नतीजा

अभिजीत बनर्जी की किताब सेः विकास दर के लिए गरीब विरोधी नीतियों का बड़ा खतरा

विचार

अभिजीत बनर्जी की किताब सेः विकास दर के लिए गरीब विरोधी नीतियों का बड़ा खतरा

किसान बेहाल, अर्थव्यवस्था खस्ताहाल, प्रियंका का सवाल- 76000 करोड़ रुपये का लोन किसके लिए माफ कर रही मोदी सरकार

देश

किसान बेहाल, अर्थव्यवस्था खस्ताहाल, प्रियंका का सवाल- 76000 करोड़ रुपये का लोन किसके लिए माफ कर रही मोदी सरकार

आर्थिक मोर्चे पर पस्त मोदी सरकार को एक और झटका, अगस्त महीने में 12 हजार करोड़ रुपये घटी रेलवे की आमदनी

हालात

आर्थिक मोर्चे पर पस्त मोदी सरकार को एक और झटका, अगस्त महीने में 12 हजार करोड़ रुपये घटी रेलवे की आमदनी

मोदी सरकार के सुधारों से ही हो रहा है अर्थव्यवस्था का सत्यानाश? आगे भी नहीं है बेहतरी की कोई आस

अर्थतंत्र

मोदी सरकार के सुधारों से ही हो रहा है अर्थव्यवस्था का सत्यानाश? आगे भी नहीं है बेहतरी की कोई आस