यूपी विधान परिषद चुनाव में BJP ले रही गुंडागर्दी का सहारा- अखिलेश यादव ने DM-SP पर मिलीभगत का लगाया आरोप

समाजवादी चिंतक डॉ. राम मनोहर लोहिया की जयंती पर लखनऊ के लोहिया पार्क में उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के बाद अखिलेश यादव ने कहा कि जनता ने हमें संघर्ष करने का आदेश दिया है। हम सड़क से विधानसभा तक जनता के मुद्दे उठाएंगे।

फोटोः @yadavakhilesh
फोटोः @yadavakhilesh
user

नवजीवन डेस्क

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि विधान परिषद के चुनाव में बीजेपी गुंडागर्दी का सहारा लेकर लोकतंत्र को खत्म करने में आमादा है। पंचायत चुनाव में भी बीजेपी ने इसी तरह का कार्य किया था और अब विधान परिषद के चुनाव में यही किया जा रहा है। डीएम और एसपी बीजेपी नेताओं और कार्यकर्ताओं से मिले हुए हैं, तभी एटा में इस तरह की घटना हुई है।

अखिलेश यादव बुधवार को समाजवादी चिंतक डॉ. राम मनोहर लोहिया की जयंती पर लखनऊ के लोहिया पार्क में उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के बाद मीडिया को संबोधित कर रहे थे। अखिलेश यादव ने कहा कि जनता ने हमें संघर्ष करने का आदेश दिया है। हम सड़क से विधानसभा तक जनता के मुद्दे उठाएंगे। बीजेपी के लोग गुंडई पर उतर आए हैं और लोकतंत्र को खत्म कर रहे हैं।


सपा प्रमुख ने कहा कि केंद्र सरकार कहती है कि डीजल और पेट्रोल पर उसका नियंत्रण नहीं है, तो चुनाव के समय दाम क्यों नहीं बढ़ते हैं। चुनाव खत्म होने के बाद कंपनियां मुनाफा क्यों कमा रही हैं। डीजल और पेट्रोल से होने वाला मुनाफा बड़े-बड़े उद्योगपतियों की जेब में जा रहा है।योगी सरकार के शपथ ग्रहण को लेकर अखिलेश ने कहा कि यह कोई नई सरकार नही है। यह निरंतरता वाली सरकार है।

अखिलेश ने कहा कि डा. लोहिया ने जो सिद्धांत और रास्ता दिखाया था समाजवादी पार्टी उसी सिद्धांतों पर चलते हुए समाज और देश के लिए काम कर रही है। आजादी के इतने सालों बाद भी बड़ी संख्या में दलित, पिछड़े और अल्पसंख्यकों को उनका हक और सम्मान नहीं मिला है। डा. लोहिया के जन्मदिन पर सपा संकल्प लेती है कि पार्टी ऐसे सभी वर्गों के हक, सम्मान और अधिकार की लड़ाई लड़ती रहेगी।


इसके पहले उन्होंने ट्वीट कर कहा कि विधानसभा में उत्तर प्रदेश के करोड़ों लोगों ने हमें नैतिक जीत दिलाकर 'जन-आंदोलन का जनादेश' दिया है। इसका मान रखने के लिए मैं करहल का प्रतिनिधित्व करूंगा और आजमगढ़ की तरक्की के लिए भी हमेशा वचनबद्ध रहूंगा। महंगाई, बेरोजगारी और सामाजिक अन्याय के खिलाफ संघर्ष के लिए ये त्याग जरूरी है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia