कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन के 100 दिन पूरे, सुरजेवाला बोले- अन्नदाता के संघर्ष को नमन

मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि हो गई है पीर पर्वत सी पिघलनी चाहिए इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए। किसान आंदोलन -100 दिन अन्नदाताओं के संघर्ष को नमन।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

विनय कुमार

कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का आंदोलन जारी है। आज शुक्रवार को राजधानी दिल्ली में जारी किसान आंदोलन के 100 दिन पूरे हो गए हैं। आज इस आंदोलन के 100वें दिन भी देश के किसान इन तीन कृषि कानूनों को वापस करने की अपनी मांग पर अड़े हुए हैं। इस बीच कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए अन्नदातओं को नमन किया है।

उन्होंने ट्वीट करके कहा कि हो गई है पीर पर्वत सी पिघलनी चाहिए इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए। किसान आंदोलन -100 दिन अन्नदाताओं के संघर्ष को नमन।

गौरतलब है कि आंदोलन को और मजबूत करने में पंजाब और हरियाणा समेत देश के अन्य किसान जुटे हुए हैं। दिल्ली बॉर्डर पर जारी किसान आंदोलन में आंदोलनकारियों की संख्या में कोई कमी न आए, इसके मद्देनजर लगातार किसान बॉर्डर का रुख कर रहे हैं। दिल्ली बॉर्डर पर चल रहे विरोध प्रदर्शन में शामिल होने के लिए किसानों का जत्था पंजाब के अमृतसर से दिल्ली के लिए रवाना हो गया है।

इसे भी पढ़ें: अमृतसर से दिल्ली बड़ी संख्या में किसान रवाना, सर्द रातों को काटने के बाद गर्मी में आंदोलन को धार देने की तैयारी

गुरुवार को भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्त राकेश टिकैत ने कहा था कि जब तक सरकार बात नहीं मानेगी, आंदोलन ऐसे ही चलता रहेगा। उन्होंने कहा कि सरकार से अभी बातचीत की कोई गुंजाइश नहीं है, तैयारी लंबी है। टिकैत के इस बयान से यह जाहिर होता है कि बिना मांगें मनवाए बिना वह पीछे हटने वाले नहीं हैं।

इसे भी पढ़ें: किसान आंदोलन के 100 दिन: किसानों का संकल्प- 500 दिन भी लग जाएं तो भी कृषि कानून वापस कराकर ही लौटेंगे

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 05 Mar 2021, 11:59 AM
लोकप्रिय