देश और अर्थव्‍यवस्‍था के प्रति गंभीर नहीं हैं पीएम मोदी-वित्‍त मंत्री, सरकार के पास राजस्व की भारी कमी: कांग्रेस

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि पीएम मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण देश और अर्थव्यवस्था के प्रति गंभीर नहीं हैं। कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा कि सत्‍ता में आने के बाद सरकार के पिछले 4 महीनों के कार्यकाल को देखकर यही लगता है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

देश में बिगड़ी अर्थव्यवस्था को लेकर कांग्रेस ने एक बार फिर मोदी सरकार पर हमला बोला है। कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने प्रेस कांफ्रेंस करके कहा कि आर्थिक मंदी के लिए मोदी सरकार जिम्मेदार है।

उन्होंने आगे कहा, “मोदी सरकार को पता ही नहीं है कि अर्थव्यवस्था को कैसे चलाना है। सरकार की गलती की वजह से ही आज भारतीय अर्थव्यस्था का ये हाल हुआ है।” उन्होंने आगे कहा, “पीएम मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण देश और अर्थव्यवस्था के प्रति गंभीर नहीं हैं। सत्‍ता में आने के बाद सरकार के पिछले चार महीनों के कार्यकाल को देखने के बाद यही लगता है कि पीएम और वित्त मंत्री देश और अर्थव्यवस्था के प्रति गंभीर नहीं है। देश में 35 लाख नौकरियां केवल ऑटोमोबाइल सेक्टर में खत्म हुई हैं।”


आनंद शर्मा ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था का आज जो हाल है वैसा आजादी के बाद पहले कभी नहीं हुआ। उन्होंने आगे कहा कि पिछले 7 साल में सबसे बड़ी गिरावट हमारे निर्माण क्षेत्र में आयी है। गंभीर चिंता इस बात को लेकर है कि निवेश टूट रहा है। पूंजीगत वस्तुओं में 21% गिरावट आयी है।

उन्होंने आगे कहा, “टेक्सटाइल सेक्टर में मिल बंद हो रही है। हथकरघा का जाना-माना पानीपत केंद्र लगभग बंद हो गया है, चमड़ा उद्योग संकट में है। सरकार के पास राजस्व की भारी कमी है। सितंबर के आंकड़ों के अनुसार सरकार ने लगभग 24 लाख करोड़ रुपए का बजट अनुमान रखा था, जो 18% से ऊपर है। ये पहले 5 महीने में 7% भी नहीं हुआ। भारत की सरकार का जीएसटी रिफंड, एक्सपोर्ट रिफंड और पीएसयू के बिना भुगतान वाले बिल का आंकड़ा लगभग ₹10 लाख करोड़ है। अगर इसको जोड़ लिया जाए तो, राजकोषीय घाटा 3.3% न होकर 8% से ऊपर होगा।”


उन्होंने आगे कहा, “कल ही सरकार की तरफ से जो आंकड़े सामने आए हैं, वो चौंकाने वाले हैं। जहां तक कैपिटल फोर्मेशन की बात है, कैपिटल गुड्स, जो सीधा निवेश से जुड़ा है, उसमें 21 प्रतिशत गिरावट आई है। तो हम कह सकते हैं कि आज जो भारत की इकोनॉमी है, उसकी स्थिति इतनी गंभीर है कि अगर तुरंत सरकार के पास कोई रुपरेखा नहीं है, कोई सोच नहीं है तो आने वाले दिन देश के लोगों के लिए बहुत कष्टकारी होंगे।”

पीएमसी बैंक का फ्रॉड का जिक्र करते हुए आनंद शर्मा ने कहा कि लोग मुंबई में वित्त मंत्री से गुहार कर रहे थे, जिनका पैसा बैंक में जमा है, जिनके परिवार के सदस्य बीमार हैं, इलाज की सख्त जरुरत है। एक आपात स्थिति जैसी परिस्थितियां कई परिवारों के लिए पैदा हो चुकी है और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी कहती हैं वो इस पर एक कमेटी बनाएंगी और रिजर्व बैंक से बात करेंगी। आप खुद सोचिए, वही वित्त मंत्री और यही सरकार जब रिजर्व बैंक से कंटिंजेंट रिजर्व बफर छीनना है तब सरकार मजबूर नहीं है, पर जब लोगों को तकलीफ है, जिनका पैसा पीएमसी बैंक में है, उनको न्याय नहीं मिलता, तब वित्त मंत्री कहती हैं कि वो रिजर्व बैंक से बात करेंगी।”


जीएसटी को लेकर निर्मला सीतारमण के बयान पर आनंद शर्मा ने पहले तो जीएसटी पर हमारे साथ जो रजामंदी हुई थी, उसको इन्होंने तोड़ा जो कांग्रेस पार्टी के साथ एक अंडर्स्टैंडिंग थी, कॉन्स्टीट्यूशनल अमेंडमेंट संविधान संशोधन, जो हमने पास कराया, हमने स्पष्ट किया था कि तीन ही जीएसटी के रेट होंगे और सबसे ऊपर 18 प्रतिशत होगा। ये पांच जीएसटी के रेट लेकर आए और उसके बाद उसमें कितनी बार इन्होंने तरमीम की, शायद गिनती आप भी भूल गए होंगे।”

जम्मू कश्मीर में संचार के माध्यमों के ठप्प होने से संबंधित एक सवाल पर आनंद शर्मा ने कहा, “जम्मू-कश्मीर भारत का अंतरंग हिस्सा है, और वहां के जो रहने वाले हैं उनका वही अधिकार है, संविधानिक और कानूनी मौलिक अधिकार जो भारत के किसी भी अन्य नागरिक का है। तो उन्हें भी अपने अधिकारों का पूरा लाभ मिले, ये सुनिश्चित करना एक प्रजातंत्र में सरकार की जिम्मेदारी बनती है। खासकर जहां तक कम्यूनिकेशन की बात है, संचार की बात है, वो लोगों के लिए जरुरी है, परिजनों से बात करने के लिए, छात्रों के लिए आवश्यक है।”

इस दौरान उन्होंने मोदी सरकार द्वारा विपक्षी दलों के नेताओं को निशाना बनाने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा, “ये सरकार बदले की भावन से काम कर रही है और विपक्षी दलों के नेताओं को निशाना बना रही है। जो भी दलें उनका विरोध कर रही है उन पर दबाव बनाने के लिए विपक्षी दलों पर कार्रवाई की जा रही है।” उन्होंने कहा कि टीएमसी, टीडीपी, कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के नेताओं जो उनका विरोध कर रहे हैं इसलिए, उन्हें निशाना बनाया जा रहा है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 12 Oct 2019, 2:10 PM
;