इज़राइल-हमास युद्ध: गाजा में होगा एक और युद्ध विराम? बंधकों की रिहाई को लेकर मोसाद और CIA चीफ करेंगे बातचीत

गाजा में हमास की कैद से इजरायली बंधकों को छुड़ाने और युद्ध विराम पर बातचीत के लिए मोसाद और सीआईए के प्रमुख कतर के प्रधानमंत्री से मिलेंगे

Israel Hamas War
Israel Hamas War
user

नवजीवन डेस्क

अमेरिकी जासूसी एजेंसी, सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी (सीआईए) के निदेशक और इजराइल जासूसी एजेंसी, मोसाद के प्रमुख गाजा पट्टी में चल रहे इजराइल-हमास युद्ध में अस्थायी युद्ध विराम के लिए यूरोपीय राजधानी में कतर के प्रधान मंत्री से मुलाकात करेंगे। बैठक में अस्थायी युद्धविराम के साथ-साथ हमास की कैद में मौजूद इजरायली बंधकों की रिहाई पर भी चर्चा होगी।

हिब्रू मीडिया के अनुसार, इस मौके पर शिन बेट और मिस्र खुफिया विभाग के प्रमुख भी मौजूद रहेंगे।

सीआईए निदेशक विलियम बर्न्स और मोसाद प्रमुख डेविड बार्निया कतर के प्रधान मंत्री और विदेश मंत्री शेख मोहम्मद बिन अब्दुलरहमान अल-थानी से मुलाकात हमास द्वारा रखे गए शेष 132 बंधकों की रिहाई और गाजा पट्टी में लड़ाई को रोकने पर चर्चा करेंगे। .व्हाइट हाउस के मध्य पूर्व के जार ब्रेट मैकगर्क इसी विषय पर बातचीत के लिए इस सप्ताह कतर और मिस्र में थे।

बंधक वार्ता पर चर्चा के लिए इज़राइल की युद्ध कैबिनेट की गुरुवार रात तेल अवीव में किर्या सैन्य मुख्यालय में बैठक हुई।


बैठक में आईडीएफ बंधक दूत नित्ज़न एलोन और पीएमओ बंधक समन्वयक गैल हिर्श भी उपस्थित थे। बर्न्स और बार्निया कतरी और मिस्र के अधिकारियों के साथ पिछली बैठक में शामिल थे, इसके कारण प‍िछले सा 24 नवंबर और 1 दिसंबर के बीच अस्थायी सप्ताह भर का युद्धविराम हुआ, इसमें 105 बंधकों को मुक्त कराया गया।

शेष बंधकों, जिनमें बच्चे और महिलाएं भी शामिल हैं, को रिहा करने के लिए एक और समझौते को सुरक्षित करने के प्रयासों के बाद से कोई वांछित परिणाम नहीं निकला है। इजराइल रक्षा मंत्रालय के सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि जहां इजराइल एक महीने के युद्धविराम के लिए तैयार है, वहीं हमास युद्ध का स्थायी अंत चाहता है जिसे इजराइल ने खारिज कर दिया है।

हमास ने गाजा पट्टी से इज़राइल रक्षा बलों (आईडीएफ) की वापसी पर भी जोर दिया है, जिसे इज़राइल पूरी तरह से नकार दिया है। प‍िछले साल 7 अक्टूबर को, हमास के आतंकवादियों ने दक्षिणी इज़राइल में हमला किया और 1,200 लोगों की हत्या कर दी, 240 लोगों का अपहरण कर लिया था। इनमें से 105 बंधकों को 24 नवंबर से 1 दिसंबर तक एक सप्ताह के संघर्ष विराम के दौरान रिहा किया गया था।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;