यूक्रेन पहुंचने के लिए बाइडेन ने किया 10 घंटे ट्रेन का सफर, सीक्रेट यात्रा के कई खुलासे सामने आए

रिपोर्ट के अनुसार प्लेन में राष्ट्रपति के करीबी सहयोगी, मेडिकल और सुरक्षा अधिकारियों की एक छोटी टीम थी। केवल दो पत्रकारों को बाइडेन के साथ यात्रा करने की अनुमति दी गई थी और उन्हें भी गोपनीयता की शपथ दिलाई गई थी, उनके मोबाइल फोन उनसे ले लिए गए थे।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

यूक्रेन युद्ध के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की कीव की सीक्रेट यात्रा से जुड़े कई खुलासे सामने आए हैं, जिनके अनुसार बाइडेन ने वारसॉ से यूक्रेन की राजधानी कीव जाने के लिए 10 घंटे ट्रेन का सफर किया और इस दौरान सभी के फोन पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। बीबीसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि व्हाइट हाउस के अधिकारियों ने सोमवार को बाइडेन की कीव यात्रा को अभूतपूर्व करार दिया है।

अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन दो दिवसीय यात्रा के लिए सोमवार शाम को अमेरिका से वारसॉ के लिए उड़ान भरने वाले थे। हालांकि, रिपोर्ट में कहा गया है कि उनके यात्रा कार्यक्रम में दो लंबे गैप थे। बीबीसी के अनुसार, दैनिक व्हाइट हाउस प्रेस ब्रीफिंग में पत्रकारों ने नियमित रूप से पूछताछ की, कि क्या बाइडेन कीव की यात्रा करेंगे? इसका उत्तर ना में दिया गया।

महीनों की योजना के बाद 17 फरवरी को ओवल ऑफिस में बैठक के दौरान यूक्रेन की राजधानी का दौरा करने का अंतिम निर्णय लिया गया। रविवार को व्हाइट हाउस के एक आधिकारिक कार्यक्रम में राष्ट्रपति को सोमवार शाम 7 बजे वारसॉ के लिए उड़ान भरते हुए दिखाया गया। वास्तव में, एयर फोर्स वन ने रविवार सुबह 4.15 बजे उड़ान भरी थी।

बीबीसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि प्लेन में राष्ट्रपति के करीबी सहयोगियों, एक मेडिकल टीम और सुरक्षा अधिकारियों की एक छोटी टीम थी। रिपोर्ट में कहा गया कि केवल दो पत्रकारों को बाइडेन के साथ यात्रा करने की अनुमति दी गई और उन्हें गोपनीयता की शपथ दिलाई गई थी, उनके मोबाइल फोन उनसे ले लिए गए थे और राष्ट्रपति के कीव पहुंचने तक उन्हें यात्रा की रिपोर्ट करने की अनुमति नहीं थी।


अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन के अनुसार, रूस को बाइडेन के आने से कुछ घंटे पहले ही यात्रा के बारे में सूचित किया गया था। बीबीसी की रिपोर्ट में कहा गया कि बाइडेन ने कीव जाने के लिए ट्रेन में 10 घंटे बिताए। राष्ट्रपति के साथ सलाहकारों और सिक्रेट सर्विस की उनकी छोटी टीम थी। कीव पहुंचने पर, अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि एक साल बाद, कीव खड़ा है, यूक्रेन खड़ा है। लोकतंत्र खड़ा है।

बाइडेन से पहले, विश्व के कई अन्य नेताओं ने भी युद्धग्रस्त देश का दौरा किया है। सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने पहली बार मार्च 2022 में कीव जाना शुरू किया, जब पोलैंड, स्लोवेनिया और चेक गणराज्य के प्रधानमंत्री ट्रेन से पहुंचे। तत्कालीन-ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने 9 अप्रैल को दौरा किया, उसके बाद कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो, जर्मन चांसलर ओलाफ शोल्ज, फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों और तत्कालीन-इतालवी प्रधानमंत्री मारियो ड्रैगी ने दौरा किया था।

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन और रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन ने 25 अप्रैल को जेलेंस्की से मिलने के लिए कीव का दौरा किया, उस समय शीर्ष अमेरिकी अधिकारी भी उनके साथ थे।
इनके अलावा फर्स्ट लेडी जिल बाइडेन ने पिछले साल मदर्स डे पर यूक्रेन के सुदूर दक्षिण-पश्चिमी कोने के एक छोटे से शहर का औचक दौरा किया, इस दौरान वह अपने यूक्रेनी समकक्ष ओलेना जेलेंस्का से भी मिली थीं।

इसे भी पढ़ेंः रूस-यूक्रेन जंग के बीच अचानक कीव पहुंचे बाइडेन, जेलेंस्की के साथ पुतिन को दी सीधी चुनौती

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;