क्या मोदी-शाह की लिखी बजट स्पीच पढ़ेंगी निर्मला सीतारमण, शीर्ष अर्थशास्त्रियों के साथ बैठक से रहीं नदारद

देश में गहराते आर्थिक संकट के बीच आम बजट को लेकर पीएम मोदी ने नीति आयोग में 40 से ज्यादा अर्थशास्त्रियों के साथ अहम बैठक की, लेकिन इस बैठक से वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण गायब रहीं। सवाल उठ रहे हैं कि क्या सीतारमण इस बार मोदी-शाह की लिखी बजट स्पीच पढ़ेंगी।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को नीति आयोग में देश के 40 से ज्यादा अर्थशास्त्रियों और उद्योग जगत के विशेषज्ञों के साथ 2 घंटे तक एक अहम बैठक की। खबरों के मुताबिक बैठक में पीएम मोदी ने अर्थशास्त्रियों से खपत और मांग बढ़ाने के उपायों पर सुझाव भी मांगे। लेकिन इस बैठक में अमित शाह, पियूष गोयल और नितिन गडकरी जैसे सरकार के कई मंत्री तो मौजूद दिखे, लेकिन देश की वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण नदारद रहीं, जिसे लेकर सवाल उठने लगे हैं।

देश में जारी आर्थिक बदहाली और आगामी आम बजट से पहले बुलाई गई इस अहम बैठक से देश की वित्तमंत्री के अनुपस्थित रहना किसी की भी समझ से परे है। देश की अर्थव्यवस्था, जीडीपी विकास लक्ष्य से लेकर आगामी बजट के तमाम सुझाव ऐसे मुद्दे हैं, जिनपर इस बैठक में चर्चा हुई और जो सीधे निर्मला सीतारमण के मंत्रालय के विषय हैं, लेकिन वह इस बैठक में नजर नहीं आईं, जिसे लेकर सवाल उठ रहे हैं। हालांकि, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज के दिन दिल्ली में ही मौजूद थीं और बीजेपी मुख्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ प्री-बजट मीटिंग कर रही थीं।

देश के आर्थिक मामलों पर अर्थशास्त्रियों की पीएण मोदी के साथ बैठक से वित्तमंत्री के गायब रहने को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ सांसद शशि थरूर ने भी सवाल उठाए हैं। उन्होंने बैठक की एक तस्वीर साझा करते हुए अपने ट्वीट में पूछा कि “इस बैठक में वित्तमंत्री कहां हैं? क्या ये दोनों भूल गए हैं कि उनकी सरकार में एक वित्तमंत्री भी है?”

गौरतलब है कि देश की जीडीपी में गिरावट से चिंतित और आगामी बजट की तैयारी के लिए इस बार खुद पीएम मोदी सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। इसके लिए वह लगातार उद्योग जगत और अर्थव्यवस्था के विशेषज्ञों के साथ बैठक कर रहे हैं। इसी सिलसिले में अर्थव्यवस्था पर चर्चा के लिए यह उनकी 13वीं बैठक थी। इस बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी, वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल और प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद के चेयरमैन बिबेक देबरॉय के साथ नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार, सीईओ अमिताभ कांत और दूसरे अधिकारी और आर्थिक जगत के कई विशेषज्ञ मौजूद रहे।

लोकप्रिय
next