उत्तराखंड: सूरत से हरिद्वार पहुंची श्रमिक स्पेशल ट्रेन से लापता हुए 167 लोग, जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग में मचा हड़कंप

12 मई को गुजरात के सूरत जिले से हरिद्वार पहुंची श्रमिक एक्सप्रेस में ट्रेन में सवार 167 यात्रियों का पता नहीं चल पा रहा है। एक साथ इतने लोगों के लापता होने से जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों में हड़कंप मच गया।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

लॉकडाउन में अगल-अलग राज्यों में फंसे श्रमिक मजदूरों को उनके राज्य पहुंचाने के लिए भारतीय रेलवे द्वारा श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही है। इस बीच लोग पैदल ही पलायन भी कर रहे हैं। लेकिन जो श्रमिक ट्रेनें चलाई गई है उसमें भी मजदूर गायब हो रहे हैं। मामला गुजरात के सूरत से उत्तराखंड के हरिद्वार के बीच चलाई गई ट्रेन का है। आपको बता दें, 12 मई को गुजरात के सूरत जिले से हरिद्वार पहुंची श्रमिक एक्सप्रेस में ट्रेन में सवार 167 यात्रियों का पता नहीं चल पा रहा है। एक साथ इतने लोगों के लापता होने से जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों में हड़कंप मच गया। जिला प्रशासन अब इन लोगों की खोजबीन में जुट गया है।

इसे भी पढ़ें- कोरोना के बढ़ते केस के चलते महाराष्ट्र के इन शहरों में 31 मई तक बढ़ा लॉकडाउन, 17 मई के आगे देश में भी बढ़ेगा?

सूरत से स्पेशल ट्रेन मंगलवार को हरिद्वार पहुंची थी, इस ट्रेन में 1340 लोग सवार थे। लोगों की एक सूची भी हरिद्वार प्रशासन को सूरत प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराई गई थी, मगर जब यह स्पेशल ट्रेन हरिद्वार रेलवे स्टेशन पहुंची तो इसमें हरिद्वार पहुंचे यात्रियों की प्रशासन द्वारा गिनती की गई। गिनती करने पर कुल 1173 लोग ही हरिद्वार पहुंचे थे और इसमें से 167 लोग लापता थे। इसके बाद जिला प्रशासन के अधिकारी हरकत में आए और सूरत के अधिकारियों से संपर्क किया।

डीएम सी रविशंकर ने बताया कि ट्रेन रास्ते में कहीं रुकी है या इसकी गति धीमी होने के दौरान लोग उतरे हैं, इस बारे में भी पड़ताल की जा रही है। साथ ही सूरत के अधिकारियों से संपर्क कर सभी लोगों के नाम और पते मांगे जा रहे हैं। यह भी पता लगाया जा रहा है कि कितने लोग वहां से ट्रेन में सवार हुए। अगर यह सामने आया कि ये लोग रास्ते में ट्रेन से उतरे हैं और खुद सामने नहीं आए तो सभी के खिलाफ हत्या की कोशिश का मुकदमा दर्ज कराया जाएगा।

जिलाधिकारी ने बताया कि प्रशासन द्वारा हरिद्वार में आने वाले प्रवासियों के लिए थर्मल स्क्रीनिंग और मेडिकल जांच की व्यवस्था की गई है इसके बाद सभी लोगों को घर भेज दिया जाता है। अगर यह लोग जानबूझकर लापता हुए हैं तो इनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

इसे भी पढ़ें- CBSE का बड़ा फैसला, 9वीं और 11वीं में फेल हुए छात्रों को दिया पास होने का एक और मौका

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


लोकप्रिय