जेएनयू में कोरोना की एंट्री, स्वास्थ्य केंद्र का फार्मासिस्ट निकला पॉजिटिव, प्रशासन ने तुरंत जारी किया सर्कुलर

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के इस फार्मेसिस्ट में कोरोना के लक्षण पाए जाने के बाद उसकी जांच करवाई गई थी। दिल्ली सरकार के अधिकारियों ने 6 जून को फार्मेसिस्ट एवं विश्वविद्यालय को जानकारी देते हुए बताया कि कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय(जेएनयू) में कोरोना का पहला मामला सामने आया है। यहां विश्वविद्यालय के एक फार्मेसिस्ट को जांच के बाद कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद जेएनयू प्रशासन ने फार्मेसिस्ट के संपर्क में आए सभी लोगों को सतर्क रहने और कोई भी समस्या होने पर तुरंत जांच करवाने को कहा है।

इसे भी पढ़ें- वेब सीरीज के नाम पर परोसी जा रही अश्लीलता, OTT प्लेटफार्म को 'दूरदर्शन' बनाने पर आमादा आलोचक!

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के इस फार्मेसिस्ट में कोरोना के लक्षण पाए जाने के बाद उसकी जांच करवाई गई थी। दिल्ली सरकार के अधिकारियों ने 6 जून को फार्मेसिस्ट एवं विश्वविद्यालय को जानकारी देते हुए बताया कि कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। फार्मेसिस्ट की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उसे अपने घर के अंदर ही आइसोलेशन में रखा गया है। यह फार्मेसिस्ट जेएनयू परिसर में बने सरकारी आवास में रहता है।

जेएनयू में फार्मेसिस्ट के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के उपरांत जेएनयू प्रशासन ने तुरंत एक सकरुलर जारी किया है। यहां डीन ऑफ स्टूडेंट सुधीर प्रताप सिंह ने एक सर्कुलर जारी करते हुए कहा, "जेएनयू कम्युनिटी में किसी को भी यदि कोरोना के लक्षण महसूस हो तो वह तुरंत क्लीनिक या अस्पताल में संपर्क कर जांच करवाएं।" विश्वविद्यालय ने कहा, "जेएनयू स्वास्थ्य केंद्र आने वाले सभी छात्र, कर्मचारी और उनके परिजन कृपया ध्यान दें कि यदि उनमें कोविड-19 का कोई भी लक्षण दिखाई देता हो तो जब तक स्वास्थ्य केंद्र बंद है, तब तक वे अन्य स्वास्थ्य केंद्र या किसी सरकारी अस्पताल में जाएं।”

इसके साथ ही जेएनयू के सभी छात्रों और सदस्यों से कोविड-19 की रोकथाम के लिए समय-समय पर भारत सरकार और दिल्ली सरकार द्वारा जारी दिशानिर्देशों का पालन करने का अनुरोध किया गया है। जेएनयू ने 25 मई को छात्रावासों में फंसे छात्रों को विशेष श्रमिक ट्रेनों और अंतर-राज्यीय बस सेवा से अपने गृह-राज्य लौटने का परामर्श जारी किया था। फिलहाल जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में शैक्षणिक कार्य सक्रिय रूप से आरंभ नहीं किया गया है। यहां हॉस्टल में रहने वाले अधिकांश छात्र भी अपने अपने घरों को जा चुके हैं।

इसे भी पढ़ें- खरी-खरी: कोरोना संकट में बुरी तरह नाकाम केजरीवाल ने खुद को राजनीति का एक ‘बौना’ ही साबित किया

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

लोकप्रिय
next